Fun Facts From This Year’s List Of Nominees


The nominations for the 91st Oscars were announced Tuesday, with Roma and The Favourite leading the pack. But the statistical quirks that the annual event throws up can be as intriguing as tracking which movies get the most nods.

Here are some fun facts and figures from this year’s list of nominees:

Netflix’s big step forward

Streaming giant Netflix took a major step forward in its quest to be both a distribution king and a purveyor of quality original content with 14 Oscar nominations, including its first for best picture for Roma.

Roma earned 10 nods, while The Ballad of Buster Scruggs – the latest from Joel and Ethan Coen — scored three. The last Netflix nomination went to End Game, which is up for best documentary short subject.

Netflix claimed a 15th nomination for another documentary short, Period: End of Sentencebut it was not listed as a Netflix production in the Academy’s press kit.

In 2018, the company earned eight nominations, half of them for Mudbound. In the years before, Netflix had just a handful of nominations, all in documentary categories.

By comparison, Amazon Studios – which had already broken through in the best picture category in 2017 with Manchester by the Sea – earned three nominations for steamy Polish love story Cold War.

Wakanda forever

For many moviegoers, the Oscars have become somewhat elitist, often rewarding art house fare that not many have seen. But those fans cannot complain this year.

Marvel superhero blockbuster Black Panther – the highest-grossing film of 2018 in North America — scored seven nominations including one for best picture, becoming the first movie based on a comic book to earn the honor.

Oscar winner Lupita Nyong’o, who stars in the film, posted footage on Twitter of the cast celebrating when excerpts from the film premiered at San Diego Comic-Con.

“Seven #OscarNoms for Black Panther, including best picture!! This is our reaction the first time we saw footage from the film and we’re feeling this way all over again today! Thank you @TheAcademy! #WakandaForever,” she wrote on Twitter.

 

 

Beyond its best picture nomination, Black Panther earned nods for costume design, original score, original song (rapper Kendrick Lamar is a nominee in that category), production design, and sound mixing and editing.

Alfonso Cuaron reigns supreme

Alfonso Cuaron’s Roma, a black-and-white cinematic ode to his childhood in 1970s Mexico City — and the mother and nanny who raised him – earned a whopping 10 nominations to lead the contenders.

But the Mexican filmmaker himself scored an impressive feat — four of those nominations are his: for best picture as a producer, best director, best original screenplay and best cinematography.

He joins illustrious company with his achievement: Warren Beatty did the same, scoring four nominations in four different categories – twice – for Heaven Can Wait and Reds.

Joel and Ethan Coen did it for No Country for Old Men.

Snubs and surprises

Industry watchers were shocked that Bradley Cooper was snubbed in the best director category for A Star Is Born – but earned three nominations for best actor, best adapted screenplay and best picture (as a producer).

But they were thrilled to see Spike Lee earn his first directing nomination for BlacKkKlansman. It was his fifth overall — counting two others for the same film. The US filmmaker earned a lifetime achievement award at the 2016 Oscars.

Another major name left off the list was Timothee Chalamet, who had been seen as a likely contender for best supporting actor for his portrayal of a drug addict in Beautiful Boy.

And many expected Won’t You Be My Neighbor? – a critically acclaimed documentary about US children’s show host Mister Rogers — to make the cut. It did not.

 

A happy surprise was a best actress nomination for breakout Roma star Yalitza Aparicio in her debut performance.

For Oscars watcher Sasha Stone, the new voters in the Academy of Motion Picture Arts and Sciences “really did show up and vote in ways we’ve not really seen in the Oscar race, just not in ways we thought they might…surprised. A little weirded out.”

(This story has not been edited by NDTV staff and is auto-generated from a syndicated feed.)





Source link

Delhi’s Air Quality At Year’s Best After Heavy Rain This Morning


This is the first time this year that an AQI as low as 133 was recorded, says CPCB data.

New Delhi: 

Heavy rains drastically reduced the pollution level of the national capital, which recorded the best air quality of this year on Tuesday morning, the authorities said.

According to the Central Pollution Control Board (CPCB) data, the overall air quality index (AQI) in the city was 133, which falls in the ”moderate” category.

This is the first time this year that an AQI as low as 133 was recorded, the CPCB data showed. In first week of January too, the air quality had improved to ”moderate” category for a brief period of time.

Delhi has been battling hazardous pollution level for the past few months and for the last one month the air quality has been oscillating between ”very poor” and ”severe” category.

An AQI between 100 and 200 comes under ”moderate” category, 201 and 300 is considered ”poor”, 301 and 400 ”very poor”, while that between 401 and 500 is ”severe”.

On Tuesday, two areas recorded ”satisfactory” air quality while 32 areas recorded ”moderate” air quality, the CPCB said.

In the National Capital Region, Noida, Faridabad, Ghaziabad, Gurgaon and Greater Noida recorded ”moderate” air quality, it said.

The overall PM2.5 level — fine particulate matters in the air with a diameter of less than 2.5 micrometers — in Delhi was 61, while the PM10 level was 110, it said.

Authorities said the drastic drop in pollution level was due to heavy rain that lashed the Delhi NCR.





Source link

Shah Rukh Khan, Gauri, Hrithik Roshan And Farah Khan In ‘Tuesday Throwback’ Pic From 16 Years Ago


Farah Khan shared this picture with Shah Rukh Khan, Gauri and Hrithik Roshan (Image courtesy: Instagram)

New Delhi: 

Choreographer-filmmaker Farah Khan perhaps didn’t want to wait till Thursday to post this throwback picture, featuring herself with Shah Rukh Khan, Gauri Khan and Hrithik Roshan. This afternoon, Farah lit up Instagram with the ‘Tuesday Throwback’ picture with these stars, taken in 2003 in Koh Samui, Thailand. They were travelling in a tuk-tuk on New Year’s Eve, as revealed by Farah, and were also accompanied by Uday Chopra and close friend Kaajal Anand. “Tuesday Throwback, New Year’s Eve. Only in Koh Samui could Shah Rukh Khan, Hrithik Roshan and Gauri Khan travel in a tuk-tuk. Kaajal and Uday, sorry, you’ll we’re sitting on the opposite side,” Farah captioned the post, adding hashtags like ‘memories’ and ‘a night to remember.’

Take a look at the throwback photo here.

 

 

As a choreographer, Farah Khan has frequently collaborated with Shah Rukh and Hrithik for several films, including their 2001 blockbusterKabhi Khushi Kabhie Gham. In 2004, she debuted as a director with Main Hoon Na, which starred Shah Rukh Khan in the lead role. Om Shanti Om and Happy New Year, her other two films as a director, were also headlined by SRK while for Tees Maar Khan, she signed Akshay Kumar in the lead role.

On the work front, SRK, last seen in Zero, has a biopic on astronaut Rakesh Sharma, titled Saare Jahan se Achha, in the pipeline. Meanwhile, Hrithik Roshan’s next film is Super 30, a biopic on mathematician Anand Kumar. He has also signed up for an untitled film with Tiger Shroff and Vaani Kapoor, directed by Siddharth Anand.





Source link

2 Ex-Central Bank Of India Officials Jailed 3 Years For Committing Fraud


Three persons, including two former Central Bank of India officials, were jailed for 3 years.

Bhopal: 

Three persons, including two former Central Bank of India officials, were sentenced to three years of imprisonment by a CBI court for defrauding the bank to the tune of Rs 122 lakh, the agency said on Monday.

A special Central Bureau of Investigation court sentenced former bank senior manager K. K. Chourasia, former assistant manager Vasant Pawase and Uday Singh Thakur , the managing director of a Bhopal-based construction company in the fraud case. 

According to the CBI, the two bank officials had processed, sanctioned and disbursed housing loan to the tune of Rs. 122.48 lakh in the name of 13 Individuals without verifying their credentials including that of the private company. 

A charge sheet was filed by the CBI for various offences including criminal conspiracy by the CBI and the trial court after convicted them sentenced them to three years of rigorous imprisonment along with fine. 





Source link

China’s Birth Rate Falls To Its Lowest In 70 Years


China allowed urban couples to have 2 children in 2016, replacing a one-child policy in place since 1979.

BEIJING: 

China’s birth rate last year fell to its lowest since the founding of the People’s Republic of China 70 years ago, official data showed on Monday, as looser population controls fail to encourage couples to have more babies.

The birth rate stood at 10.94 per thousand, the lowest since 1949 and down from 12.43 per thousand in 2017, data from the statistics bureau showed. The number of babies born in 2018 fell by two million to 15.23 million.

The rate of natural increase in population, deducting the number of deaths, also slowed to the lowest since the aftermath of a disastrous famine in the early 1960s.

China allowed urban couples to have two children in 2016, replacing a one-child policy in place since 1979, with policymakers wary of falling birth rates and a rapidly growing aging population.

In January, a government-affiliated think tank warned that the population in the world’s second-biggest economy could start to shrink as soon as 2027.

The statistics bureau did not suggest a reason for the birth rate decline but economic growth last year fell to its lowest in nearly three decades.

 

 

 

 

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)





Source link

Kulhads To Make Comeback To Railway Stations 15 Years After Introduction


The move to use kulhads in railways stations will be a big boost to local potters

New Delhi: 

Having been elbowed out by the more utilitarian plastic and paper cups over the years at railway stations, “kulhads” which were introduced by former railway minister Lalu Prasad 15 years ago are all set to make a comeback at catering units.

Railway Minister Piyush Goyal has instructed caterers at Varanasi and Rae Bareli stations to use terracotta-made “kulhads”, glasses and plates, according to a circular issued by the board to the chief commercial managers of Northern Railway and the North Eastern Railway.

The move will not only give passengers a refreshing experience but also provide a huge market for local potters who are struggling to make ends meet, officials said.

“Zonal railways and the IRCTC are advised to take necessary action to ensure use of locally produced, environmentally savvy terracotta products like ”kulhads’‘, glasses and plates for serving items to passengers through all static units at Varanasi and Rae Bareli railway stations with immediate effect so that local terracotta product manufacturers could easily market their products,” the circular stated.

The proposal had come in December last year from the chairman of Khadi and Village Industries Commission (KVIC) who had written a letter to Mr Goyal, suggesting that these two stations be used to generate employment for potters around the area.

“We have been giving potters electric wheels which have increased their productivity from making 100 cups to around 600 cups a day. It was important to give them a market to sell their wares and generate income. With the railways agreeing to our proposal, lakhs of potters have now got a readymade market,” KVIC Chairman V K Saxena told PTI.

“It”s a win for all. The entire community is thankful to the railways and hopefully we can do this across its network eventually,” he said, adding that he is expecting the daily production of pottery to reach 2.5 lakh to meet the demands of these two stations.

Under the Kumhar Sashaktikaran Yojana, the government has been distributing electric wheels to potters to increase their productivity.

In Varanasi, the prime minister’s parliamentary constituency, around 300 such wheels have been distributed with 1,000 more in the pipeline.

In Rae Bareli, the parliamentary constituency of UPA chairperson Sonia Gandhi, 100 have been distributed with 700 more to be given out.

Over all, the KVIC will distribute around 6,000 electric wheels across the country this year, Mr Saxena said.

In 2004, Lalu Prasad had introduced “kulhads” to boost the dying pottery industry and also give passengers a taste of eco-friendly cups. He had made it clear that hot beverages should be served only in “kulhads”.

Though no specific allocation was made for “kulhads” in the rail budget, railway officials said it was included in the target of sundry other earnings, placed at Rs 1,072 crore.

However, efforts of the railways did not get much traction from both passengers and vendors who complained about the poor quality of earthen cups.

At most stations, paper and plastic cups are used to serve beverages. But with the present government batting for the green and eco-friendly ”Made in India” produce, “kulhads” could have a longer innings this time, the officials said.





Source link

Suresh Prabhu Says India Could Become $5 Trillion Economy In 7 Years


Union Commerce Minister Suresh Prabhu at the Vibrant Gujarat Global Summit in Gandhinagar.

Gandhinagar: 

Union Commerce and Civil Aviation Minister Suresh Prabhu said today that India has the potential to be a $5 trillion economy in the next 7-8 years

Addressing a seminar on exports at the Vibrant Gujarat Global Summit in Gandhinagar, Mr Prabhu said his department had prepared a road map to make this possible by focusing on manufacturing, service sector and agriculture.

“India has a potential to be a $5 trillion economy in 7 to 8 years, and definitely a $10 trillion economy before 2035,” he said.

“Manufacturing should lead to export. This will bring quality and competitiveness. Our cumulative export stands at around half a trillion dollars. The challenge is to double it,” he said.

Mr Prabhu added that India can increase exports to Africa and Latin American countries.

To boost air connectivity in the country, 100 new airports will come up in the near future with a cumulative investment of $65 billion, he added. 

On Saturday, two MoUs were signed between the Gujarat government and Airports Authority of India for establishing greenfield airports at Dholera and Ankleshwar.
 





Source link

Sohrabuddin sheikh encounter case not solve yet After Long 13 Years


21 दिसंबर 2018 को सीबीआई की विशेष अदालत ने अजीबोगरीब फैसला सुनाया. सीबीआई की विशेष अदालत के जज एस जे शर्मा ने कहा कि मामले में सबूत पर्याप्त नहीं है इसलिए सभी 22 आरोपियों को बरी किया जाता है. इतना ही नहीं तो जज ने तुलसी प्रजापति की पुलिस मुठभेड़ में मौत को सही पाया लेकिन सोहराबुद्दीन शेख के कथित एनकाउंटर को अनसुलझा ही छोड़ दिया. दोनों मुठभेड़ों में कोई लिंक नहीं साबित होने का हवाला दे कथित साजिश की पूरी कहानी को ही दरकिनार कर दिया. पर ये नहीं बताया कि सोहरबुद्दीन को किसने मारा और कौसर बी की मौत कैसे हुई? अलबत्ता तीनों की मौत का दुख जरूर जताया. सवाल है जब मौत हुई है तो किसी ने तो मारा है पर 13 साल में सीआईडी, सीबीआई की जांच और अदालती मुकदमे के बाद भी इसका खुलासा नहीं हो पाया. आखिर क्यों?

सोहराबुद्दीन शेख के भाई रूबाबुद्दीन शेख का कहना है कि कानून अंधा है सुना था लेकिन सीबीआई और जज भी अंधे हैं ये भी देख लिया. रूबाबुद्दीन पीड़ित परिवार से है इसलिए फ़ैसले के खिलाफ उसकी नाराजगी स्वाभाविक है. लेकिन कानून और कचहरी की थोड़ी भी जानकारी रखने वाला शख्स भी अदालत के इस फैसले को पचा नहीं पा रहा है. ऐसा क्यों?

विशेष सीबीआई जज ने 21 दिसंबर को अपना फैसला सुनाते हुए ये माना कि सोहरबुद्दीन की मौत गोली लगने से हुई लेकिन गोली किसने मारी ये साबित नहीं हो पाया. जबकि 26 नवम्बर 2005 की सुबह सोहराबुद्दीन को मारने का दावा खुद गुजरात की एटीएस और राजस्थान की पुलिस ने किया था. 

सोहराबुद्दीन मामले में अदालत ने कहा, सीबीआई हत्याओं की मंशा बताने में नाकाम रही 

पेंच नंबर – 1 

26/11/2005 को अहमदाबाद एटीएस पुलिस थाने में FIR दर्ज कराई गई थी. राजस्थान में उदयपुर जिले के प्रतापनगर पुलिस थाने के पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान की शिकायत पर दर्ज एफ़आईआर में कथित एनकाउंटर की पूरी कहानी है. जिसमें ये साफ साफ लिखा है कि सोहराबुद्दीन शेख पर कुल 8 गोलियां चलाई गईं थी. जिनमें से 3 राउंड पुलिस इंस्पेक्टर एन एच डाबी, 2 राउंड पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान, सब इंस्पेक्टर हिमांशु सिंह ने 2 और श्याम सिंह ने एक राउंड गोली चलाई थी.

ये सिर्फ दावा नहीं था तत्कालीन डीएसपी एम एल परमार ने पंचों के सामने सभी 8 गोलियों के खाली खोल बरामद कर फोरेंसिक लैब में भी भेजा था और फोरेंसिक लैब में साबित भी हुआ था कि 3 गोलियां एक बंदूक से, दूसरी 2 दूसरी एक बंदूक से, बाकी के 2 और 1 अलग-अलग बंदूक से चली थीं.

अब चुंकि ये सभी गोलियां पुलिस वालों ने खुद अपनी – अपनी सर्विस पिस्तौल और रिवॉल्वर से चलाई थी इसलिए उनके रिकॉर्ड से आसानी से ये साबित किया जा सकता था कि वो उनके पास उस दिन थी या नहीं? ये किया गया लेकिन 2 साल बाद साल 2007 में. तब पुराना रिकॉर्ड लिया ही नहीं गया. नतीजा पुलिस वालों को मुकरने का मौका मिल गया. जबकि एफ़एसएल की जांच में सभी बंदूकों से गोली चलने की पुष्टि हुई और सबसे बड़ी बात है कि सोहरबुद्दीन शेख की जांघ से निकाली गई बंदूक की गोली आर्टिकल 27 के तौर पर बरामद इंस्पेक्टर एन एच डाबी की बंदूक से चली थी इस बात की भी पुष्टि हुई थी. और तो और आरोपी क्रमांक -7 अब्दुल रहमान, आरोपी क्रमांक -8 हिमांशु सिंह रावत और आरोपी क्रमांक-9 श्याम सिंह चरण की रोजनामा में दर्ज था कि सोहराबुद्दीन को गोली उन्होंने मारी. ये बात चार्जशीट में भी आई थी.

पेंच नंबर – 2

अब बात करते हैं सोहराबुद्दीन के शव की. मेडिकल अफसर गवाह पी डब्ल्यू 74 ने अदालत में बताया है कि 26/11/2005 की सुबह 6.25 पर अहमदाबाद एटीएस के पुलिस इंस्पेक्टर एन एच डाबी सोहराबुद्दीन शेख का शव अस्प्ताल लेकर आए थे. गवाह के मुताबिक उसने मरीज की जांच की तब उसे मृत पाया. उसके बाद शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दर्ज जानकारी के मुताबिक तत्कालीन डीवाई एसपी एम एल परमार ने उस शव की पहचान शेख सोहरबुद्दीन अनवरुदीन के रूप में बताई थी. पोस्टमार्टम डॉक्टर गवाह पी डब्ल्यू- 34 ने इस बात की पुष्टि की है. मतलब साफ है कि कथित मुठभेड़ के बाद आरोपी पुलिस वाले ही सोहराबुद्दीन को अस्पताल ले गए फिर शव का पोस्टमॉर्टम करवाया.

पेंच नंबर – 3 

एनकाउंटर के बाद दावा किया गया था कि सोहराबुद्दीन के पास से कुल 9 आर्टिकल बरामद हुए थे. उसमें 46000 रुपये, एक माला, सूरत से अहमदाबाद का एक रेल टिकट, कर्णावती ट्रैवेल्स का एक विजिटिंग कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, किसी सजाउदीन शेख का विजिटिंग कार्ड इत्यादि. हैरानी की बात है कि इन सभी पर सिर्फ माला को छोड़ दें तो किसी औऱ पर खून का एक धब्बा भी नही लगा था जबकि एनकाउंटर के बाद इनकेस्ट पंचनामा में सोहराबुद्दीन का शव ऊपर से नीचे तक खून से सना बताया गया था.

दूसरी बात, ऊपर बरामद सभी आर्टिकल ना तो अस्पताल में बरामद किए गए थे और ना ही शव के पास से. जानकारी के मुताबिक सभी आर्टिकल एम एल परमार ने एटीएस के दफ्तर में पंचों के सामने बरामद दिखाए ये कहकर कि मेडिकल अफसर गवाह पी डब्ल्यू -74 ने पुलिस इंस्पेक्टर एन एच डाबी को अस्पताल में दिये थे. इससे मामले में लीपापोती की बात साफ जाहिर होती है.

पेंच नंबर – 4

एटीएस दफ्तर के पंचनामा में ही सोहराबुद्दीन के पास से ही नोकिया मॉडल नम्बर 1100 का एक मोबाइल फोन भी बरामद होने का दावा किया गया था. लेकिन हैरानी की बात है जब एफ़एसएल में उस फोन के सिम कार्ड की पड़ताल की गई तो वो मध्यप्रदेश का निकला. उसमें आंध्रा और मध्यप्रदेश के फोन नंबर तो मिले लेकिन गुजरात के एक भी नम्बर नहीं मिले. अगर संदिग्ध गुजरात में किसी बड़ी कार्रवाई के लिये आ रहा है तो कोई तो स्थानीय मदद लेने के लिए फोन करता जैसा कि पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान ने अपने पहले बयान में दावा किया था कि सोहराबुद्दीन लतीफ गैंग की मदद से आतंकी साजिश को अंजाम देने आया था. इतना ही नहीं तो सोहराबुद्दीन की लोकेशन गुजरात सर्किल में भी सिर्फ 25 नवंबर की रात 21 बजकर 44 मिनट के आसपास मिली है. उसके पहले 18 नवंबर को महाराष्ट्र गोवा था, 19 और 22 नवम्बर को आंध्रप्रदेश सर्किल थी और 23 नवम्बर की सुबह फिर से  महाराष्ट्र गोवा सर्किल थी. इस लिहाज से देखें तो सीबीआई का जो आरोप है कि सोहराबुद्दीन शेख और उसकी पत्नी जब हैदराबाद से संगली जा रहे थे तभी 23 नवम्बर को दोनों को बस से उतारकर महाराष्ट्र होते हुए गुजरात ले गए. वहां पहले उन्हें दिशा फार्म में रखा गया उसके बाद अरहम फार्म हाउस में. फिर 26 नवंबर की सुबह नरोल सर्कल के पास मुठभेड़ में मारा दिखा दिया गया.

सोहराबुद्दीन-प्रजापति केस: कोर्ट की CBI पर तल्ख टिप्पणी, नेताओं को फंसाने के लिए गढ़ी गई कहानी

पेंच नंबर – 5

26/11/2005 को दर्ज एफ़आईआर में बताया गया था कि सोहराबुद्दीन शेख हीरो होंडा मोटरसाइकिल से आ रहा था तभी उसे पहचान कर समर्पण करने के लिये कहा गया लेकिन उसने गोली चला दी बदले में पुलिस ने भी गोली चलाई. लेकिन एफएसएल की रिपोर्ट की मानें तो उन्हें जब मोटरसाइकिल की जांच की तो उसका हैंडल लॉक था और उसकी चाबी भी नहीं थी. सवाल है अगर मोटरसाइकिल का हैंडल लॉक था तो सोहराबुद्दीन उसे कैसे चला सकता था और अगर हैंडल लॉक बाद में किया गया तो चाभी क्यों नही जप्त दिखाई गई? बाद में पता चला था कि उक्त मोटरसाइकिल किसी शौक सिंह की थी और उसने 25 नवम्बर को ही मोटरसाइकिल चोरी होने की शिकायत दर्ज कराई थी. अगर मोटरसाइकिल चोरी हुई थी तो उसकी असली चाबी उसके मालिक के पास होनी चाहिए थी. लेकिन चाभी बरामद ना कर उसे अधूरा ही छोड़ दिया गया क्यों? क्या इसलिये कि उससे पता चल जाता कि मोटरसाइकिल प्लांट की गई थी? 

पेंच नंबर- 6 

गुजरात के डीआईजी डीजी वंजारा ने सोहराबुद्दीन शेख के एनकाउंटर के कुछ दिन बाद राजस्थान के पुलिस महानिदेशक ए एस गिल को पत्र लिखकर उदयपुर पुलिस टीम के पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान, सब इंस्पेक्टर हिमांशु सिंह, सब इन्स्पेक्टर श्याम सिंह को पुरस्कार और प्रमोशन देने की अनुशंसा की थी. डी जी वंजारा ने अपने सिफारिशी पत्र में लिखा था कि उदयपुर के एसपी दिनेश एम एन और गुजरात एटीएस की टीम साल भर से इसके लिए काम कर रही थी. वंजारा ने आगे ये भी लिखा था कि इस गौरवपूर्ण काम के लिय एसपी दिनेश एम एन को भी पुरस्कृत किया जाना चाहिए. वंजारा के ये पत्र भी चार्जशीट का हिस्सा हैं. सोहराबुद्दीन शेख की मौत और उसे मारने का दावा भरा पत्र एक अहम दस्तावेजी सबूत है.

अब बात तुलसी प्रजापति केस की

सीबीआई की विशेष अदालत के जज एस जे शर्मा ने 21 दिसंबर को अपने फैसला सुनाते हुए कहा था कि तुलसी प्रजापति मुठभेड़ मामले में कुछ ऐसे गवाह हैं जिन्होंने उसे रेल गाड़ी में देखा था. जिससे ये साबित होता है कि वो रेल गाड़ी से भागा था और बाद में पुलिस मुठभेड़ में मारा गया. पर जज ने आगे ये भी जोड़ा कि सीबीआई ऐसा कोई सबूत नहीं पेश कर पायी जिससे ये साबित हो कि दोनों ही वारदातों में कोई लिंक हो.

तुलसी प्रजापति को भीलवाड़ा में एक किराये के मकान से गिरफ्तार किया गया था. आरोप है कि तुलसी प्रजापति को भी उसी दिन भीलवाड़ा से पकड़ा गया जिस दिन अहमदाबाद में सोहरबुद्दीन का एनकाउंटर हुआ था. क्या ये महज संयोग हो सकता है या फिर साजिश का हिस्सा जैसा कि चार्जशीट में आरोप लगाया गया है? 

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर : CBI राजनीतिक उद्देश्य से लिखी कहानी को साबित करने के लिए झूठे सुबूत गढ़ती रही

ये सवाल इसलिए उठा है क्योंकि तुलसी की गिरफ्तारी की तारीख जान बूझकर 29/11/2005 को दिखाई गई ताकि दोनों ही मामलों को जोड़ कर साजिश साबित ना हो सके. तुलसी को 26/11/2005 को उठाया तो भीलवाड़ा से गया लेकिन गिरफ़्तारी हाथीपोल पुलिस थाने में दिखाई गई वो भी 29/11/2005  की रात में. जबकि उदयपुर के एसपी दिनेश एम एन की मंथली रिपोर्ट में लिखा गया है कि 29/11/2005 को शाम 5 बजे वो अंबामाता पुलिस थाने गए और वहां हामिद लाला की हत्या के आरोप में गिरफ़्तार आरोपियों से पूछताछ की थी. जबकि हाथीपोल पुलिस थाने में दर्ज डायरी में आरोपी को लाने का समय तकरीबन 10 रात लिखा गया है. मतलब तुलसीराम को पहले से ही पकड़ कर डिटेन कर रखा गया था. अंबामाता पुलिस थाने के एसएचओ रणविजय गवाह पी डब्ल्यु- 67 ने 164 के तहत बयान दिया था कि एसपी दिनेश एम एन ने उसे कहा था कि गिरफ्तारी बाद में दिखाएंगे. हालांकि अदालत में गवाही के दौरान वो अपने पुराने बयान से मुकर गया.

इतना ही नहीं तुलसी प्रजापति अहमदाबाद में पटेल बंधुओं पर गोली चलाने का भी आरोपी था. इसलिये अहमदाबाद एटीएस पुलिस अफसर चार्जशीट गवाह पी डब्ल्यू -227 ने भी तुलसी प्रजापति से पूछताछ की थी. पूछताछ की उस रिपोर्ट में तुलसी ने खुद बताया था कि उसे भीलवाड़ा से 26 नवंबर 2005 को ही पकड़ा गया था. सोहराबुद्दीन शेख और तुलसी प्रजापति मामले में लिंक को साबित करने के लिये ये एक अहम सबूत हो सकता था लेकिन हैरानी इस बात की है कि मुकदमे में चार्जशीट गवाह पी डब्ल्यू -227 को की अदालत में गवाही नहीं हो पाई.

इसी तरह राजस्थान पुलिस के अफसर सुधीर जोशी गवाह पी डब्ल्यु 159 ने जिसका 164 के तहत बयान भी हुआ था कि आरोपी नम्बर -7 मतलब पुलिस इन्स्पेक्टर अब्दुल रहमान और एसपी दिनेश एम एन ने फोन पर 26 नवंबर को ही बताया था कि तुलसी प्रजापति समीर नाम से भीलवाड़ा के एक मकान में छुपा है. उसके बाद ही तुलसी को उसी दिन भीलवाड़ा से पकड़ा गया. लेकिन अदालत में गवाही के दौरान वो मुकर गया. उसने तारीख ना बताकर नवंबर महीने का आखिरी सप्ताह बताया. उस समय सीबीआई के सीनियर पीपीबीपी राजु का फर्ज बनता था कि वो उसके 164 के तहत दिए पुराने बयान उसके सामने रखते. लेकिन उन्होंने ऐसा जानबूझकर नहीं किया या गलती से रह गया ये पता नहीं. 

पत्रकार की गवाही नहीं हो पाई 

26 नवम्बर को तुलसी की गिरफ़्तारी वाली बात वहां के एक स्थानीय अखबार प्रातःकाल में भी छपी थी. सीबीआई ने उसे अपना गवाह भी बनाया था, उसने एक्सीडेंट होने का हवाला दे बाद में आने का वक्त भी मांगा था. लेकिन बाद में जब उसे बुलाने के लिए सीबीआई ने जज एस जे शर्मा के सामने प्रस्ताव रखा तो बताते हैं कि जज सीनियर पी पी बी पी राजू पर नाराज हो गए थे. यहां तक कह दिया था कि पत्रकार इधर उधर की सुनी बातों पर खबर बनाता है उसके बात पर कितना भरोसा करना? साथ में ये कहा कि अगर मैं बुलाता हूं और वो समाधान कारक जवाब नहीं दे पाता है तो मैं उसे सजा भी दे सकता हूं. उसके बाद सीबीआई शांत हो गई. सवाल मुठभेड़ में तुलसीराम के मार गिराने के दावे पर भी कई हैं.

अब आते हैं सीबीआई की विशेष अदालत के जज एस जे शर्मा के फैसले पर  

जज एस जे शर्मा का पूरा फैसला तकरीबन 350 पन्नों का है. जिसमें सिलसिलेवार तरीके से उन्होंने ने हर उठने वाले सवालों के जवाब देने की कोशिश की है. क्योंकि उन्हें भी इस बात का अंदाजा है कि उनका फैसला आसानी से सभी के गले उतरना मुश्किल है. शायद इसीलिए उन्होंने ने अपनी टिप्पणी में लिखा है, “हो सकता है इस फैसले से समाज और पीड़ित परिवार में गुस्सा और झुंझलाहट पैदा हो. लेकिन बिना पुख्ता सबूत के सिर्फ भावनाओ में बह कर फैसला नहीं दिया जाता. अभियोजन पक्ष की जिम्मेदारी होती है कि केस को साबित करे वो भी पुख्ता सबूतों के आधार पर.”

जज के मुताबिक, आरोपी क्रमांक – 7 अब्दुल रहमान अपने डिस्चार्ज एप्लिकेशन में ही उस दिन अहमदाबाद में होने से मना कर चुका है. राजस्थान पुलिस के डी वाय एस पी सुधीर जोशी का दावा है कि पुलिस इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान के फोन से उन्हें कॉल आया था कि तुलसीराम भीलवाड़ा में किराये के मकान में छुपा है. लेकिन ना तो जोशी और ना ही अब्दुल रहमान के मोबाइल फोन की जांच की गई. रहमान के फ़ोन के सीडीआर और डेटा उसकी लोकेशन पता चल सकती थी लेकिन वो भी नहीं किया गया. उदयपुर के एस पी दिनेश एम एन का ड्राइवर पूरनमल मीणा जो मामले में अहम गवाह था वो मुकर गया. लोग बुक में भी सिर्फ एस पी दिनेश एम एन के विजिट का उल्लेख है. सब इंस्पेक्टर हिमांशू और श्याम सिंह के बारे में भी ये साबित नही हो पाया कि दोनों वारदात के पहले या बाद में मौके पर थे. जांच एजेंसी ने उनका मोबाइल फोन जब्त नहीं किया गया नाही सीडी मिला जिससे उनकी लोकेशन मिल सकती थी. यहां तक के गुजरात ए टी एस के पुलिस अफसरों का मोबाइल लोकेशन भी नहीं लिया गया. 

एटीएस के इंस्पेक्टर एनएच डाबी जिनपर सोहराबुद्दीन को 2 गोली मारने का आरोप है उसका भी मौके पर होना साबित नहीं हो पाया. क्योंकि पुलिस के ड्राइवर भी अदालत में मुकर गए. उनका कहना है कि हम वहां ऑफिस की गाड़ी नही ले गए थे . हम वहां गये ही नहीं थे. रही बात सोहराबुद्दीन की जांघ से मिली गोली का डाबी के रिवॉल्वर की होने की पुष्टि की तो उस रिवॉल्वर से गोली चली थी ये तो एफ़ए एल में साबित हुआ, लेकिन वो रिवॉल्वर उस  दिन डाबी के पास थी ये रिकॉर्ड से साबित ही नहीं हो पाया. कथित बंदूकों के ईशु करने का भी सबूत भी नहीं मिला. उनके रिकॉर्ड भी नहीं जमा किये गए. खाली कारतूसों से बंदूकों के मिलान से जुड़े सवाल के जवाब भी नहीं मिल पाए. 

जज के मुताबिक, अस्पताल में सोहराबुद्दीन के शव की पहचान करने वाले डीवायएसपीएमएल परमार मामले में अहम गवाह बन सकते थे लेकिन उन्हें आरोपी बना दिया गया. जज का दावा है कि सीआईडी और सीबीआई दोनों भी अपनी कहानी साबित करने में फेल रहे.  सबूतों को सही तरीके से जुटाए नहीं गये. प्राथमिक सबूत भी नहीं मिल पाया. मैं असहाय हूं  सीबीआई की कहानी के मुताबिक, सोहराबुद्दीन शेख अपनी पत्नी के साथ इंदौर से हैदराबाद गया था. वहां गुजरात एटीएस की टीम गई. सोहराबुद्दीन शेख अपनी पत्नी कौसर बी के साथ हैदराबाद से सांगली की बस में जा रहा था. उस बस में तुलसीराम प्रजापति भी था. तभी 23 नवंबर को हैदराबाद से पीछा कर रही पुलिस टीम ने बस रुकवाकर तीनों को उतारकर अपनी हिरासत में ले लिया. तुलसीराम को बाद में छोड़ दिया गया लेकिन सोहराबुद्दीन और कौसर बी की हत्या कर दी गई. लेकिन जज एस जे शर्मा की मानें तो पूरे मामले की तीन-तीन एजेंसियों ने जांच की. पर एक भी एजेंसी सोहराबुद्दीन शेख और कौसर बी के इंदौर से हैदराबाद जाने की बात साबित नहीं कर पाई. 

सोहराबुद्दीन एनकाउंटर केस: अमित शाह की गिरफ्तारी से लेकर अंतिम फैसले तक, जानें इस पूरे मामले में कब,कहां,क्या-क्या हुआ?


वहां वो मारुति कार से गया ये बताया गया लेकिन कार जब्त नहीं हुई. उसका दोस्त कलीमुद्दीन जिसने सोहराबुद्दीन को हैदराबाद में देखने का दावा किया था उसका बयान नहीं लिया गया. तुलसीराम के वहां होने का दावा किया गया था लेकिन उससे भी नहीं पूछा गया. कलीमुद्दीन उर्फ नईमुद्दीन की बहन जिसे आपा नाम से पुकारते थे और जिसने सीबीआई को बताया था कि सोहराबुद्दिन और कौसर बी हैदराबाद आये थे उसने भी सीबीआई की कहानी को सपोर्ट नहीं किया. उनके हैदराबाद में रहने का कोई सबूत नहीं मिलने से पूरी यात्रा की कहानी ही संदिग्ध है. यहां तक कि जिस बस में गए थे.  उस बस का टिकट भी सोहराबुद्दीन और कौसर बी के नाम ना होकर किसी सलमान और  शेख अहमद के नाम बुक था. पर वो कौन थे ये पता नहीं चला. हैरानी की बात है कि ना तो ट्रैवेल एजेंट और ना कोई और उन दोनों के फ़ोटो पहचान पाया. यात्रियों में एक आप्टे दंपत्ति ने उनकी फोटो देख जरूर बस में होने का दावा किया था. उनका 164 के तहत बयान भी हुआ था लेकिन मुकदमे के दौरान अदालत के दोनों मुकर गए. 

सोहराबुद्दीन के भाई रुबाबुदिन ने एकबार कहा था कि सोहराबुद्दीन ने बताया था कि वो सांगली बस से जा रहा था. लेकिन जब जांच हुई तो रूबाबुद्दीन का वो फोन जमा ही नहीं किया गया. वरना उससे कुछ पता चल सकता था. 

बताया गया कि कौसर बी उस समय पेट से थी. लेकिन उसके लिए कोई मेडिकल पेपर नहीं जमा किये गए और अगर वो गर्भवती थी तो हैदराबाद में बस में बैठाकर सांगली ले जाने का क्या तुक था ?  इंदौर से हैदराबाद अगर वो कार से गए तो हैदराबाद से सांगली के लिए बस क्यों ? बताया गया कि अहमदाबाद एटीएस की एक टीम हैदराबाद गई थी. लेकिन कौन सी गाड़ी,  वहां कहां रुके इसके भी कोई पुख्ता सबूत नहीं पेश किये गए. 

यहां तक कि वहां सीआरपीएफ गेस्ट हाउस के रिकॉर्ड में  जिस कालिस कार का नंबर नोट था उसे चलाने वाले गुजरात एटीएस के ड्राइवर नाथुबा जडेजा चार्जशीट गवाह पी डब्ल्यु 105और दूसरे ड्राइवर गुरुदयाल सिंह चार्जशीट गवाह पी डब्ल्यु -106 जो स्टार गवाह थे. उन्होंने बताया कि वो नम्बर प्लेट उन्होंने  22 नवंबर को  बदली थी, जबकि रजिस्टर्ड में 21 नवंबर को ही वो नंबर नोट किया गया था. 

पुणे के सिद्धु ढाबा में उन दोनों के अपहरण के बाद खाना खाने की बात बताई जा रही है वो भी साबित नहीं हो पाई. गवाह मुकर गए. बताया गया कि वहां से सभी को बलसाड़ लाया गया. बलसाड़ से  तुलसी को जाने दिया गया. अगर दोनों को मारना था तो तुलसी को क्यों छोड़ दिया गया और सालभर बाद मारा गया ? अगर उसे भी मारना था तो तभी उसे भी मुठभेड़ में मारा दिखा सकते थे. 

मामले में जो शिकायकर्ता है रूबाबुद्दीन शेख उसे पता ही नहीं था कि तुलसीराम प्रजापति भी उन दोनों के साथ था. रूबाबुद्दीन ने बताया था कि तुलसीराम ने उज्जैन में एक पेपर सही कर दिया था और उसे पछतावा था कि उसकी वजह से सोहराबुद्दीन शेख की मौत हुई. ये बात भी साल 2006 में हुई थी लेकिन उसने साल 2011 में बताई. पहले क्यों नही बताया ? ये बात भी जेल के कैदियों से सुनी सुनाई थी. जेल में सुनी सुनाई बात को सच कैसे माना जा सकता है जब जेल के कैदी भी अपनी बात से मुकर गए हों.  

सीबीआई की कहानी है कि तुलसीराम हैदराबाद से बस में सोहराबुद्दीन के साथ बस में था, जबकि भीलवाड़ा में जिस मकान से तुलसीराम को गिरफ्तार किया गया था उस मकान मालिक चन्दनकुमार झा ने बताया है कि 15 दिनों से तुलसी उस मकान में था. अदालत के मुताबिक, जितनी भी कड़ी जोड़ने की कोशिश की गई वो  जुड़ी ही नहीं. इसलिए सोहराबुदीन को किसने मारा ये साबित नहीं हो पाया. कौसरबी का क्या हुआ ये पता नहीं चल पाया. खास बात है कि इतनी सारी खामियों के बाउजूद  जज एस जे शर्मा ने पैरवी अफसर विश्वास मीणा और सीबीआई के सीनियर पीपीबीपी राजू की ये कहकर प्रशंसा की है कि दोनों ने केस साबित कराने के लिए बहुत कोशिश की.  

‘सोहराबुद्दीन मुठभेड़ फर्जी नहीं था’, कोर्ट ने सभी 22 आरोपियों को बरी किया, पढ़ें मामले की 10 बड़ी बातें

नहीं जुड़ पाए साजिश के तार ? 

सीबीआई का आरोप रहा है कि सोहरबूद्दीन शेख और तुलसी प्रजापति मुठभेड़ एक ही साजिश का हिस्सा थी. इसलिए सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर दोनों मामलों की साथ में जांच की गई  और आरोपियों की संख्या बढ़कर 38 हो गई. लेकिन कालान्तर में जांच में खामियों का फायदा उठाते हुए साजिश के सभी 16 आरोपी आरोप मुक्त हो गए. बच गए थे तो 22 वो पुलिसकर्मी जो मौका ये वारदात पर मौजूद थे. आरोप पत्र में मामले में कुल 700 के करीब गवाह थे. लेकिन बुलाया गया सिर्फ 210 को उसमें भी साजिश से जुड़े गवाहों को नही सिर्फ दोनों मुठभेड़ के पंच, डॉक्टर, संबंधित पुलिस वाले और जांच अधिकारी. उसमें भी 92 मुकर गये. साजिश से जुड़े गवाहों को ये कहकर नहीं बुलाया गया कि जो आरोपी आरोप मुक्त हो चुके हैं उनसे जुड़े गवाहों का क्या काम ? यहां तक गवाहों के क्रॉस एक्जामिनेशन में भी साजिश के आरोपियों से जुड़े सवालों को पूछने पर भी टोक दिया जाता था. ये सब खुली अदालत में सबने देखा है. साजिश से जुड़ी जांच को अंजाम देने वाले सीआईडी के तत्कलीन जांच अधिकारी रजनीश राय जो मामले में अहम गवाह साबित हो सकते थे उन्हें गवाही के लिए तलब ही नहीं किया गया. 

जज ने अपनी टिप्पणी में साफ कहा है कि मामले में सीबीआई ने सच जानने की बजाय पहले से लिखी लिखाई कहानी को साबित करने में लगी रही. पूरी कवायद राजनितिक उदेश्य से की गई. पर ये भी हकीकत है कि सोहराबुद्दीन शेख की मौत हुई और कौसर बी लापता है. सोहराबुद्दीन के एनकाउंटर की एफआईआर दर्ज है. तो कोई तो उसके लिये जिम्मेदार है. लेकिन 13 साल में सीआईडी और सीबीआई  की जांच और विशेष अदालत में मुकदमे के बाद भी सत्य पर से पर्दा नहीं उठ पाना पूरी व्यवस्था पर से भरोसा उठने जैसा है. 

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति NDTV उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार NDTV के नहीं हैं, तथा NDTV उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

VIDEO: आखिर किसने की सोहराबुद्दीन शेख की हत्या?



Source link

Suresh Prabhu Says Indian Could Become $5 Trillion Economy In 7 Years


Union Commerce Minister Suresh Prabhu at the Vibrant Gujarat Global Summit in Gandhinagar.

Gandhinagar: 

Union Commerce and Civil Aviation Minister Suresh Prabhu said today that India has the potential to be a $5 trillion economy in the next 7-8 years

Addressing a seminar on exports at the Vibrant Gujarat Global Summit in Gandhinagar, Mr Prabhu said his department had prepared a road map to make this possible by focusing on manufacturing, service sector and agriculture.

“India has a potential to be a $5 trillion economy in 7 to 8 years, and definitely a $10 trillion economy before 2035,” he said.

“Manufacturing should lead to export. This will bring quality and competitiveness. Our cumulative export stands at around half a trillion dollars. The challenge is to double it,” he said.

Mr Prabhu added that India can increase exports to Africa and Latin American countries.

To boost air connectivity in the country, 100 new airports will come up in the near future with a cumulative investment of $65 billion, he added. 

On Saturday, two MoUs were signed between the Gujarat government and Airports Authority of India for establishing greenfield airports at Dholera and Ankleshwar.
 





Source link

After 600 Years, Night Watchman Marco Carrara Still Keeps Vigil Over Switzerland’s Lausanne


Marco Carrara, a replacement watchman, poses for a picture on the Lausanne Cathedral bell tower.

Lausanne, Switzerland: 

Every evening, the night watchman clambers to the top of the Lausanne cathedral bell tower and gets to work: he shouts out the time each hour, keeping a six-century-old tradition alive.

The night watchman, one of the last in Europe, no longer alerts this Swiss city to fires, but he does help residents to keep track of the time.

“This is the watchman! The bell has tolled 10. The bell has tolled 10.”

On a cold night in December, Marco Carrara, who takes on the job on the permanent watchman’s days off, repeats the message hourly, only changing the number of chimes that have rung.

Cupping his hands around his mouth, he allows his voice to carry across the rooftops, just as his predecessors have done every evening since 1405.

All year round, from 10:00 pm to 2:00 am, the night watchman, wearing a big black hat and carrying a lantern, steps out to the bell tower railing to serve as a living clock for the people of this picturesque city on the shores of Lake Geneva.

Changing times

The night watchman used to play a far more vital role.

Back when fire constituted a permanent threat to medieval towns and cities built in wood, he was an essential part of a network of watchmen, most of whom patrolled the streets.

From his perch, the cathedral watchman was tasked with sounding the alarm at the first whiff of smoke.

Across Europe, there were “thousands, if not tens of thousands” of watchmen protecting urban spaces from fire, said Renato Haeusler, who holds the permanent watchman position in Lausanne.

But as technology advanced, the once ubiquitous position became largely obsolete and the watchmen all but disappeared across the continent.

Today, Lausanne is one of just seven European towns or cities to have maintained the tradition of a year-round watchman, alongside Annaberg, Celle and Noerdlingen in Germany, Ripon in Britain, Krakow in Poland and Ystad in Sweden.

In Lausanne, the watchman used to be entrusted with manually ringing the bell on the hour, but in 1950, the task fell to automation.

‘Making history come alive’

Haeusler acknowledged to AFP that his position no longer served a true practical purpose.

But “the city is very attached to maintaining this tradition,” stressed the 60-year-old, who served as replacement watchman for 14 years before taking on the permanent position in 2002.

David Payot, a member of Lausanne’s municipal council, agreed.

“This is a way of making history come alive,” he told AFP.

In the early 1960s, an announcement that the night watchman’s hours would be reduced — he used to call out the time from 9:00 pm until dawn — was interpreted by many as a precursor to scrapping the post altogether.

The city was flooded with letters demanding that it maintain the job, Payot said.

Haeusler meanwhile says he likes the “out-of-sync” nature of his work — a profession serving little purpose at a time when today’s reality demands that everything be “profitable and efficient.”

‘Nobility’

Haeusler climbs the 153 worn stone steps to the top of the bell tower to announce the time about four evenings a week, for a salary he says is “well below” the going rate for nighttime work.

But he has a second job too, lighting events and soirees in the region using wax candles. He sometimes spends his hours as a watchman dipping a wick into hot wax to make the candles.

On the evenings that he doesn’t work, a replacement steps in.

“The evenings can be quiet and quite lonely,” Carrara told AFP during one of his shifts last month.

Although sometimes they can be more animated, he said, such as when “Lausanne residents, people from the region, and even tourists have the possibility to visit the watchman.”

“We are both at the heart of the city and outside of it,” he said, adding that he had been drawn to the “nobility of this task”, which runs “counter to utilitarianism”.

Between 600 and 700 people visit the tower during the evening watch each year, according to Haeusler.

‘Our roots’

From his viewpoint more than 40 metres (131 feet) above the city, the watchman can observe it change with the seasons.

“In the summer, it is magnificent. Swifts nest in the upper walkway. They are there in the evening, flying around,” Haeusler said.

He said he felt privileged to be “the last link in a chain of men (doing this job) dating back to the 15th century.”

The watchman’s permanent presence provides a kind of landmark for the residents of the city, he said.

“In a completely chaotic world, I think that it is reassuring to have activities continue for a very long time, becoming traditions, and allowing us to rediscover a few of our roots.”

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)





Source link