Khesari Lal Yadav Bhojpuri Movie Video Badla Daayan Ka YouTube Trending Total Dhamaal Trailer – खेसारी लाल यादव ने YouTube पर उड़ाया गरदा, बदला डायन का 20 लाख के पार


खास बातें

  1. भोजपुरी फिल्म का यूट्यूब पर धमाल
  2. खेसारी लाल यादव की है फिल्म
  3. बॉलीवुड फिल्म ‘टोटल धमाल’ को दे रही है टक्कर

नई दिल्ली:

भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) ने यूट्यूब पर एक बार फिर तहलका मचाकर रख दिया है. खेसारी लाल यादव यूट्यूब (YouTube) पर अनिल कपूर (Anil Kapoor), माधुरी दीक्षित (Madhuri Dixit) और अजय देवगन (Ajay Devgn) जैसे दिग्गज सितारों की ‘टोटल धमाल (Total Dhamaal)’ से टक्कर लेती नजर आ रही है. यूट्यूब ट्रेंडिंग (YouTube Trending) पर ‘टोटल धमाल’ पहले नंबर पर ट्रेंड कर रही है जबकि खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) की भोजपुरी फिल्म ‘बदला डायन का’ दूसरे नंबर पर ट्रेंड कर रही है.

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: जेठालाल के सरप्राइज के चक्कर में खो गए बापूजी, गोकुलधाम में हाहाकार- Video

सपना चौधरी ने ‘ट्रिंग ट्रिंग’ में डांस से उड़ाया गरदा, हरियाणा की छोरी का बेमिसाल अंदाज- देखें Video

भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) के स्टार खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) की ‘बदला डायन का’ को यूट्यूब पर अभी तक 21 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है. फिल्म में हॉरर का जबरदस्त छौंक है और खेसारी लाल यादव का अंदाज भी खूब पसंद किया जा रहा है. वैसे भी खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) की जोड़ी काजल राघवानी (Kajal Raghwani) के साथ सुपरहिट है, लेकिन इस फिल्म में काजल राघवानी नजर नहीं आएंगी.

सोनू निगम के कंधे पर हाथ रखकर सेल्फी ले रहा था फैन, सिंगर ने मरोड़ा उसका हाथ और…देखें Video

सलमान खान के पापा 83 साल की उम्र में करते दिखे ये काम, Video ने इंटरनेट पर मचाया तहलका

खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) भोजपुरी सिनेमा (Bhojpuri Cinema) के एक्शन स्टार हैं, और उनकी फिल्मों में जबरदस्त एक्शन देखने को मिलता है. पिछले दिनों खेसारी लाल यादव की भोजपुरी फिल्म ‘संघर्ष’ ने जमकर धूम मचाई थी, और भोजपुरी फिल्म को काफी पसंद भी किया गया था. इस भोजपुरी फिल्म में खेसारी लाल यादव (Khesari Lal Yadav) के साथ काजल राघवानी (Kajal Raghwani) भी नजर आई थीं. खेसारी लाल यादव जल्द ही और भी धमाकेदार भोजपुरी फिल्में लेकर आ रहे हैं. 

टिप्पणियां

 

…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…



Source link

Kangana Ranaut movie Manikarnika Producer kamal jain admitted in hospital


खास बातें

  1. कंगना रनौत की आने वाली है फिल्म
  2. ‘मणिकर्णिका’ 25 जनवरी को होगी रिलीज
  3. बीमार प्रोड्यूसर अस्पताल में हुए भर्ती

नई दिल्ली:

फिल्म ‘मणिकर्णिका : द क्वीन ऑफ झांसी’ (Manikarnika – The Queen Of Jhansi) के निर्माता कमल जैन मुंबई के एक अस्पताल में भर्ती हैं. उनके एक साथी ने रविवार को बताया कि निर्माता के गले और छाती में संक्रमण है. जैन के प्रोडक्शन हाउस कैरोज कंटेंट स्टूडियोज के कम्युनिकेशन हेड विकेश कुमार ने इस बात का खंडन किया है कि कथित तौर पर लकवा मारने के बाद जैन की हालत गंभीर है. विकेश ने आईएएनएस को बताया, “वह ठीक हैं. उनके गले और छाती में संक्रमण हुआ है. फिल्म पर हो रहे काम के चलते उन्होंने काफी तनाव ले लिया था, लेकिन संक्रमण अब नियंत्रण में है और दो-तीन दिनों में उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी.”

जाह्नवी कपूर अपनी बहन खुशी संग कुछ यूं दिए पोज, Video में दिखा फैशनेबल अंदाज- देखें

 

जैन की हालत गंभीर होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि लोग बहुत कुछ कहते हैं, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हैं. जैन ने भी ट्वीट करके ‘मणिकर्णिका’ के प्रमोशन में टीम के साथ शामिल नहीं हो पाने पर दुख जताया. उन्होंने पोस्ट किया, “निश्चित रूप से अस्पताल में होने के लिए यह अच्छा समय नहीं है. मेहनत का फल मिलने के समय सबके बीच नहीं होने का दुख है. ‘मणिकर्णिका..’ की टीम-कंगना रनौत, प्रसूनजी, विजयेंद्रजी, शंकर एहसान लॉय, अंकिता मिष्टी और अन्य को याद कर रहा हूं.”

अक्षरा सिंह के साथ हुआ ऐसा धोखा, सोशल मीडिया पर यूं बताई पूरी दास्तां- देखें Video

देखें Video-

 

जैन ने कहा कि जितना जल्दी हो सकेगा वह प्रचार गतिविधियों में शामिल होने के लिए वापस आ जाएंगे. फिल्म 25 जनवरी को रिलीज हो रही है. 

टिप्पणियां

और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…

(इनपुट आईएएनएस से)





Source link

John Wick Chapter 3 Trailer Hollywood Movie Keanu Reeves Halle Berry – जॉन विक को मारने वाले को 10 करोड़ रु. का इनाम, दुनिया भर में मचा तहलका


नई दिल्ली:

हॉलीवुड एक्टर कियानू रीव्स (Keanu Reeves)की मोस्ट अवेटेड फिल्म जॉन विक चैप्टर 3 पैराबेलम (John Wick: Chapter 3 Parabellum) का ट्रेलर रिलीज हो गया है. रिलीज के साथ ही फिल्म (John Wick: Chapter 3 Parabellum) के ट्रेलर ने पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया है. इस फिल्म को बनाया है चाड स्टेल्स्की (Chad Stahelski) ने, फिल्म 17 मई 2019 को रिलीज होगी. अगर आपने पहली दो फिल्में देखी हैं तो आप समझ सकते होंगे कि तीसरी फिल्म (John Wick: Chapter 3 Parabellum) एक्शन पैक्ड होने वाली है. 

ट्रेलर के मुताबिक फिल्म की शुरुआत वहीं से होती हैं, जहां जॉन विक फिल्म का दूसरा भाग (John Wick: Chapter 2) खत्म हुआ था. उसे खतरनाक गैंग से बाहर कर दिया जाता है. फिल्म में कियानू रीव्स (Keanu Reeves) के सिर पर 10 करोड़ रुपये का इनाम रखा गया है. जाहिर है उसे मारने के लिए तमाम लोगों के दिमाग दौड़ रहे होंगे. लेकिन ये जॉन विक है, जोकि आसानी से सबसे निपट लेता है. 

अगर आपको एक्शन फिल्में पसंद हैं और आपने जॉन विक (John Wick) फिल्म के पहले दो भाग देखे हैं तो आप समझ जाएंगे कि इस फिल्म में एक्शन का लेवल और ऊपर बढ़ा दिया गया है. फिल्म में कियानू रिव्स  (Keanu Reeves) अकेले सैकड़ों लोगों से मुकाबला करता है. वो लोगों को जमीन से लेकर पानी के भीतर तक मारता है, सड़कों पर घोड़ा दौड़ता है और 10 करोड़ पाने वालों के सपनों पर पानी फेर देता है. 

इस फिल्म को चाड स्टेल्स्की (Chad Stahelski) ने बनाया है. एक बार अफवाह उड़ी थी कि फिल्म में  कियानू रीव्स (Keanu Reeves) की जगह किसी और स्टार को मौका दिया जाएगा लेकिन बाद में खुद निर्माता कंपनी ने इस पर सफाई पेश की थी. 





Source link

Bombairiya Movie Review: This Tangled Mess Is More Errors Than Comedy


Cast: Radhika Apte, Siddhanth Kapoor, Adil Hussain, Ravi Kishan, Akshay Oberoi

Director: Pia Sukanya

Rating: 1 star (out of 5)

For a movie that gallops at a fair clip, first-time director Pia Sukanya’s Bombairiya is extraordinarily inert. It strives for deadpan humour but falls way short, leaving the audience at the receiving end of a tedious, scrappy, patience-trying guessing game. Bombairiya has bomb written all over it.

One of its principal props, among other daft diversions, is indeed a parcel bomb. It’s in the possession of an angadia (delivery boy), played by Siddhanth Kapoor with wide-eyed amazement (absolutely understandable!), who rides a pink scooter. He dons a helmet of the same hue. But he is no panther, pink or otherwise. He is a scalded cat trapped in a cul-de-sac. The guy is on the run from a bloodthirsty cop.

33s3cg3

Bombairiya Movie Review: A still from the film. (Image courtesy: Instagram)

A bunch of many such oddballs and their mystifying escapades lie at the pulpy heart of Bombairiya. But the film also has a message to deliver about the urgent need for witness protection. We keep hearing of a star witness who’s got to be kept out of harm’s way, but there’s no clarity on the nature of the criminal case that is about to come up for hearing in a court except for stray hints about a missing cop and his dead wife and daughter. Logic never shows up to throw more light on the goings-on and dispel the haze.

The film opens in a dark, dank room where a morose, ageing bomb-maker is at work. The man scribbles a letter addressed to a person whose identity we have no way of knowing and then proceeds to put together an explosive device that we can, with a bit of effort, figure out is meant for a predetermined target. Soon enough, the old man ends up dead.

The convoluted story flits from one thing to another so flightily that it is impossible to focus on any of its multiple characters and plot strands. It is only in the second half that feeble attempts are made to explain the inchoate flurry of scenes that kicks off the proceedings, but given the tangled mess it creates no amount of elucidation can help the film crawl out of its trough.

The courier guy gets into a kerfuffle with a short-fused public relations girl (Radhika Apte). In the melee, he snatches the lady’s mobile phone and scoots. The handset, as it transpires, has a video that could cast a shadow on the career of a hard-drinking movie superstar (Ravi Kishan) who is due to spend time with a fan who has won a lunchtime FM radio show prize. The sozzled actor flees a shoot in his van and resurfaces on a paddle boat in a serene pond sipping whisky.

kbaoisi

Bombairiya Movie Review: A still from the film. (Image courtesy: YouTube)

The harried PR woman, who, when we first see her, tries to send a standee up in flames only to be chased by a group of urchins, has another major irritant to deal with: a wannabe superhero (Akshay Oberoi) who is on the way to a bistro to meet the girl that his parents want him to marry and but gets held for reasons beyond his control. Before he eventually makes it to the family get-together, he buys himself a change of shirt and a fedora to make the right impression. It is a Tex-Mex joint, and he is offered a sombrero. But our Topi-man sticks to the hat of his choice.

There is, however, no cap on the unbridled mayhem that unfolds on the screen. The film is trying to tell us how chaotic a city Mumbai is and how many idiots the teeming metropolis has per square foot. In the process, it actually goes well beyond its avowed ambition. It is as much of an unintelligible jumble as any that the onscreen characters can trigger.

gn7urung

Bombairiya Movie Review: A still from the film. (Image courtesy: Instagram)

Bombairiya never lets you wrap your head around it and that is clearly wholly unintentional. The makers have no inkling what they are after. Neither does the audience. There are a whole lot of clueless characters here, each as incomprehensible as the other.

A politician (Adil Hussain) cools his heels in a VIP prison cell but is constantly on a phone barking orders. At the other end of the line is an encounter specialist (Amit Sial). A police chief (Ajinkya Deo) steps in once in a while but never comes close to restoring order. There is also a lady (Shilpa Shukla), who is both a media entrepreneur and a politician intent on giving the incriminating video a quiet burial.

ecnejid8

Bombairiya Movie Review: A still from the film. (Image courtesy: YouTube)

With all of them working at cross-purposes in a hopelessly purposeless screenplay, the result is an absolute riot but not of the kind that comedies usually aim to be. Bombairiya strives to be a cross between Jaane Bhi Do Yaaron and the better Priyadarshan laugh riots, but possesses neither the inventiveness of the former nor the inspired lunacy of the latter. It crams into its 108 minutes every cliché under the Mumbai sky – bumbling cops, smarmy politicos, a womanizing superstar and his hangers-on, a terror suspect, a comic book-obsessed mamma’s boy, shenanigans of the media industry, a sharpshooter at large and sundry members of the underworld, all pulling in different directions.

When you see an actor like Adil Hussain in a perpetual state of bewilderment and not even trying to look for a way out, you know you are watching a film that he’d shouldn’t have been a part of. He’s up against a screenplay that just doesn’t allow the actors any elbow room. Rarely has Radhika Apte done so much in a film to achieve so little.

Bombairiya is a tangled mess, neither funny nor engaging. It’s a comedy of errors all right – more errors than comedy. Be warned, don’t even think of sitting through it. Torture isn’t funny.





Source link

Salman Khan Playing Cricket Video Viral Bharat Movie Shooting


खास बातें

  1. सलमान खान का वीडियो हुआ वायरल
  2. क्रिकेट मैदान में हाथ आजमाते आए नजर
  3. ‘भारत’ की शूटिंग के दौरान का है वीडियो

नई दिल्ली:

सलमान खान (Salman Khan) कभी साइकिल चलाते नजर आते हैं तो कभी दोस्तों के साथ मस्ती करते हुए उनके वीडियो वायरल हो जाते हैं. लेकिन सलमान खान को क्रिकेट (Cricket) के मैदान पर अपने चौके-छक्कों से फील्डरों के पसीने छुटाते हुए शायद ही किसी ने देखा होगा. लेकिन बॉलीवुड के सुल्तान जिस तरह के चौके-छक्के अपनी फिल्मों से बॉक्स ऑफिस पर लगाते हैं, वैसे ही दनादन शॉट लगाते वे क्रिकेट के मैदान में भी दिखे. सलमान खान ने अपने इंस्टाग्राम (Salman Khan Instagram) एकाउंट पर एक वीडियो शेयर किया है जिसमें सलमान खान क्रिकेट बैट से खिलाड़ियों की नींद हराम किए हैं, और जमकर शॉट खेल रहे हैं.  सलमान खान इन दिनों अपनी फिल्म ‘भारत (Bharat)’ की शूटिंग में भी व्यस्त हैं.

The Accidental Prime Minister Box Office Collection Day 3: अनुपम खेर की फिल्म का शानदार प्रदर्शन जारी, अब तक कमाए इतने करोड़

Kapil Sharma के शो में शत्रुघ्न सिन्हा ने खोले अमिताभ बच्चन के राज, देखें Video

सलमान खान (Salman Khan) ने क्रिकेट के मैदान पर हाथ आजमाने का ये वीडियो अपने इंस्टाग्राम पर डाला है और इस वीडियो में वे क्रिकेट में कमाल के हाथ दिखा रहे हैं. सलमान खान ने इस वीडियो के साथ लिखा हैः ‘भारत खेलेगा…ऑन लोकेशन स्टोरीज…भारत फिल्म…’ इस तरह सलमान खान (Salman Khan) ने बहुत ही दिलचस्प वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है. सलमान खान के क्रिकेट ( Cricket) खेलने वाले इस वीडियो को अभी तक 21 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है, और भाईजान के फैन्स इस वीडियो को देखकर उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे हैं.

तैमूर अली खान ने रणवीर सिंह को दी जबरदस्त टक्कर, Video इंटरनेट पर हुआ वायरल

सपना चौधरी मुस्कुराते हुए गाया ये बॉलीवुड सॉन्ग, Video इंटरनेट पर खूब हो रहा वायरल

सलमान खान (Salman Khan) इन दिनों पूरी शिद्दत के साथ अपनी अगली फिल्म ‘भारत (Bharat)’ की शूटिंग कर रहे हैं, और फिल्म की शूटिंग के दौरान उनके कई तरह के शेड्स भी देखने को मिल रहे हैं. सलमान खान की फिल्म ‘भारत’ को अली अब्बास जफर डायरेक्ट कर रहे हैं. अली इससे पहले सलमान खान के साथ ‘सुल्तान’ और ‘टाइगर जिंदा है’ जैसी फिल्में भी दे चुके हैं और दोनों ही फिल्में सुपरहिट भी रही थीं. ‘भारत’ में सलमान खान के साथ कैटरीना कैफ नजर आएंगी और फिल्म इस साल ईद पर रिलीज होगी. फिल्म रिलीज से पहले ही सलमान खान अपने फैन्स के दिलों की धड़कन इस तरह के वीडियो से बढ़ा रहे हैं.

टिप्पणियां

 

…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…





Source link

indore twinkle dagre murder On the lines of drishyam movie


इंदौर: बॉलीवुड के सिंघम यानी अजय देवगन की दृश्यम फिल्म को बॉक्स ऑफिस खूब सराहा गया. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि इस फिल्म की असल घटना मिनी मुंबई इंदौर में देखने को मिलेगी. ‘दृश्यम’ मूवी को देखकर कांग्रेस नेत्री ट्विंकल डांगरे का अपहरण कर हत्या की घटना को पांच आरोपियों ने अंजाम दिया गया. फ़िल्म में तो आरोपी भले ही बच गए थे, लेकिन इंदौर की घटना को अंजाम देने वाले आरोपी दो साल बाद पुलिस गिरफ्त में आ गए हैं.

अवैध संबंधों से पैदा कलह के चलते युवती के दो साल पुराने हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने शनिवार को स्थानीय बीजेपी नेता और उसके तीन बेटों समेत पांच लोगों को धर दबोचा. पुलिस का दावा है कि आरोपियों ने अजय देवगन की प्रमुख भूमिका वाली मशहूर थ्रिलर फिल्म “दृश्यम” (2015) देखकर हत्याकांड की साजिश रची थी.

डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्रा ने बताया कि बाणगंगा इलाके में रहने वाली ट्विंकल डागरे (22) की हत्या के मामले में बीजेपी नेता जगदीश करोतिया उर्फ कल्लू पहलवान (65), उसके तीन बेटों-अजय (36), विजय (38) और विनय (31) और उसके साथी नीलेश कश्यप (28) को गिरफ्तार किया गया है.

http://zeenews.india.com/
ट्विंकल के शव की तलाश में संदेहियों के बताए प्लॉट पर खुदाई की गई थी.

नाजायज रिश्ते थे
मिश्रा ने बताया कि अन्य महिला से पहले से विवाहित करोतिया के ट्विंकल के साथ कथित तौर पर नाजायज रिश्ते थे. ट्विंकल बीजेपी नेता के साथ उसके घर में रहना चाहती थी. इस बात पर बीजेपी नेता के परिवार में आये दिन कलह होता था.

http://zeenews.india.com/
हत्या का मुख्य आरोपी जगदीश उर्फ कल्लू पहलवान.

बिछिया से मिला सुराग
मिश्रा ने कहा, “कलह से परेशान करोतिया और उसके बेटों ने ट्विंकल की हत्या की साजिश रची. उन्होंने 16 अक्टूबर 2016 को रस्सी के फंदे से युवती का गला घोंट दिया. फिर उसकी लाश को जला दिया.” उन्होंने बताया कि जिस जगह युवती की लाश जलाई गई थी, वहां से पुलिस ने उसकी बिछिया और ब्रेसलेट बरामद किया है.

http://zeenews.india.com/

कुत्ते का शव बरामद
डीआईजी ने बताया, “हमें पता चला है कि आरोपियों ने हत्याकांड की साजिश रचने के दौरान ‘दृश्यम’ फिल्म देखी थी. उन्होंने इस फिल्म के एक सीन की तर्ज पर कुत्ते के शव को एक स्थान पर गाड़ दिया था. फिर यह बात जान-बूझकर फैला दी थी कि उन्होंने गड्ढे में किसी का शव गाड़ा है.” पुलिस अफसर ने बताया, “जब पुलिस ने इस स्थान की खुदाई कराई, तो वहां से कुत्ते के शव के अवशेष बरामद किए गए. इससे पुलिस की जांच कुछ समय के लिए भटक गई.”

मिश्रा ने बताया कि वैज्ञानिक तरीके से मामले की गुत्थी सुलझाने के लिए गुजरात की एक लैब में करोतिया और उनके दो बेटों का ब्रेन इलेक्ट्रिकल आसलेशन सिग्नेचर (बीईओएस) टेस्ट कराया गया. शहर के इतिहास में किसी आपराधिक वारदात को सुलझाने के लिए पहली बार बीईओएस टेस्ट कराया गया.

http://zeenews.india.com/
पूर्व बीजेपी विधायक सुदर्शन गुप्ता के साथ ट्विंकल डांगरे. (फाइल फोटो)

बीजेपी विधायक पर उठे सवाल
ट्विंकल के परिजन प्रदेश की पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार के राज में इस पार्टी के तत्कालीन विधायक सुदर्शन गुप्ता पर करोतिया और उसके बेटों को पुलिस से “संरक्षण” देने का आरोप लगाते रहे हैं. हालांकि, इस बारे में पूछे जाने पर डीआईजी ने कहा कि मामले में गुप्ता की किसी भूमिका को लेकर पुलिस को अभी कोई भी सबूत नहीं मिला है. विस्तृत जांच जारी है.





Source link

The Accidental Prime Minister Movie Review: Anupam Kher’s Film Is Indescribably Vapid


Cast: Anupam Kher, Akshaye Khanna, Suzanne Bernert, Arjun Mathur, Ahana Kumra

Director: Vijay Ratnakar Gutte

Rating: 1.5 Stars (Out of 5)

The timing of The Accidental Prime Minister is no accident. But everything else about the film is. It seeks to capture an important juncture of Indian political history. But devoid of cinematic finesse and totally clueless about how to go about the onerous job, it hits the skids at the very outset and never recovers.

Co-written and directed by first-timer Vijay Ratnakar Gutte, the film has an unequivocal agenda and spares no effort to make its point in bold relief. If there is anything at all going for it, it is the fact that it breaks something akin to new ground: it is Bollywood’s first ‘fiction’ film about real politicians and bureaucrats who held sway over India not all that long ago. So shouldn’t The Accidental Prime Minister have been a riveting political drama? Logically, yes. But it isn’t. It’s indescribably vapid.

It harps persistently upon the pulls and pressures that made Dr Manmohan Singh’s two terms as the PM of India thankless. ‘Family’ is allowed to be uttered only once – the Mahabharata had two families, India has one, quips the PM’s media adviser late in the second half. On a couple of other occasions, the word goes mute obviously on censor board instructions. But the film makes no bones about its intention.

What it tells us is that between 2004 and 2014, India had a weak Prime Minister who was remote-controlled by the Congress president and UPA chairperson Sonia Gandhi, played here by German-born actress Suzanne Bernert. With due apologies to Simmba, tell us something we don’t know! This insider’s view of the workings of the PMO – the film is partly adapted from Sanjaya Baru’s memoir of his four-year association with Dr Singh – has nothing new to offer in terms of either cinematic quality or contemporary history.

So intent is Gutte on portraying a great man let down by his party that he allows other aspects of The Accidental Prime Minister drift. In fact, what plays out on the screen is so risible at times that you’d be forgiven for thinking that the film is the handiwork of the social media cell of a particular party. It is all very well to present a cinematic portrait of a respected economist-turned-reluctant-politician who is painfully soft-spoken, but must a two-term PM of India be turned into such a caricature?

Lead actor Anupam Kher must be commended for putting in a lot of hard work, but his portrayal simply doesn’t work. His performance, which relies more on physical imitation than on genuine empathy, renders Dr Singh as a catatonic, wound-up doll running on precariously low battery. As a consequence, the film’s pivotal character comes across as an amusingly flappable, nervous wreck rather than a sad, forlorn scholar-bureaucrat pitchforked into a role he simply wasn’t cut out for and yet made the most of. The film seems to strip the then PM of his dignity.

The book that Sanjaya Baru wrote was about his years in the PMO as a close aide of Dr Singh during the latter’s first term in office that saw him perform a tightrope walk on the nuclear deal. The film goes beyond that specific period and interpolates developments of later years in the form of news footage and sequences carved out of reportage on Dr Singh’s second term, which was dominated by serious scams – 2G, CWG, coal – and the Anna Hazare anti-corruption movement.

Akshaye Khanna as narrator Sanjaya Baru delivers the film’s stray bright spots, but he bears no resemblance whatsoever to the real-life individual that he impersonates. The actor who probably would have looked the part is theatre person Atul Kumar, who plays one of the key figures in the film’s PMO – national security adviser JN Dixit. Not that Akshaye isn’t watchable – he brings stoic humour into play, with the script requiring him to turn to the camera every now and then and share insider dope and make a wisecrack aimed at the film’s main punching bag, the lady of 10 Janpath, and her son.

Arjun Mathur is cast as Rahul Gandhi but is given little to do. He makes token appearances whenever the film needs a whipping boy. Aahana Kumra as Priyanka Gandhi has even less footage. The only actor other than Akshaye who emerges from this mess unscathed is Divya Seth Shah, who effortlessly settles into the persona of Gursharan Kaur, Dr Singh’s wife.

The Accidental Prime Minister carries an upfront disclaimer that asserts that it is intended only for entertainment and admits that creative liberties have been taken in the interest of dramatisation. The film, however, is neither hugely entertaining nor engagingly dramatic. At the point when Sanjaya Baru, Dr Singh’s media advisor from 2004 to 2008, broaches the idea of a book on his experiences, he says: “Sach likhna itihaas ke liye zaroori hota hai (Writing the truth is important for history). But in the same breath, he acknowledges that truth has many facets. He tells the PM that the proposed book would present only “your” truth and “mine” truth.

 

The film isn’t interested in any sort of nuance and the ‘truth’ is dished out with broad strokes. Senior Congressmen are presented as silly old men – there aren’t any women in the mix except for the one at the top – bent upon digging deep holes for themselves. Pranab Mukherjee and Kapil Sibal get the rough end of the stick. When Sonia Gandhi pulls Dr Singh’s name out of the hat in 2004, the film cuts to the disappointed visage of the actor in the guise of Pranab Mukherjee. Subtlety isn’t Gutte’s forte, so he holds the camera on that face long enough to record a visible grimace.

The director has no pretence of balance or objectivity. Witness Kapil Sibal’s ‘performance’ in his famous “zero loss” press conference. The man is all at sea. The scene would have been funny hadn’t its execution been so silly. The unkindest cut is reserved for Ahmed Patel. He is reduced to a conniving, comic emissary of the party high command. Even a fine actor like Vipin Sharma is left struggling to salvage the part. He is the smirking, sour-faced villain’s henchman – a Bollywood stereotype that has no place in a film that aspires to be a bold, unfettered look at Indian politics. The Accidental Prime Minister is anything but that.





Source link

Plea Against The Accidental Prime Minister Movie Filed In Supreme Court


Screengrab from the trailer of the movie “The Accidental Prime Minister”.

New Delhi: 

A plea has been filed in the Supreme Court challenging the January 7 order of the Delhi High Court which had disposed of a petition seeking to ban the trailer of upcoming movie, “The Accidental Prime Minister”.

The high court had disposed of the writ petition against the trailer but left it open for the petitioner to file a public interest litigation (PIL).

The filing of appeal in the top court came hours after a division bench of the high court dismissed the PIL, which had sought a ban on the film and its trailer alleging it defamed the constitutional post of the Prime Minister.

The film is scheduled to release on January 11.

The movie, which stars Anupam Kher as former prime minister Manmohan Singh, is based on a book of the same name by Mr Singh’s then media advisor Sanjaya Baru.

In the appeal filed in the top court, petitioner Pooja Mahajan has sought stay on exhibition of trailer of the film on YouTube and to suspend the release and exhibition of the movie during pendency of the matter.

The plea, filed through advocate A Maitri, has claimed that “at present if the film is allowed to be released, then it will cause unaccountable damage to the name and fame of the office of Prime Minster of India.”

It alleged that the Central Board of Film Certification (CBFC) should not have given certification to the film as actors have performed the “character of public personalities”, like Manmohan Singh, Congress president Rahul Gandhi and Sonia Gandhi which constitutes an offence under section 416 (cheating by personation) of the Indian Penal Code.

“It is a known fact that film producers have not taken any consent/permission from Manmohan Singh, Sonia Gandhi and Rahul Gandhi to perform their characters or to perform their political life or to dress up in the same way as they had been doing in their normal life or to copy their voice in any manner,” the plea alleged.

It claimed that it “seems that film makers, producers have made an attempt to make commercial gains and the act of impersonation has been committed deliberately to defame the office of Prime Minister just to hype the excitement among the prospective viewers.”

The plea also alleged that if the film will be released, friendly relations with the US and other foreign states were likely to be affected.

“It seems that film has been produced in a selected manner and it clearly shows that it’s a political propaganda with some other motives,” the plea said.

It alleged that the promo of the film showed that the movie has been produced “simply to damage the image” of Manmohan Singh.





Source link

Delhi High Court quashes petition against movie The Accidental Prime Minister


नई दिल्ली:

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह  के मीडिया सलाहकार रहे पत्रकार संजय बारू की किताब पर आधारित  ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’  की रिलीज, ट्रेलर और प्रोमो पर रोक लगाने की मांग को ठुकरा दिया है. हाईकोर्ट ने याचिका का निस्तारण करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता चाहे को इसे जनहित याचिका के तौर पर दाखिल कर सकते हैं.  कोर्ट ने कहा कि आप डिवीज़न बेंच के सामने अपनी याचिका लगाएं. आपको बता दें कि रिलीज से पहले ही विवादों में घिरी अनुपम खेर की फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के प्रोमो को तुरंत रोकने के लिए दाखिल याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट में जस्टिस विभु भाकरू ने सुनवाई की थी.  याचिका में कहा गया था कि प्रधानमंत्री का पद संवैधानिक पद है और यहां पर पूर्व प्रधानमंत्री की इमेज को खराब करने के लिए दिखाए जा रहे प्रोमो पर तुरंत रोक लगाई जानी चाहिए. इससे पूर्व प्रधानमंत्री के साथ-साथ देश की छवि भी खराब होगी.  याचिका में कहा गया है कि ट्रेलर में जो कुछ दिखाया जा रहा है वह भ्रमित करने वाला है और संजय बारू की किताब से अलग हटकर है और पूरी तरह से गलत और फर्जी है.

अनुपम खेर ने कभी क्यों ठुकरा दी थी ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’, बीजेपी को फिल्म से लाभ देने पर क्या बोले ?

वहीं इसी फिल्म को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की भूमिका निभाने वाले अभिनेता अनुपम खेर और अक्षय खन्ना सहित अन्य के खिलाफ बिहार के मुजफ्फरपुर की एक कोर्ट में शिकायत दर्ज की गई है. कोर्ट में लगाई गई याचिका में आरोप लगाया गया कि फिल्म में कई हस्तियों की खराब छवि दिखाई गई है.  वकील सुधीर कुमार ओझा ने मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में याचिका दायर की है. याचिका की सुनवाई सब डिविजनल न्यायिक मजिस्ट्रेट (पश्चिम) गौरव कमल की अदालत में आठ जनवरी को होगी. 

‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ फिल्म पर विवाद गहराया, ट्रेलर पर रोक के लिए याचिका दायर

गौरतलब है इस फिल्म को लेकर कांग्रेस भी हमलावर है, उसका कहना है कि मोदी सरकार के पास चुनाव में दिखाने के लिए कुछ नहीं है इसलिए इस फिल्म को रिलीज कराया जा रहा है.

हम लोग : ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म’ से जुड़े विवाद पर क्या बोले अनुपम खेर​

टिप्पणियां

 

 



Source link

Golden Globes 2019: Spider-Man: Into the Spider-Verse Wins Best Animated Movie


Golden Globes 2019: Spider-Man: Into the Spider-Verse Wins Best Animated Movie

Photo Credit: Sony Pictures Animation

Peter Parker and Miles Morales in Spider-Man: Into the Spider-Verse

Spider-Man: Into the Spider-Verse has won the 2019 Golden Globe Award for Best Animated Feature Film, beating out the likes of Incredibles 2, Isle of Dogs, Mirai, and Ralph Breaks the Internet for the top honour. The Spider-Man spin-off was expected to take home the prize, given the critical acclaim that has been showered on it since release, but it’s still a major win and a bit of a surprise. This is the first win for Sony Pictures Animation at the Golden Globes, which has been dominated by Disney and Pixar — the two were nominated here, as well — since the award’s inception in 2007.

Drawn with a mix of computer-generated art and hand-drawn techniques, Spider-Man: Into the Spider-Verse is the story of Miles Morales (voiced by Shameik Moore), the half-African-American, half-Puerto Rican version of Spider-Man introduced in 2011 by writer Brian Michael Bendis and artist Sara Pichelli. It’s set in a multiverse and features several other Spider-heroes, including two Peter Parkers (Jake Johnson and Chris Pine), Gwen Stacy (Hailee Steinfeld), Spider-Ham (John Mulaney), Peni Parker (Kimiko Glenn), and Spider-Man Noir (Nicolas Cage).

In our review of Into the Spider-Verse, we called it “fresh and unique” for its visual aesthetic and how it embraces the wildness and zaniness of its source material, and praised it for nailing the comic-book look co-writer Phil Lord and producer Christopher Miller were going for, and self-referential and self-aware writing. “It takes a wacky comic storyline with an outlandish concept, and transfers it onto the screen in a fascinating and fresh manner,” we concluded.

Produced with a budget of $90 million, Spider-Man: Into the Spider-Verse has grossed over $275 million (about Rs. 1,909.49 crores) at the worldwide box office. The animated film’s success has convinced Sony Pictures to put a sequel and spin-off into development, with the latter focusing on three generations of female Spider-heroes: Spider-Gwen, Jessica Drew aka Spider-Woman, and Cindy Moon aka Silk.

With its win at the 2019 Golden Globes, Into the Spider-Verse is now a strong contender for the Oscars’ animated category next month.



Source link