Jessica Lal Murder Convict Manu Sharma Moves Delhi High Court Seeks Premature Release


Manu Sharma was sentenced to life imprisonment for the murder of Jessica Lal in 1999. (File)

New Delhi: 

The convict in the Jessica Lal murder case, Siddhartha Vashishta, also known as Manu Sharma, has moved the Delhi High Court, seeking premature release from prison.

The move comes a month after the court ordered the forthwith release of former Youth Congress leader Sushil Kumar Sharma, who had served over 23 years in prison for the murder of his wife Naina Sahni in 1995.

The high court on December 21 last year, ordered Sushil Sharma’s premature release after quashing the recommendations of the Sentence Review Board (SRB), which had rejected his plea to be set free after over two decades of incarceration.

Seeking a similar relief, Manu Sharma, who was convicted and sentenced to life imprisonment for the murder of model Jessica Lal in 1999, has moved the high court.

The matter is likely to be heard on Monday by Justice Najmi Waziri.

Manu Sharma, 43, in his plea filed through advocate Amit Sahni, has sought setting aside of the October 4, 2018 SRB recommendation, rejecting his plea, as well as the December 7, 2018 order of the Delhi government, upholding the board’s view.

The convict has contended that the reports received from several authorities, including the prison, police and social welfare department of the Delhi government, have recommended his premature release from prison.

According to Manu Sharma’s petition, he has served 15 years in jail without remission and over 20 years with remission and therefore, he is eligible for grant of premature release.

Remission is part of a sentence, which is granted to an accused after assessing his behaviour and conduct during his stay in jail and the period of interim bail or parole or furlough. A remission is added to the sentence undergone by a prisoner in jail.

The petition also contends that the high court had, in a PIL on August 3 last year, directed the SRB to strictly act according to its July 16, 2004 order, which had laid down the eligibility criteria for the premature release of a prisoner.

Manu Sharma has claimed that he satisfied the eligibility conditions laid down in the said order, but the board, on October 4, declined to grant him the relief “without giving any cogent reasons”, despite several reports favouring his plea for release.

He has also alleged that the SRB proceedings were not conducted in a fair and impartial manner and were liable to be set aside.

He said the SRB “acted in a biased, unfair and illegal manner” while rejecting his plea for premature release.

Manu Sharma, son of former Haryana minister Venod Sharma, was sentenced to life imprisonment by the high court in December, 2006 for killing Jessica Lal.

The trial court had acquitted him, but the Delhi High Court had reversed the order and the Supreme Court had upheld his life sentence in April, 2010.

Jessica Lal was shot dead by Manu Sharma after she had refused to serve him liquor at the Tamarind Court restaurant owned by socialite Bina Ramani at Qutub Colonnade in south Delhi’s Mehrauli area on April 30, 1999.





Source link

Bihar: The murder of a minor girl, attack on police in Ramgarh thana; Burn the vehicles


पटना:

बिहार के कैमूर जिले के रामगढ़ थाना के बदुरा गांव में शुक्रवार को सुबह एक लड़की की कथित हत्या के बाद आक्रोशित लोगों ने थाने में खड़े वाहनों में आग लगा दी. इस आगजनी में थाना और वहां खड़े कई वाहन जल गए. कई पुलिस वाले गंभीर रूप से घायल हो गए. उन्हें बेहतर इलाज के लिए वाराणसी भेज दिया गया है. बदुरा गांव और आसपास के इलाके में तनाव है.

कैमूर जिले के रामगढ़ में शुक्रवार को ग्रामीणों ने जमकर बवाल किया. सैकड़ों की संख्या में डंडे लेकर आए उपद्रवियों ने रामगढ़ थाने को चारों तरफ से घेर लिया और धावा बोल दिया. उन्होंने थाने में रखे सारे कागजात फाड़ दिए, गाड़ियों में तोड़फोड़ की और एक दर्जन से अधिक गाड़ियों में आग लगा दी. पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए फायरिंग की.

घटना की सूचना मिलते ही मोहनिया डीएसपी रघुनाथ सिंह और भभुआ डीएसपी अजय प्रसाद के नेतृत्व में आधा दर्जन से अधिक थानों की पुलिस, दंगा नियंत्रण वाहन, फायर ब्रिगेड की गाड़ी और पुलिस लाइन से एक बस भरकर पुलिस कर्मी मौके पर पहुंचे. पुलिस ने हालात को नियंत्रण में लेकर लोगों को समझाने का प्रयास किया.

उज्जैन : आरपीएफ जवानों पर हमला करके एके-47 राइफल और कारतूस लूटे

इस बवाल के पीछे एक घटना है जो दो दिन पहले हुई थी. रामगढ़ थाना क्षेत्र के बड़ौरा गांव की दलित नाबालिग लड़की सीएसपी संचालक के पास पैसा निकालने के लिए गई थी. नेट स्लो होने का बहाना करके संचालक ने पैसा नहीं दिया. उसके बाद बच्ची को अगवा करके उसकी हत्या कर दी गई. इस मामले में रामगढ़ थाने ने प्राथमिकी दर्ज नहीं की. इसके बाद शुक्रवार को ग्रामीणों ने सुबह से ही थाने की घेराबंदी कर आगजनी शुरू कर दी. उपद्रवी तत्वों द्वारा किए गए पथराव में मोहनिया डीएसपी रघुनाथ सिंह, मोहनिया सर्किल इंस्पेक्टर विंध्याचल और सैफ के जवान को गंभीर चोटें आईं. लोगों ने इन चारों को डंडों से भी जमकर पीटा.

लड़की के परिजनों का कहना था कि पुलिस एफआईआर दर्ज नहीं कर रही थी. जब तक हम लोगों की मांगों को नहीं माना जाएगा तब तक आक्रोश जारी रहेगा. उनकी मांग है कि 48 घंटे के अंदर आरोपी की गिरफ्तारी हो, पीड़ित परिवार के एक परिजन को सरकारी नौकरी दी जाए और पच्चीस लाख रुपये मुआवजा मिले.

बिहार: नालंदा में राजद नेता की गोली मारकर हत्या, गुस्साए लोगों ने आरोपी के घर को फूंका

पुलिस ने आधा दर्जन उपद्रवी तत्वों को चिन्हित कर हिरासत में ले लिया. मोहनिया डीएसपी की पहल पर हालात सुधर गए थे और शांति हो गई थी लेकिन शरारती तत्व बाद में उपद्रवी तत्वों को छोड़ने की मांग करने लगे. मोहनिया डीएसपी ने उनसे कहा कि जांच कराई जाएगी. जो दोषी होंगे उन पर कार्रवाई होगी और जो दोषी नहीं होंगे उनको रिहा किया जाएगा. इस बात पर शरारती तत्व भड़क उठे और उन्होंने पुलिस पर हमला बोल दिया.

VIDEO : हाजीपुर में थाने पर हमला

इसके बाद सारे पुलिस बैकफुट पर हो गई और उपद्रवियों ने जमकर उत्पात किया. मोहनिया बक्सर रोड के रामगढ़ चौक के पास जमकर आगजनी की गई.



Source link

BJP Leader Manish Bairagi Accused In Mandsaur Municipal Chairman’s Prahlad Bandhwar Murder


According to sources, Manish Bairagi and Manish Bandhwar were having a land dispute (Representational)

Mandsaur: 

Police named Bharatiya Janata Party (BJP) leader Manish Bairagi to be behind the murder of Mandsaur Municipal Corporation Chairman and BJP leader Prahlad Bandhwar today.

Mr Bandhwar was shot at late on Thursday at BPL Square in Madhya Pradesh’s Mandsaur district. He was taken to a hospital where he died.

Police chief Rakesh Mohan Shukla told reporters that the accused has been identified as Manish Bairagi, who is already under the scanner for murder attempt, kidnapping, and half a dozen other crimes.

According to sources, Manish Bairagi and Mr Bandhwar were having a land dispute, and this may be the reason why he was murdered.





Source link

Indian-Origin Man Charged With Murder Of Woman In Singapore: Report


When cops arrived at the scene, the woman was found lying motionless inside a room. (Representational)

Singapore: 

A 34-year-old Indian-origin man has been charged with the murder of a woman in Singapore, who was found dead in a rented apartment, according to a media report.

M Krishnan allegedly killed 40-year-old Mallika Begum Rahamansa Abdul Rahman in an apartment in northern housing estate of Woodlands on Wednesday night, according to a court document.

The police said the two knew each other and were allegedly in a relationship. Both had frequent quarrels, an online portal reported.

When the police arrived at the murder scene after receiving a call at 1:34 am on Thursday, Ms Mallika was found lying motionless inside a room. Paramedics pronounced her dead at the scene, the report said.

Though the accused fled the scene, the police managed to apprehend him a few hours later.

Krishnan, who faces death penalty if convicted of murder, was not represented by a lawyer in court today. Bail was granted and he was remanded at the Central Police Division.

The next hearing for the case has been set for January 25.





Source link

20-Year-Old Man Arrested In Murder Case Of Israeli Student Aiia Maasarwe In Australia


Aiia Maasarwe was killed on the way home from a comedy show in Melbourne just after midnight on Wednesday

Sydney: 

Australia police on Friday arrested a man in relation to the murder of Israeli student Aiia Maasarwe, some two days after her body was found in Melbourne.

The 21-year-old was killed on the way home from a comedy show in Melbourne just after midnight on Wednesday, with her body found in bushes near a tram stop by passers-by several hours later.

A 20-year-old man from the outer suburbs of Melbourne was arrested at 11.20am Friday, police said.

“Homicide Squad detectives have arrested a man as part of the ongoing investigation into the death of Aiia Maasarwe,” Victoria Police said in a statement.

“Police would like to thank the public for their assistance with the investigation.”

Police on Thursday said Maasarwe was killed in a late-night attack while she was speaking on the phone with her sister. 

They described the murder as a “horrendous, horrific attack”.

Campaigners on Friday called for an end to the “epidemic of violence against women” ahead of a vigil in memory Maasarwe.

Several memorials are to be held on Friday, including one where mourners dressed in black will hold a silent vigil on the steps of the Victorian state parliament.

Another memorial plans to fill the 86 tram, which Maasarwe was believed to have ridden on her way home, with red roses that were reportedly her favourite flowers.

Some of the organisers were the same ones who organised a vigil for Eurydice Dixon, a 22-year-old local comedian who was killed in a Melbourne park last year as she was going home.

“We’re as angry as we were last time,” organiser Jessamy Gleeson told Melbourne’s Herald Sun on Friday, adding more needed to be done to keep women safe.

“We shouldn’t have these one-off vigils. There needs to be continued engagement and conversation about violence against women.”

Australia’s Prime Minister Scott Morrison took to Twitter on Friday, calling the crime “an incredibly shocking, despicable and tragic attack”.

“My heart goes out to Aiia’s family and friends and everyone whose life she touched.”

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)





Source link

Gurmeet Ram Rahim Singh Verdict Live Updates In Journalist Ramchandra Chhatrapatis Murder Case, Sirsa On High Alert


नई दिल्ली:

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh Verdict Updates) को पत्रकार रामचंद्र छत्रपति (Ramchandra Chatrapati Murder Case) की हत्या के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. पंचकुला की सीबीआई अदालत ने गुरमीत राम रहीम को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सजा सुनाई. गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim ) सहित सभी चारों आरोपियों को पत्रकार मर्डर केस में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. बता दें कि उम्रकैद की सजा के साथ-साथ सभी दोषियों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया. सजा पर बहस के दौरान सीबीआई ने राम रहीम के लिए मौत की सजा की मांग की थी, लेकिन उसके वकील ने उसकी धार्मिक कामों का कोर्ट में हवाला दिया. बता दें कि मारे गए पत्रकार के परिवार ने दोषियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की थी.

बता दें कि इससे पहले सीबीआई के वकील एचपीएस वर्मा ने बताया कि सीबीआई अदालत ने बुधवार को हरियाणा सरकार की एक अर्जी स्वीकार कर ली थी. इसमें पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में सजा सुनाए जाने के दौरान वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए गुरमीत राम रहीम को पेश करने की अनुमति मांगी गई थी. बता दें कि विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने हत्या मामले में 11 जनवरी को गुरमीत राम रहीम और तीन अन्य – कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह ओर कृष्ण लाल को दोषी ठहराया था. चारों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दोषी ठहराया जा चुका है. 

पत्रकार की हत्या के मामले में राम रहीम दोषी करार, कोर्ट 17 जनवरी को सुनाएगा सजा

 

Gurmeet Ram Rahim Singh Verdict Live Updates:

 

– पंचकुला की सीबीआई अदालत ने गुरमीत राम रहीम सहित चार दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई. सजा के साथ-साथ सभी दोषियों पर 50-50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया.

 

 

– मारे गए पत्रकार के परिवार ने दोषियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की है.

– पंचकूला में एक विशेष अदालत बृहस्पतिवार को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए सजा सुनाएगी.

– अब से कुछ देर में कोर्ट सुनाएगा सजा पर फैसला.

– आज दोपहर 2 बजे सजा के ऐलान की संभावना.

– अधिकारियों ने बताया कि पंचकूला, सिरसा और हरियाणा के अन्य हिस्सों में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं.

– सिरसा में डेरा सच्चा सौदा का मुख्यालय है. पंचकूला अदालत परिसर के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. हरियाणा पुलिस ने अदालत जाने वाले मार्गों पर अवरोधक लगा दिए हैं.

– अदालत ने पत्रकार की हत्या के मामले में सजा सुनाए जाते समय राम रहीम और तीन अन्य की वीडियो कांफ्रेंस के जरिए पेशी संबंधी हरियाणा सरकार की याचिका बुधवार को स्वीकार कर ली थी.

– राज्य सरकार ने मंगलवार को एक याचिका दायर कर कहा था कि डेरा प्रमुख की आवाजाही के कारण कानून-व्यवस्था की स्थिति पैदा हो सकती है.

– 51 वर्षीय राम रहीम अपनी दो अनुयायियों के बलात्कार के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में 20 साल कारावास की सजा काट रहा है. तीन अन्य दोषी कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह और कृष्ण लाल अम्बाला जेल में बंद हैं.

– पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में दोषी ठहराए गए डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम और तीन अन्य को बृहस्पतिवार को सजा सुनाए जाने के मद्देनजर हरियाणा में सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

– 2002 के पत्रकार हत्या मामले में विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने 11 जनवरी को राम रहीम और तीन अन्य को दोषी ठहराया था. राम रहीम और तीन अन्य को जब दोषी ठहराया गया था तब भी वे वीडियो कांफ्रेंस के जरिए पेश हुए थे.

– चारों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दोषी ठहराया जा चुका है. निर्मल सिंह और कृष्ण लाल को शस्त्र कानून के तहत भी दोषी ठहराया गया है. धारा 302 के तहत न्यूनतम सजा आजीवन कारावास और अधिकतम सजा मृत्युदंड है.

निर्मल सिंह और कृष्ण लाल को हथियार कानून के तहत भी दोषी ठहराया जा चुका है. राज्य सरकार ने मंगलवार को एक याचिका दायर कर कहा था कि डेरा प्रमुख की आवाजाही के कारण कानून-व्यवस्था की स्थिति पैदा हो सकती है. गुरमीत अपनी दो महिला अनुयायियों से दुष्कर्म करने के जुर्म में रोहतक की सुनरिया जेल में 20 साल की कैद की सजा काट रहा है. वर्मा ने कहा कि सजा सुनाए जाने के दौरान चारों दोषियों के वकील अदालत में मौजूद रहेंगे. बहरहाल, सजा सुनाए जाने के मद्देनजर पंचकुला और हरियाणा के अन्य हिस्से में सुरक्षा बढ़ा दी गयी है. 

पत्रकार की हत्या के मामले में राम रहीम दोषी करार, कोर्ट 17 जनवरी को सुनाएगा सजा

राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim Singh) के खिलाफ सुनवाई के मद्देनजर आज हरियाणा और पंजाब के कई क्षेत्रों में सुरक्षा बढ़ा दी गई. रेप के मामले में जेल की सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम इस मामले में भी दोषी पाए गए. हरियाणा में, विशेषकर पंचकूला, सिरसा (डेरा मुख्यालय) और रोहतक जिलों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. यहां कानून व्यवस्था से जुड़ी किसी भी स्थिति से निपटने के लिए राज्य सशस्त्र पुलिस की कई कंपनियों, दंगा विरोधी पुलिस और कमांडो बल को तैनात किया जा रहा है. हरियाणा के अतिरिक्त पुलिस महानिरीक्षक (कानून-व्यवस्था) मोहम्मद अकील ने कहा, “हरियाणा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.”   

कौन थे पत्रकार रामचंद्र छत्रपति जिनके मर्डर में गुरमीत राम रहीम को CBI कोर्ट ने पाया दोषी

Timeline of Journalist Ramchandra Chatrapati who killed by Ram Rahim :

  • 24 अक्टूबर 2002- पत्रकार छत्रपति को सिरसा में उनके घर के सामने गोली मारी गई
  • 21 नवंबर 2002 – पत्रकार छत्रपति की मौत हो गई 
  • 2005 – पत्रकार छत्रपति का परिवार सीबीआई जांच की मांग ले हाई कोर्ट पहुंचा
  • 2006- हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दिए
  • 2007- सीबीआई ने राम रहीम को मुख्य आरोपी बनाते हुए चार्जशीट दायर की
  • – राम रहीम के अलावा निर्मल सिंह, कुलदीप सिंह और कृष्णलाल को धारा 302 और 120B के तहत आरोपी बनाया गया 
  • राम रहीम का ड्राइवर खट्टा सिंह सीबीआई का अहम गवाह
  • 11 जनवरी 2019 – राम रहीम सहित सभी आरोपी पंचकुला की सीबीआई अदालत ने दोषी करार दिया
  • 17 जनवरी 2019- लगभग 2 बजे सज़ा सुनाई जाएगी 

     

VIDEO : साहसी पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की कहानी बेटी की जुबानी





Source link

Already In Jail, Gurmeet Ram Rahim Gets Life Term For Journalist’s Murder


Ram Rahim, 51, is currently serving a 20-year prison term in Rohtak’s Sunaria Jail. (File)

Panchkula: 

Self-styled ‘godman’ Gurmeet Ram Rahim Singh has been sentenced to life in prison for the murder of a journalist in 2002.

The three others who were convicted along with Ram Rahim in the murder last Friday have also been given the life term by a special court in Haryana’s Panchkula through video conference this evening. They are Ram Rahim’s close aides.

Ram Rahim, 51, is currently serving a 20-year prison term in Rohtak’s Sunaria Jail for raping two of his followers. His conviction in August 2017 had triggered riots in Panchkula, as his followers went berserk, that left 30 dead and property worth crores vandalized.

There are elaborate security arrangements in place in Panchkula and Sirsa – headquarters of the Dera Sacha Sauda sect headed by Ram Rahim – and other parts of Haryana to maintain law and order situation, officials said.  

Security has also been stepped up outside the Panchkula court complex with Haryana police putting up barricades on roads leading to the court.

The court had yesterday accepted Haryana government’s request that the Dera Sacha Sauda sect head should appear through video conference as moving him could result in a law and order situation.

Ram Chander Chhatrapati was shot in October 2002 outside his house after his newspaper ”Poora Sach” published an anonymous letter narrating how women were being sexually exploited by Gurmeet Ram Rahim Singh at the Dera headquarters in Sirsa.

The case was registered in 2003 and handed over to the CBI in 2006.

Ram Rahim was named the main conspirator in the case.

The three others convicted – Kuldeep Singh, Nirmal Singh and Krishan Lal – are lodged in Ambala Jail.

(With inputs from PTI) 





Source link

Gurmeet Ram Rahim Singh Sentence Verdict : know Journalist Ramchandra Chatrapati Murder Story


नई दिल्ली:

गुरमीत राम रहीम सिंह (Gurmeet Ram Rahim Singh) को पंचकुला की सीबीआई कोर्ट (CBI Court)गुरुवार को पत्रकाररामचंद्र छत्रपति (Ramchandra Chatrapati) की हत्या में मामले में सजा सुनाएगी. रामचंद्र छत्रपति वही पत्रकार थे, जिन्होंने राम रहीम के काले कारनामों का भंडाफोड़ किया था. छत्रपति ने अपने अखबार ‘पूरा सच’ (Poora Sach)में एक पत्र प्रकाशित किया था, जिसमें यह बताया गया था कि डेरा मुख्यालय में राम रहीम किस प्रकार महिलाओं का यौन उत्पीड़न कर रहे हैं. गुमनाम साध्वी की यह वो चिट्ठी थी, जिसमें राम रहीम के खिलाफ तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से गुहार की गई थी. इसके बाद छत्रपति को 24 अक्टूबर 2002 को गोली मार दी गई थी. गंभीर रूप से घायल होने के कारण पत्रकार की बाद में मौत हो गई थी और 2003 में इस संबंध में मामला दर्ज किया गया था. इस मामले को 2006 में सीबीआई को सौंप दिया गया था. जिसने जुलाई 2007 में आरोप पत्र दायर किया था.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए छत्रपति के बेटे अंशुल ने बताया कि उन पर केस वापस लेने के लिए कई बार दबाव बनाया गया. अंशुल ने बताया, ‘हमें पैसों का कोई डायरेक्टर ऑफर नहीं दिया गया था. हालांकि, कई नेताओं द्वारा हम तक यह बात पहुंचाई गई कि पैसा सबसे बड़ा मरहम है. ये ऑफर ऐसे दिए गए कि हमें समझाया गया कि परिवार पहले बहुत कुछ झेल चुका है. अब परिवार को और कोई नुकसान का जोखिम नहीं उठाना चाहिए. मुझे एक बार किसी ने बताया कि मुझे पांच करोड़ रुपए का ऑफर दिया जा रहा है. लेकिन मैंने उसे कभी नहीं ढूंढ़ा कि यह ऑफर किसने दिया.’

कौन थे पत्रकार रामचंद्र छत्रपति जिनके मर्डर में गुरमीत राम रहीम को CBI कोर्ट ने पाया दोषी

51 वर्षीय राम रहीम अपनी दो अनुयायियों के बलात्कार के मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में 20 साल कारावास की सजा काट रहा है. इस मामले के तीन अन्य दोषी कुलदीप सिंह, निर्मल सिंह और कृष्ण लाल अम्बाला जेल में बंद हैं. 2002 के पत्रकार हत्या मामले में विशेष सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने 11 जनवरी को राम रहीम और तीन अन्य को दोषी ठहराया था. राम रहीम और तीन अन्य को जब दोषी ठहराया गया था तब भी वे वीडियो कांफ्रेंस के जरिए पेश हुए थे. चारों को आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत दोषी ठहराया जा चुका है. निर्मल सिंह और कृष्ण लाल को शस्त्र कानून के तहत भी दोषी ठहराया गया है. धारा 302 के तहत न्यूनतम सजा आजीवन कारावास और अधिकतम सजा मृत्युदंड है. मारे गए पत्रकार के परिवार ने दोषियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की है.

दिल्ली का ‘राम रहीम’ : महिलाओं को आश्रम मेें रखा जाता था कैद, परिजन बाहर से ही रोकर चले जाते थे

फैसला सुनाने की संभावना के मद्देनजर हरियाणा और पंजाब के कई हिस्सों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. हरियाणा विशेषकर पंचकूला, सिरसा (डेरा मुख्यालय) और रोहतक जिलों में सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए गए हैं. कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए राज्य सशस्त्र पुलिस, दंगा रोधी पुलिस और पुलिस बल की कई कंपनियां तैनात की गई हैं. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पंचकूला अदालत परिसर के बाहर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. हरियाणा पुलिस ने अदालत जाने वाले मार्ग पर अवरोधक लगाए हैं. 

गुरमीत राम रहीम की 7 राज्यों में कहां-कितनी प्रॉपर्टी? दो बैग भरकर कागजात ले गए अफसर

जिला पुलिस प्रमुखों को निर्देश दिया गया है कि लोगों को अनावश्यक रूप से एकत्र होने की अनुमति नहीं दी जाए और अतिरिक्त सतर्कता बरती जाए. पुलिस ने बताया कि हरियाणा में सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा मुख्यालय के निकट अतिरिक्त पुलिस बल को तैनात किया गया है.    

उल्लेखनीय है कि राम रहीम की दोषसिद्धि के बाद अगस्त 2017 में हरियाणा के सिरसा और पंचकूला में हिंसा भड़क गई थी. इस हिंसा में 40 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हुए थे.

हनीप्रीत का कबूलनामा – बाबा बरी होते तो सत्संग करते, दोषी होते तो दंगा, वही तो किया

VIDEO- पत्रकार हत्‍या मामले में गुरमीत राम रहीम दोषी करार

 



Source link

Clogged Toilet At Hair Salon Reveals Grisly Murder Of Man By Friend In France’s Issoire


The man is a schizophrenic who had been hospitalised twice with mental health issues, prosecutors said

Clermont-Ferrand, France: 

A Frenchman who murdered his friend and dumped body parts into a drain said Wednesday he was driven to kill after being refused money for drugs, a prosecutor said.

The grisly crime took place in the central town of Issoire, where a plumber was called out last week to a hair salon after a customer reported that the toilets were blocked.

On opening a trap door leading to a drain the plumber discovered pieces of flesh, which forensic tests showed as coming from the same body.

The investigation soon led to the apartment above the hair salon, where police found blood on the walls and curtains, a circular saw…and a brain and human liver in the freezer.

They identified a man suspected of being the victim and visited his home, where they found bloodstains.

Footage from the town’s CCTV cameras showed the 36-year-old suspect boarding a train on January 10 after throwing three large bags containing bloodied garments into a bin.

An unemployed drug addict with a string of drugs and theft convictions, he was arrested on his return to Issoire a day later.

The public prosecutor for the central Clermont-Ferrand region, Eric Maillaud, said the suspect confessed Wednesday to killing his 45-year-old friend “because he refused to give him a large some of money to buy drugs.”

A schizophrenic who had been hospitalised twice with mental health issues, he had stopped taking his medication, the prosecutor’s office said. He has not yet been named.

The victim, who also an addict and has also not yet been named by the authorities, had recently inherited a large sum of money, investigators said.





Source link

Man Found Dead In Ghaziabad Flat, His Father Alleges Murder: Police


Police said that cash, a mobile phone and some other belongings were also stolen from the house. (FILE)

Ghaziabad: 

A 23-year-old man was found dead with his hand slit in a flat in Uttar Pradesh’s Ghaziabad, police said on Wednesday. The man was identified as Majid.

His father has complained that Majid, who worked as a welder, was called out of his home by half-a-dozen people and killed.

Police said that cash, a mobile phone and some other belongings were also stolen from the house.

An FIR was registered in the incident and an autopsy conducted. Police said they’re probing angles of enmity, monetary dispute and illicit relations.





Source link