Kumar Mangalam’s son Aryaman Birla saved the Madhya Pradesh’s defeat in Ranji Trophy


आर्यमान बिड़ला ने करियर का पहला शतक जमाया. शुभम शर्मा के साथ 171 रन की अविजित साझेदारी कर मध्य प्रदेश को हार से बचाया. 

फॉलोऑन खेल रहे मध्य प्रदेश को कुमार मंगलम के बेटे आर्यमान बिड़ला ने हार से बचाया

मध्य प्रदेश के ओपनर आर्यमान बिड़ला ने बंगाल के खिलाफ 103 रन की नाबाद पारी खेली. (फोटो: IANS)





Source link

Arvind Kejriwal After AAP Councillor Jitendra Kumar Attacked


A damaged car outside the house of Aam Aadmi Party councillor Jitendra Kumar in Delhi

New Delhi: 

A group of over 20 men allegedly fired several shots at the house of an Aam Aadmi Party municipal councillor on Thursday night, the police said this morning. Chief Minister Arvind Kejriwal condemned that attack that put the life of his party’s south Delhi councillor Jitendra Kumar in danger.

“What is going on in Delhi?” Mr Kejriwal tweeted.

Parts of the house were damaged in the attack. The windshield and doors of a WagonR car parked outside the house were also broken by the men. After the attack, a team of Delhi police surrounded the house and secured the site.

“There were 20-25 men. They not only fired bullets but also tried to break in. They threatened to kill me before leaving,” said Jitendra Kumar, councillor of South Delhi Municipal Corporation or SDMC, one of the three civic agencies and the biggest by revenue in Delhi.

s0gco73g

AAP councillor Jitendra Singh said the men threatened to kill him before leaving

All the three municipal corporations are run by the BJP, though the party has only four legislators in the 70-seat Delhi assembly.

“The attack seems to be politically driven. I have filed a written police complaint,” Mr Kumar said.

The police said they are looking for the accused and an investigation is on.

With inputs from ANI

For more Delhi news, click here.





Source link

Bihar : Upendra Kushwaha also dragged BJP in campaign against Nitish Kumar


खास बातें

  1. नीतीश के बचाव में आए सुशील कुमार मोदी को दिया करारा जवाब
  2. कहा- नीतीश ने ‘नीच’ शब्द का उपयोग कर उनका अपमान किया
  3. बीजेपी अध्यक्ष से मिलने के लिए दिल्ली रवाना हुए उपेंद्र कुशवाहा

नई दिल्ली: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को निशाना बनाते रहे रालोसपा प्रमुख एवं केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने गुरुवार को जेडीयू प्रमुख के खिलाफ अपने अभियान में बीजेपी को भी घसीट लिया. इस बीच, यह भी संकेत हैं कि लोकसभा चुनाव में सीट समझौते को लेकर अप्रसन्न कुशवाहा सत्तारूढ़ एनडीए से अलग हट सकते हैं.

कुशवाहा ने अपने इस आरोप को फिर से हवा दी कि कुमार ने उनके खिलाफ ‘नीच’ शब्द का उपयोग कर उनका अपमान किया है. जेडीयू इस आरोप से इनकार कर चुका है. कुशवाहा ने सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री उस समय गलत थे जब बीजेपी पर ‘नीच राजनीति’ करने का आरोप लगाने के लिए उन्होंने प्रियंका गांधी पर हमला किया था.

बिहार के मुख्यमंत्री के बचाव में उतरे राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को जवाब देते हुए कुशवाहा ने गुरुवार को कई ट्वीट किए. सुशील मोदी ने 12 नवंबर को ट्वीट कर कहा था कि कुमार ने ‘नीच’ शब्द का कभी उपयोग नहीं किया किंतु कुछ लोग ‘शहीद’ बनने का प्रयास कर रहे हैं. राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष ने पलटवार करते हुए सवाल किया कि प्रधानमंत्री ने प्रियंका गांधी वाड्रा की टिप्पणी की जो व्याख्या की थी, वह क्या सुशील कुमार मोदी के अनुसार गलत थी. प्रियंका ने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी पर हमला करते हुए ‘‘नीच राजनीति” शब्द का इस्तेमाल किया था. बीजेपी के तत्कालीन प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेन्द्र मोदी ने इस टिप्पणी को उनकी पिछड़ी जाति से जोड़ते हुए आरोप लगाया था कि उनकी पृष्ठभूमि पर हमला किया जा रहा है.


यह भी पढ़ें : उपेंद्र कुशवाहा ने की शरद यादव से मुलाकात, अटकलों को मिली हवा

कुशवाहा ने कहा, ‘‘सुशील कमार मोदी को तब यह भी कहना चाहिए कि नीतीश कुमार सही हैं तथा राज्य में 2015 के विधानसभा चुनाव के दौरान ‘डीएनए मुद्दे’ पर दोनों नेताओं (नीतीश एवं नरेन्द्र मोदी) के बीच वाक युद्ध में नरेन्द्र मोदी गलत थे.” वर्ष 2015 में जब बीजेपी एवं जेडीयू विरोधी खेमों में थे तो नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री की डीएनए टिप्पणी को लेकर प्रधानमंत्री के खिलाफ एक अभियान छेड़ दिया था. नीतीश ने अपने पार्टी जनों से कहा था कि वे अपने बाल एवं नाखूनों के नमूने एकत्र कर दिल्ली भेजें ताकि डीएनए की पुष्टि हो सके.

बताया जाता है कि कुशवाहा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के इस प्रस्ताव से अप्रसन्न हैं कि उनकी पार्टी 2014 की तुलना में इस बार कम सीटों पर चुनाव लड़े. कुशवाहा ने गुरुवार को कहा कि वह सीटों के बंटवारे के मुद्दे पर शाह के साथ विचार विमर्श करेंगे. रालोसपा ने 2014 में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा था और तीनों पर ही उसे सफलता मिली थी.

टिप्पणियां

VIDEO : एनडीए से नाता तोड़ सकते हैं कुशवाहा

कुशवाह ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मैं दिल्ली जाने के लिए पटना से निकल रहा हूं. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ मेरी बैठक में मैं सीटों के बंटवारे पर बातचीत करूंगा.”

(इनपुट भाषा से)



Source link

Upendra Kushwaha Drags BJP, In His Fight Against JD(U) Chief Nitish Kumar


Upenmdra Kushwaha is “unhappy” with Amit Shah’s proposal that his party contest few seats in 2019

New Delhi: 

Rashtriya Lok Samta Party (RLSP) chief and Union Minister Upendra Kushwaha, who has been targeting Bihar Chief Minister Nitish Kumar, today dragged ally BJP into his campaign against the JD(U) chief, amid signs that he was drifting away from the ruling NDA due to unhappiness over seat sharing arrangement for the Lok Sabha polls.

Mr Kushwaha raked up his allegation that Mr Kumar had “insulted” him by using the word “neech, a charge denied by the JD(U), and asked if Prime Minister Narendra Modi was “wrong” in his attack on Priyanka Gandhi Vadra over her “neech rajnitii” (lowly politics) jibe against the saffron party.

He stated this in a series of tweets today in response to Bihar Deputy Chief Minister Sushil Kumar Modi’s defence of the chief minister, who on November 12 tweeted that Mr Kumar had never used the word “neech” (lowly) but some people are trying to become “martyrs”.

Hitting back, the RLSP leader asked if, according to Sushil Modi, the prime minister was wrong in his interpretation of Ms Vadra’s remarks.

During 2014 Lok Sabha election campaign, Ms Vadra had used the term “neech rajniti” to attack the BJP.

Narendra Modi had invoked his backward caste origins to accuse her of targeting his background.

“Sushil Kumar Modi should also then said that Nitish Kumar was right and Narendra Modi was wrong in the war of words between the two leaders over the ‘DNA issue’ during the 2015 assembly polls in the state,” Mr Kushwaha said.

In 2015, Nitish Kumar had built a campaign against the prime minister over his DNA barb at him, asking his partymen to collect samples of hair and nail to be sent to Delhi for verifying the DNA.

Mr Kushwaha, who is said to be unhappy with BJP president Amit Shah’s proposal that his party contest fewer number of seats in 2019 than it did in 2014, also said that he will be discussing the seat sharing issue with Mr Shah.

The RLSP had fought three seats in 2014 and won all.

“I am leaving Patna for Delhi. I will try to talk on the seat sharing arrangement in my meeting with BJP President Amit Shah,” he tweeted.

With the BJP going all out to keep the Bihar chief minister in good humour, political watchers believe it has not gone down well with Mr Kushwaha. 





Source link

Tejashwi Yadav Accuses Neighbour Nitsh Kumar Of Snooping


The 5 Circular Road bungalow was allotted to Tejashwi Yadav when he was the Deputy Chief Minister.

Patna: 

Bihar opposition leader Tejashwi Yadav is upset with his neighbor, whom he has accused of spying and taken to task through a series of furious tweets. The neighbor is Chief Minister Nitish Kumar. Mr Yadav claims the Chief Minister has trained the one of the CCTV cameras in his bungalow across the wall and towards the home of his former deputy. He even attached a photo and a video of the offending camera.

The 5 Circular Road bungalow was allotted to Tejashwi Yadav when he was the Deputy Chief Minister.

When Nitish Kumar broke the Grand Alliance and Mr Yadav ended up as the leader of the opposition, he was asked to vacate it. But in view of its favourable position – the Chief Minister’s house on one side and his parents’ home across the road, the young leader petitioned the Chief Minister to retain it.

But the relation between the two leaders has gone further downhill since.

Over the last months, Mr Yadav had targeted the Chief Minister repeatedly, criticizing him over multiple issues, including law and order, corruption and  farmers’ woes.  

His tweet today read:

“Bihar CM’s residence is surrounded by main roads from 3 sides & Leader of Opposition’s residence from the fourth side. But CM felt the need for CCTV only on the wall bordering his political adversary’s residence? Someone should tell him that these petty tricks will prove futile!” another tweet read.

The Patna region, Mr Yadav said, is witnessing “a heinous crime” every passing second. But the Chief Minister, he said, “is more bothered about snooping into day to day activities of the Opponents & infringing their privacy rather than the security of the citizens!”

In a harsh takedown, Tejashwi Yadav not only accused the Chief Minister of snooping on political adversaries, but also indicated that his commitment to austerity is also fake.

“Nitish Kumar has occupied 3 Chief Ministerial Bungalows (2 in Patna, 1 in Delhi) moreover One exclusive plush suite in Bihar Bhawan! Why self proclaimed austere CM of a poor State has this obsession with luxury & grandeur? Has he got any morality to answer this?”

The Chief Minister-who once indicated that responding to political adversaries is giving them legitimacy — has maintained his habitual silence on Tejashwi Yadav’s attacks.  There has been no response from his government either.





Source link

Tejashwi Yadav accuses Nitish Kumar for installing Camera


खास बातें

  1. नीतीश पर लगाया जानबूझकर तंग करने आरोप
  2. तेजस्वी ने कहा वह ऐसा पहली बार नहीं कर रहे हैं
  3. तेजस्वी ने कहा इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है

पटना: बिहार की सीएम नीतीश कुमार और नेता विपक्ष तेजस्वी यादव के बीच खींचतान बढ़ती जा रही है. इस बार तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार के आवास पर लगे सीसीटीवी कैमरों को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने जानबूझकर अपने आवास में उस जगह ही कैमरा लगवाया है जहां से वह उनके आवास पर नजर रख सके. तेजस्वी यादव ने इसे लेकर  एक ट्वीट भी किया है.उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार का घर के तीन तरफ सड़क और चौथी तरफ मेरा घर है. लेकिन सीएम को लगता है कि उन्हें सिर्फ उसी तरफ कैमरे लगवाने की जरूरत है जिस तरफ हमारा घर है.

 


किसी को सीएम नीतीश कुमार को बताना चाहिए इस तरह के तरीकों का कोई फायदा नहीं होगा. गौरतलब है कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोला हो. इससे पहले तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा था कि नीतीश सरकार ने जैनुल को जिंदा जलाने वाले दंगाईयों को अभी तक इसलिए नहीं पकड़ा है. ताकि वे किसी और को जिंदा जला सके.

यह भी पढ़ें: बिहार में बीजेपी ने मुख्यमंत्री का अपहरण कर लिया : गुलाम नबी आजाद

टिप्पणियां


साथ ही कहा कि नीतीश कुमार चुनाव से पहले सांप्रदायिक माहौल बना वोट पाना चाहते हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की महागठबंधन में अंतरात्मा इसलिए घुट रही थी क्योंकि हमारे रहते उन्हें किसी को जिंदा जलवाने और सांप्रदायिक दंगे प्रायोजित करवाने की छूट नहीं थी. तेजस्वी ने बुधवार को लगातार तीन ट्वीट करते नीतीश कुमार पर निशाना साधा.

VIDEO: तेजस्वी यादव से मिले कुशवाहा


पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ’25 दिन पहले बिहार के सीतामढ़ी में संघ प्रशिक्षित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा संरक्षित उन्मादी भीड़ ने 82 वर्षीय बुजुर्ग जैनुल अंसारी को जमकर पीटा. फिर गला रेत सरेआम चौक पर जिंदा जला दिया था. और तो और प्रशासन ने उन्हें 75 किमी दूर दूसरे जिले में दफनाया.’





Source link

bihar sitamarhi mob lynching tejashwi yadav attacks on nitish kumar – सीतामढ़ी मॉब लिंचिंग: तेजस्वी का नीतीश पर निशाना


खास बातें

  1. सीतामढ़ी में तीन हफ्ते पहले एक बुज़ुर्ग को ज़िंदा जला दिया गया था
  2. अभी तक कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं.
  3. शव घर से 75 किलोमीटर दूर दफनाया

पटना: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद नेता तेजस्वी यादव ने जैनुल अंसारी मॉब लिंचिंग मामले को लेकर बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर बुधवार को निशाना साधा है. तेजस्वी ने कहा कि नीतीश सरकार ने जैनुल को जिंदा जलाने वाले दंगाईयों को अभी तक इसलिए नहीं पकड़ा है. ताकि वे किसी और को जिंदा जला सके. साथ ही कहा कि नीतीश कुमार चुनाव से पहले सांप्रदायिक माहौल बना वोट पाना चाहते हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की महागठबंधन में अंतरात्मा इसलिए घुट रही थी क्योंकि हमारे रहते उन्हें किसी को जिंदा जलवाने और सांप्रदायिक दंगे प्रायोजित करवाने की छूट नहीं थी. 

तेजस्वी ने बुधवार को लगातार तीन ट्वीट करते नीतीश कुमार पर निशाना साधा. पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ’25 दिन पहले बिहार के सीतामढ़ी में संघ प्रशिक्षित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा संरक्षित उन्मादी भीड़ ने 82 वर्षीय बुजुर्ग जैनुल अंसारी को जमकर पीटा. फिर गला रेत सरेआम चौक पर जिंदा जला दिया था. और तो और प्रशासन ने उन्हें 75 किमी दूर दूसरे जिले में दफनाया.’

मॉब लिंचिंग : बिहार में बुजुर्ग को चौक पर जिंदा जलाया, बेटे को 75 किलोमीटर दूर दफनाना पड़ा शव


वहीं दूसरी ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘जनादेश के चीरहर्ता और सृजन चोर मुखिया आदरणीय नीतीश कुमार की नकारा पुलिस ने अभी तक जानबुझकर 82 वर्षीय बुज़ुर्ग को जिंदा जलाने वाले दंगाईयों को नहीं पकड़ा है ताकि वो दरिंदे फिर किसी और को ज़िंदा जला सके. और नीतीश जी चुनाव से पहले सांप्रदायिक तनाव पैदा कर वोटों की फ़सल काट सके.’

एक अन्य ट्वीट में तेजस्वी ने लिखा है, ‘जनादेश चोर सांप्रदायिक मुख्यमंत्री की अंतरात्मा महागठबंधन में इसलिए घुट रही थी क्योंकि हमारे रहते उन्हें किसी को जिंदा जलवाने और सांप्रदायिक दंगे प्रायोजित करवाने की छूट नहीं थी. हमने दंगाईयों को नकेल डाल रखी थी. गोडसे के उपासक सीएम की नैतिकता अब मजे में है क्योंकि संघी संग है.’

EXCLUSIVE : क्या बिहार में तेजस्वी होंगे विपक्ष का चेहरा? कन्हैया कुमार ने दिया यह जवाब…


बता दें, बिहार के सीतामढ़ी में तीन हफ्ते पहले एक बुज़ुर्ग को ज़िंदा जला दिया गया था. बताया जा रहा है कि पिछले महीने हिंसा के दौरान उन्मादी भीड़ ने पहले जैनुल अंसारी का गला रेता और उसके बाद चौक पर जिंदा जला दिया. परिवार को इस घटना का पता तीन दिन बाद चला. हिंसा के दौरान सीतामढ़ी में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी, लेकिन हत्या के तीन दिन बाद जब एक घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बहाल की गई तब जैनुल अंसारी के परिजनों को एक वायरल फोटो मिला, जो उनकी हत्या का था. कहा यह भी जा रहा है कि प्रशासन के दबाव की वजह से जैनुल अंसारी के परिजनों को उनका शव पैतृक गांव से 75 किलोमीटर दूर मुज़फ़्फ़रपुर में दफ़नाना पड़ा. 

पटना में राजद कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, तेजस्वी यादव ने किया प्रदर्शन





Source link

Sushil kumar Mohapatras story on kabaddi gurukul


नई दिल्‍ली: दिल्ली के राजनगर के पार्ट-2 के उस किराये के मकान पर एंट्री करते ही एक लड़की पोंछा लगाते हुए नज़र आई. तब तक हमारा कैमरा भी तैयार नहीं हुआ था.हमें लगा कि शायद यह लड़की यहां काम करती होगी लेकिन जल्‍द ही हमारा भ्रम दूर हो गया. जो लड़की पोंछा लगा रही थी वह सरकारी स्कूल में पढ़ती है और पिछले कई माह से दूसरी छात्राओं के साथ यहां किराये पर रह रही है. मकसद है  अंतरराष्ट्रीय कबड्डी खिलाड़ी बनना. धीरे-धीरे हम उस कमरे तक भी पहुंचे जहां और छात्राएं रहती हैं. एक कमरे में 15 की करीब छात्राएं घेरा बनाकर बैठी हुई थीं. किसी के हाथ में किताब थी तो कोई दूसरे से बात कर रही थी. बातचीत से पता चला कि कोई उत्तर प्रदेश से है तो कोई हरियाणा से, सभी लड़कियां सरकारी स्कूल में पड़ती है और कबड्डी की ट्रेनिंग ले रही हैं.

रचा इतिहास: 31 करोड़ लोगों ने देखा प्रो कबड्डी लीग सीजन-5 का फाइनल मैच

गरीब घर से हैं ये छात्राएं

शुरुआत में जो सवाल हमारे दिमाग में आया था वह शायद आपके मन में भी आ रहा होगा कि कबड्डी की ट्रेनिंग के लिए दिल्ली में किराये के मकान में रहने की क्या जरूरत है. दूसरी बात, अगर किराये पर रहना है तो फिर दो कमरे में तीस लड़कियों को रहने की क्या जरूरत है. सच्चाई यह है यह सभी लड़कियां गरीब घर से हैं, किसी के पिता किसान हैं तो किसी के टेलर, कोई ड्राइवर है तो कोई इलेक्ट्रीशियन. यह सभी लड़कियां नीलम साहू नाम की फिजिकल एजुकेशन टीचर से फ्री में कबड्डी की ट्रेनिंग ले रही हैं. नीलम कोई आम कोच नहीं हैं, वे पिछले 23 सालों से कबड्डी की ट्रेनिंग दे रही है. दिल्ली के सरकारी स्कूल में फिजिकल एजुकेशन टीचर हैं. अभी तक नीलम 600 से भी ज्यादा बच्चों को ट्रेनिंग दे चुकी हैं जिसमें से 9 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.

‘बरेली की बर्फी’ से मिठास फैलाने के बाद अब कबड्डी बेस्ड फिल्म बनाएंगी अश्विनी अय्यर

एक-दूसरे को संभालती हैं लड़कियां

धीरे धीरे इन छात्राओं से बातचीत आगे बढ़ती गई. यहां दो कमरे के साथ साथ एक स्टोर रूम भी है जहां लड़कियां अपना सामान रखती हैं जिसमें किताबें भी शामिल हैं. यहां एक किचन भी है. लड़कियां यहां अपना काम खुद करती हैं. जो बड़ी लड़कियां है, वे खाना बना देती हैं. छोटी लड़कियां झाड़ू-पोंछा में मदद करती हैं. सब एक-दूसरे से मदद करती हैं. सीनियर छात्राएं, जूनियर छात्राएं को संभालती हैं और जूनियर, सब जूनियर को. ये लड़कियां सुबह चार बजे उठ जाती है, खुद ब्रेकफास्ट तैयार करती हैं फिर दो किलोमीटर चलकर ट्रेनिंग ग्राउंड पहुंचती है. ट्रेनिंग के बाद स्कूल जाती हैं और शाम को फिर दो किलोमीटर चलकर ट्रेनिंग ग्राउंड पहुंचती हैं और दो से तीन घंटे प्रैक्टिस करती हैं. इसके बाद डिनर बनाती हैं, यह इनका रोज का रूटीन है.

 

kk74kme4

एनडीटीवी से बात करती हुईं कबड्डी गुरुकुल की छात्राएं

कई लड़कियां राष्‍ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल चुकी हैं

कई लड़कियां ऐसी मिलीं, जो नेशनल और इंटरनेशनल स्‍तर पर खेल चुकी हैं. हरियाणा की साक्षी आठवीं क्लास में पढ़ती है, वह पिछले आठ महीने से यहीं है. साक्षी का सब जूनियर टीम में चयन हो चुका है. साक्षी की पिता टेलर हैं और मां हाउसवाइफ हैं. रेमन हरियाणा के जींद की रहने वाली है. रेमन के पिता किसान हैं और मां हाउसवाइफ. एक तो भारत के लिए कबड्डी खेलना चाहती है और उस के साथ साथ रेलवे में नौकरी भी करना चाहती है. झज्‍जर की एक लड़की का भी सब जूनियर नेशनल टीम में चयन हो चुका है. महाराष्ट्र और ओडिशा में खेलने के लिए जा चुकी हैं. मैडल भी जीतकर आई हैं. नीतू पुरानी दिल्ली की रहने वाली है. एक साल से यहां रहकर ट्रेनिंग ले रही हैं.

मेरठ के रहने वाली तनु को जैसे ही पता चला कि यहां अच्‍छी ट्रेनिंग दी जा रही है तो यहां पहुंच गईं. जींद की पिंकी की दो बहन भी यहीं से कोचिंग ले चुकी हैं और इंटरनेशनल लेवल पर खेल चुकी हैं. अब पिंकी खुद यहां ट्रेनिंग ले रही है. पानीपत की एक छात्रा ने बताया कि वह पिछले चार साल से यहां ट्रेनिंग ले रही है. अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुकी हैं. 2016 में ईरान में एशियाई चैंपियनशिप में भारतीय टीम भी हिस्सा थी. पहले राउंड में खेलने का भी मौक़ा मिला था. कपासेड़ा की रहने वाली एक लड़की ने बताया कि वह खुद भी अंतरराष्ट्रीय और नेशनल खेल चुकी है. बेंगलुरू की प्रीति यहां ढाई साल से हैं. वे मानती है कि सबसे अच्छी कोचिंग यहां दी जाती है. प्रीति का हर महीने 1500 रुपये खर्च होता है, जिसमें रहना और खाना शामिल है.

फ्री में कोचिंग देती हैं नीलम साहू

जैसे ही शाम को चार बजे, यह छात्राएं तैयार होकर मैदान के लिए निकल पड़ीं. हम भी उनके साथ चल पड़े. दो किलोमीटर चलने के बाद यह लोग मैदान पहुंचीं. लड़कियों ने खुद मैदान तैयार किया फिर प्रैक्टिस शुरू कर दी. यहां कोच नीलम साहू से हमारी मुलाकात हुई. नीलम से बताया कि अभी वे 40 बच्चों को ट्रेनिंग दे रही है, इनकी उम्र 9 साल से लेकर 26 साल के बीच है. नीलम ने बताया कि वे फ्री में ट्रेनिंग देती हैं और 1995 से ट्रेनिंग दे रही हैं. नीलम की 9 स्टूडेंट अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुकी हैं और कई नेशनल. नीलम का कहना है कि हर साल कुछ खिलाड़ियों को कबड्डी के बेस पर सरकारी नौकरी मिल जाती है. नीलम ने बताया कि सभी बच्चे गरीब घर से हैं इसीलिए उनसे कभी कोचिंग की फीस नहीं ली. बच्चों से सिर्फ 1500 रुपये लिए जाते हैं जिसमें रहना और खाना शामिल है.

वीडियो: दिल्‍ली में कबड्डी एक एक गुरुकुल ऐसा भी

प्रैक्टिस के लिए सुविधाओं का अभाव

नीलम खुद पालम स्पोर्ट्स क्लब के साथ जुड़ी हुई हैं. नीलम का मानना है कि जब छात्राएं स्कूल से पासआउट हो जाती हैं तो कहीं न कहीं उन्हें प्लेटफॉर्म की जरूरत पड़ती है और पालम स्पोर्ट्स क्लब यह प्लेटफॉर्म देता है. भावना यादव, गायत्री और रितु जैसी खिलाड़ी अभी नीलम साहू के कोचिंग ले रही हैं और अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुकी हैं. नीलम का मानना है कि छात्राओं को सभी सुविधायें नहीं मिल पाती हैं. रहने के लिए सुविधा नहीं है, प्रैक्टिस करने के लिए मैट भी नहीं है. सर्दी के दिन में बच्चों पैर छिल जाते हैं. मदद के लिए नीलम कई जगह लिख भी चुकी हैं लेकिन अभी तक कोई मदद नहीं मिली है.



Source link

Court Relief To Manish Sisodia, Kumar Vishwas, Prashant Bhushan In 2012 Protest Against Coal Block Allocation


Police had accused the leaders of provoking protesters. (File)

New Delhi: 

A Delhi court on Tuesday discharged Deputy Chief Minister Manish Sisodia,lKumar Vishwas and former AAP leader Prashant Bhushan in a 2012 case of allegedly provoking protesters during a demonstration on the coal block allocation issue.

Additional Chief Metropolitan Magistrate Samar Vishal granted the relief to the accused who had staged the protest at the then Congress President Sonia Gandhi’s 10-Janpath residence, Mr Sisodia’s lawyer Mohd Irshad said.

In its order, the court noted that the protest was peaceful and the police lacked evidence to prosecute the accused in the case.

The police had charged Mr Bhushan, Mr Sisodia and Mr Vishwas with provoking people during the protest.

“Bhushan, Sisodia and Vishwas provoked their supporters and marched towards 10-Janpath. Despite warnings and use of water cannons, the crowd became more agitated and marched forward. Seven teargas shells were lobbed and as it did not help, mild force was used to contain them,” the police complaint had said.

The police had alleged that some of the protesters used the flag sticks to beat policemen besides damaging a DTC bus and deflating its tyre.

This was one of the five cases of rioting registered against Chief Minister Arvind Kejriwal, Mr Bhushan, Mr Sisodia, Mr Vishwas, Gopal Rai and several unnamed people after their protest on the coal block allocation issue.





Source link

Union Minister Ananth Kumar To Be Cremated With State Honours Today


Ananth Kumar’s body will be kept at National College grounds in Basavanagudi for last respects.

Bengaluru: 

Union Minister and senior BJP leader Ananth Kumar, who died on Monday morning at a hospital in Bengaluru, will be cremated this afternoon. Vice President M Venkaiah Naidu, BJP President Amit Shah, Home Minister Rajnath Singh and Lok Sabha Speaker Sumitra Mahajan are expected to attend the funeral.

“A state funeral with 21-gun salute and guard of honour will be accorded to the mortal remains of Ananth Kumar,” an official told news agency IANS.

Ananth Kumar was suffering from lung cancer and had returned from the US last month after treatment in New York. The minister’s wife Tejaswini and two daughters were with him in his last moments. His body was kept at his home in Basavanagudi for last respects.

Mr Kumar’s body will be taken to Jagannath Bhavan, the BJP’s state office in Malleshwaram and from there he will be taken to the National College grounds for public homage. He will be cremated around 1 pm at the Chamrajpet crematorium, state BJP General Secretary N Ravi Kumar said.

Despite a busy Monday, Prime Minister Narendra Modi flew into the city from Varanasi in the evening and met Mr Kumar’s family. He offered his condolences and laid a wreath on the glass casket draped in the tricolour.

PM Modi described him as a remarkable leader, an able administrator and a great asset to the BJP. President Ram Nath Kovind termed his death as “tragic loss”.

Ananth Kumar was diagnosed with advanced lung cancer in June. He was initially treated at Sri Shankara Cancer Foundation following which he went to London and later taken to a hospital in New York.

“The cancer had spread to other parts of his body that resulted in his multi-organ failure and death,” the BJP’s state unit spokesman S Shantaram said.

Ananth Kumar was one of the few ministers to have also served in the earlier BJP-led government of Atal Bihari Vajpayee. In fact, he was the youngest minister in the Atal Bihari Vajpayee’s cabinet in 1998 and was minister for Civil Aviation, Tourism, Sports, Urban Development and Poverty Alleviation.

The six-time MP from Karnataka was the first person to speak in Kannada in the United Nations.

Karnataka Chief Minister HD Kumaraswamy said Mr Kumar was a “friend beyond politics” and a value-based politician. “Our families had a friendship beyond politics. He always valued and had given priority to friendship. I have lost a great friend in his death,” the chief minister added.

Karnataka has announced a three-day state mourning and educational institutions and offices were closed on Monday.

A graduate in Arts and Law, Mr Kumar was associated with the Akhila Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP), a student organisation of the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS), before joining the BJP in 1987.
As a student activist, he was also jailed along with other ABVP leaders during the Emergency of 1975.

He was elected to the Lok Sabha in 1996. In 1998, he became the youngest member of the Vajpayee cabinet and he returned as minister in 1999.

In 2003, he became the BJP’s Karnataka chief. The party won the highest number of seats in the assembly and the Lok Sabha under his stewardship.

The parliamentarian from south Bengaluru constituency held charge of two ministries in the Narendra Modi government — Chemicals and Fertilisers since May 2014 and Parliamentary Affairs since July 2016.





Source link