BJP MLA Sadhna Singh express regret over her statement on BSP chief Mayawat


zeenews.india.com understands that your privacy is important to you and we are committed for being transparent about the technologies we use.  This cookie policy explains how and why cookies and other similar technologies may be stored on and accessed from your device when you use or visit zeenews.india.com websites that posts a link to this Policy (collectively, “the sites”). This cookie policy should be read together with our Privacy Policy.

By continuing to browse or use our sites, you agree that we can store and access cookies and other tracking technologies as described in this policy.

What are Cookies and Other Tracking Technologies?

A cookie is a small text file that can be stored on and accessed from your device when you visit one of our sites, to the extent you agree.  The other tracking technologies work similarly to cookies and place small data files on your devices or monitor your website activity to enable us to collect information about how you use our sites. This allows our sites to recognize your device from those of other users on our sites. The information provided below about cookies also applies to these other tracking technologies.


How do our sites use Cookies and Other Tracking Technologies?

Zeenews.com use cookies and other technologies to store information in your web browser or on your mobile phone, tablet, computer, or other devices (collectively “devices”) that allow us to store and receive certain pieces of information whenever you use or interact with our zeenews.india.com applications and sites. Such cookies and other technologies helps us to identify you and your interests, to remember your preferences and to track use of zeenews.india.com We also use cookies and other tracking technologies to control access to certain content on our sites, protect the sites, and to process any requests that you make to us.
We also use cookies to administer our sites and for research purposes, zeenews.india.com also has contracted with third-party service providers to track and analyse statistical usage and volume information from our site users. These third-party service providers use persistent Cookies to help us improve user experience, manage our site content, and analyse how users navigate and utilize the sites.

First and Third-party Cookies

First party cookies

These are those cookies that belong to us and which we place on your device or are those set by a website that is being visited by the user at the time (e.g., cookies placed by zeenews.india.com)

Third-party cookies

Some features used on this website may involve a cookie being sent to your computer by a third party. For example, if you view or listen to any embedded audio or video content you may be sent cookies from the site where the embedded content is hosted. Likewise, if you share any content on this website through social networks (for example by clicking a Facebook “like” button or a “Tweet” button) you may be sent cookies from these websites. We do not control the setting of these cookies so please check the websites of these third parties for more information about their cookies and how to manage them.

Persistent Cookies
We use persistent cookies to improve your experience of using the sites. This includes recording your acceptance of our cookie policy to remove the cookie message which first appears when you visit our site.
Session Cookies 
Session cookies are temporary and deleted from your machine when your web browser closes. We use session cookies to help us track internet usage as described above.
You may refuse to accept browser Cookies by activating the appropriate setting on your browser. However, if you select this setting you may be unable to access certain parts of the sites. Unless you have adjusted your browser setting so that it will refuse cookies, our system will check if cookies can be captured when you direct your browser to our sites.
The data collected by the sites and/or through Cookies that may be placed on your computer will not be kept for longer than is necessary to fulfil the purposes mentioned above. In any event, such information will be kept in our database until we get explicit consent from you to remove all the stored cookies.

We categorize cookies as follows:

Essential Cookies

These cookie are essential to our site in order to enable you to move around it and to use its features. Without these essential cookies we may not be able to provide certain services or features and our site will not perform as smoothly for you as we would like. These cookies, for example, let us recognize that you have created an account and have logged in/out to access site content. They also include Cookies that enable us to remember your previous actions within the same browsing session and secure our sites.

Analytical/Performance Cookies

These cookies are used by us or by our third-party service providers to analyse how the sites are used and how they are performing. For example, these cookies track what content are most frequently visited, your viewing history and from what locations our visitors come from. If you subscribe to a newsletter or otherwise register with the Sites, these cookies may be correlated to you.

Functionality Cookies

These cookies let us operate the sites in accordance with the choices you make. These cookies permit us to “remember you” in-between visits. For instance, we will recognize your user name and remember how you customized the sites and services, for example by adjusting text size, fonts, languages and other parts of web pages that are alterable, and provide you with the same customizations during future visits.

Advertising Cookies

These cookies collect information about your activities on our sites as well as other sites to provide you targeted advertising. We may also allow our third-party service providers to use cookies on the sites for the same purposes identified above, including collecting information about your online activities over time and across different websites. The third-party service providers that generate these cookies, such as, social media platforms, have their own privacy policies, and may use their cookies to target advertisement to you on other websites, based on your visit to our sites.

How do I refuse or withdraw my consent to the use of Cookies?

If you do not want cookies to be dropped on your device, you can adjust the setting of your Internet browser to reject the setting of all or some cookies and to alert you when a cookie is placed on your device. For further information about how to do so, please refer to your browser ‘help’ / ‘tool’ or ‘edit’ section for cookie settings w.r.t your browser that may be Google Chrome, Safari, Mozilla Firefox etc.
Please note that if your browser setting is already setup to block all cookies (including strictly necessary Cookies) you may not be able to access or use all or parts or functionalities of our sites.
If you want to remove previously-stored cookies, you can manually delete the cookies at any time from your browser settings. However, this will not prevent the sites from placing further cookies on your device unless and until you adjust your Internet browser setting as described above.
For more information on the development of user-profiles and the use of targeting/advertising Cookies, please see www.youronlinechoices.eu if you are located in Europe or www.aboutads.info/choices if in the United States.

Contact us

If you have any other questions about our Cookie Policy, please contact us at:
If you require any information or clarification regarding the use of your personal information or this privacy policy or grievances with respect to use of your personal information, please email us at [email protected]





Source link

BJP MLA Sadhna Singh says about BSP chief Mayawati And Satish Chandra Mishra comment


खास बातें

  1. बीजेपी विधायक साधना सिंह ने बसपा मुखिया मायावती पर की अभद्र टिप्पणी
  2. कहा- मायावती न तो पुरुष दिखती हैं और न ही महिला
  3. गेस्ट हाउस कांड का हवाला देकर भी साधा मायावती पर निशाना

नई दिल्ली:

यूपी की मुगलसराय से भाजपा विधायक साधना सिंह की बसपा मुखिया मायावती पर की गई टिप्पणी से घमासान मच गया है. सोशल मीडिया पर साधना सिंह के भाषण का वीडियो वायरल होते ही बसपा ने पलटवार कर बीजेपी पर निशाना साधा है. दरअसल एक कार्यक्रम में बोलते हुए साधना सिंह मायावती पर बहुत कुछ विवादित बातें कह गईं. उन्होंने मायावती को किन्नर से भी बदतर बताते हुए कहा कि वह न महिला हैं और न पुरुष. गेस्ट हाउस कांड का हवाला देते हुए कहा कि चीरहरण होने के बाद भी वह गठबंधन कर रहीं हैं. जबकि बीजेपी के नेताओं ने ही उनका मान-सम्मान बचाया था.

 

विधायक साधना सिंह ने और भी बहुत कुछ बसपा मुखिया मायावती के बारे में कहा. मुगलसराय से बीजेपी विधायक साधना सिंह ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए यह बातें कहीं.

 

बीजेपी की महिला विधायक के इस बयान पर बहुजन समाज पार्टी(बसपा) ने तीखा पलटवार किया है. बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा-  उन्होंने हमारी पार्टी की मुखिया सतीश चंद्र मिश्रा के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया. लगता है कि सपा-बसपा गठबंधन के बाद बीजेपी के नेताओं ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है. लिहाजा, उन्हें आगरा और बरेली के मानसिक अस्पतालों में भर्ती होना चाहिए. 

टिप्पणियां

वीडियो- हमें मुंहतोड़ जवाब देना आता है : मायावती 





Source link

up BJP MLA Sadhna Singh says about BSP chief Mayawati | BJP विधायक ने मायावती के खिलाफ की अभद्र बयानबाजी, सतीशचंद्र मिश्रा बोले


zeenews.india.com understands that your privacy is important to you and we are committed for being transparent about the technologies we use.  This cookie policy explains how and why cookies and other similar technologies may be stored on and accessed from your device when you use or visit zeenews.india.com websites that posts a link to this Policy (collectively, “the sites”). This cookie policy should be read together with our Privacy Policy.

By continuing to browse or use our sites, you agree that we can store and access cookies and other tracking technologies as described in this policy.

What are Cookies and Other Tracking Technologies?

A cookie is a small text file that can be stored on and accessed from your device when you visit one of our sites, to the extent you agree.  The other tracking technologies work similarly to cookies and place small data files on your devices or monitor your website activity to enable us to collect information about how you use our sites. This allows our sites to recognize your device from those of other users on our sites. The information provided below about cookies also applies to these other tracking technologies.


How do our sites use Cookies and Other Tracking Technologies?

Zeenews.com use cookies and other technologies to store information in your web browser or on your mobile phone, tablet, computer, or other devices (collectively “devices”) that allow us to store and receive certain pieces of information whenever you use or interact with our zeenews.india.com applications and sites. Such cookies and other technologies helps us to identify you and your interests, to remember your preferences and to track use of zeenews.india.com We also use cookies and other tracking technologies to control access to certain content on our sites, protect the sites, and to process any requests that you make to us.
We also use cookies to administer our sites and for research purposes, zeenews.india.com also has contracted with third-party service providers to track and analyse statistical usage and volume information from our site users. These third-party service providers use persistent Cookies to help us improve user experience, manage our site content, and analyse how users navigate and utilize the sites.

First and Third-party Cookies

First party cookies

These are those cookies that belong to us and which we place on your device or are those set by a website that is being visited by the user at the time (e.g., cookies placed by zeenews.india.com)

Third-party cookies

Some features used on this website may involve a cookie being sent to your computer by a third party. For example, if you view or listen to any embedded audio or video content you may be sent cookies from the site where the embedded content is hosted. Likewise, if you share any content on this website through social networks (for example by clicking a Facebook “like” button or a “Tweet” button) you may be sent cookies from these websites. We do not control the setting of these cookies so please check the websites of these third parties for more information about their cookies and how to manage them.

Persistent Cookies
We use persistent cookies to improve your experience of using the sites. This includes recording your acceptance of our cookie policy to remove the cookie message which first appears when you visit our site.
Session Cookies 
Session cookies are temporary and deleted from your machine when your web browser closes. We use session cookies to help us track internet usage as described above.
You may refuse to accept browser Cookies by activating the appropriate setting on your browser. However, if you select this setting you may be unable to access certain parts of the sites. Unless you have adjusted your browser setting so that it will refuse cookies, our system will check if cookies can be captured when you direct your browser to our sites.
The data collected by the sites and/or through Cookies that may be placed on your computer will not be kept for longer than is necessary to fulfil the purposes mentioned above. In any event, such information will be kept in our database until we get explicit consent from you to remove all the stored cookies.

We categorize cookies as follows:

Essential Cookies

These cookie are essential to our site in order to enable you to move around it and to use its features. Without these essential cookies we may not be able to provide certain services or features and our site will not perform as smoothly for you as we would like. These cookies, for example, let us recognize that you have created an account and have logged in/out to access site content. They also include Cookies that enable us to remember your previous actions within the same browsing session and secure our sites.

Analytical/Performance Cookies

These cookies are used by us or by our third-party service providers to analyse how the sites are used and how they are performing. For example, these cookies track what content are most frequently visited, your viewing history and from what locations our visitors come from. If you subscribe to a newsletter or otherwise register with the Sites, these cookies may be correlated to you.

Functionality Cookies

These cookies let us operate the sites in accordance with the choices you make. These cookies permit us to “remember you” in-between visits. For instance, we will recognize your user name and remember how you customized the sites and services, for example by adjusting text size, fonts, languages and other parts of web pages that are alterable, and provide you with the same customizations during future visits.

Advertising Cookies

These cookies collect information about your activities on our sites as well as other sites to provide you targeted advertising. We may also allow our third-party service providers to use cookies on the sites for the same purposes identified above, including collecting information about your online activities over time and across different websites. The third-party service providers that generate these cookies, such as, social media platforms, have their own privacy policies, and may use their cookies to target advertisement to you on other websites, based on your visit to our sites.

How do I refuse or withdraw my consent to the use of Cookies?

If you do not want cookies to be dropped on your device, you can adjust the setting of your Internet browser to reject the setting of all or some cookies and to alert you when a cookie is placed on your device. For further information about how to do so, please refer to your browser ‘help’ / ‘tool’ or ‘edit’ section for cookie settings w.r.t your browser that may be Google Chrome, Safari, Mozilla Firefox etc.
Please note that if your browser setting is already setup to block all cookies (including strictly necessary Cookies) you may not be able to access or use all or parts or functionalities of our sites.
If you want to remove previously-stored cookies, you can manually delete the cookies at any time from your browser settings. However, this will not prevent the sites from placing further cookies on your device unless and until you adjust your Internet browser setting as described above.
For more information on the development of user-profiles and the use of targeting/advertising Cookies, please see www.youronlinechoices.eu if you are located in Europe or www.aboutads.info/choices if in the United States.

Contact us

If you have any other questions about our Cookie Policy, please contact us at:
If you require any information or clarification regarding the use of your personal information or this privacy policy or grievances with respect to use of your personal information, please email us at [email protected]





Source link

भतीजे आकाश को BSP आंदोलन से जोड़ूंगी, मीडिया के विरोध की परवाह नहीं: मायावती


नई दिल्ली: दो दिनों से मीडिया में सुर्खिया बनने वाले आकाश को लेकर गुरुवार मायावती ने बड़ा ऐलान कर दिया. आकाश आनंद के बारें में मीडिया में चल रही खबरों पर मायावती ने कहा कि, ‘आकाश को मेरे साथ कुछ कार्यक्रमों में दिखने पर मीडिया ने जिस तरह से निशाना बनाया है, वो बेहद शर्मनाक है. कुछ मीडिया के लोग संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता पर उतर आए हैं. बीएसपी इसका मुंहतोड़ जवाब देगी.’

मायावती ने अपने को कांशीराम की शिष्या बताते हुए कहा, ‘हम डरपोक नहीं हैं. हम मुंहतोड़ जवाब देना जानते हैं, मान्यवर कांशीराम की भी यही शैली रही है. जैसे को तैसा जवाब देने के लिए अब मैं आकाश को बीएसपी मूवमेंट से जोड़कर सीखने का मौका दूंगी’

मायावती के भाई के बेटे हैं आकाश
दरअसल, आकाश आनंद मायावती के भाई आनंद कुमार के बेटे है, और अपने माता-पिता के साथ दिल्ली में रहते है, लेकिन पीछले कुछ दिनों से वो मायावती के साथ दिखाई दे रहे थे. मायावती के जन्मदिन के मौके पर भतीजे आकाश प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उनके साथ हाल ही में मौजूद रहे. इसके बाद उनके साथ ही वह वहां से निकले. 

लगातार मायावती के साथ दिख रहे थे आकाश
एसपी मुखिया अखिलेश यादव जब मायावती के नौ माल एवेन्यू स्थित आवास पर मिलने पहुंचे, तब भी आकाश मौजूद रहे. इसके अलावा तेजस्वी यादव भी जब मायावती से मिलने पहुंचे थे तब भी तस्वीरों में मायावती के साथ आकाश दिखाई दे रहे थे. अमूमन बहुत कम मौके पर मायावती अपने पारिवार के किसी सदस्य को सार्वजनिक कार्यक्रम में रखती हैं. बताया जा रहा है कि मायावती 10 जनवरी को भीतीजे के साथ ही लखनऊ पहुंची थीं.

आकाश मायावती के साथ लगातार दिखाई दे रहे थे, लिहाजा कयास लगाए जाने लगे कि क्या मायावती काश को अपना उत्तराधिकारी बनायेंगी. कहा जाने लगा कि बुआ भतीजे को सियासत का ककहरा सिखा रही है.

‘अगर मीडिया को आपत्ति है तो रहे’ 
गुरुवार को मायावती ने इन तमाम आशंकाओं का जवाब दे दिया. मायावती ने कहा कि अगर मीडिया के जातिवादी और दलित विरोधी एक तबके को आपत्ति है तो रहे, हमारी पार्टी को इसकी चिंता नहीं है. मायावती ने कहा, ‘मै कांशीराम की चेली हूं और उनकी तरह जैसे को तैसा जवाब देना जानती हूं.’  अभी तक आकाश पार्टी में गैर-राजनीतिक ढंग से कार्य करते थे लेकिन अब मैं उन्हें पार्टी के मूवमेंट में शामिल करुंगी और उन्हें सीखने का मौका दूंगी.’

 





Source link

bsp chief mayawati nephew akash expensive shoes viral on social media


नई दिल्ली: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने गुरुवार को अपने भतीजे आकाश के बसपा “आंदोलन” से जुड़ने का ऐलान किया. लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जैसे को तैसा जवाब देने के क्रम में अब मैं आकाश को बसपा आंदोलन से जोड़ कर उसे संघर्ष से जोड़ने और सीखने का अवसर ज़रूर प्रदान करूंगी. उधर, आकाश अपने महंगे जूतों को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा में हैं.

सोशल मीडिया यूजर्स दावा कर रहे हैं कि विदेश से पढ़ाई करके लौटे आकाश आनंद को महंगे ब्रांड्स की चीजें पसंद हैं. हाल ही में जब इस नौजवान को फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुए तो वह स्टाइलिश पहनावे में दिखे. जिसको लेकर एक यूजर ने लिखा, “http://zeenews.india.com/”वैसे इनका पहनावा, इनके बारे में जानकारी दे रहा है – महंगे विदेशी ब्रांड के शौक़ीन हैं कयोंकि जूते #Gucci के ही लगते हैं. कीमत लाख के करीब तो होगी शायद.”http://zeenews.india.com/”

इसके तुरंत बाद @ManavLive ट्विटर हैंडल से लिखा जाता है कि सही पहचाना GuCCI ही है और कीमत है $940 यानी 66,824 रुपए.”http://zeenews.india.com/” जबकि हमारी पड़ताल के अनुसार, gucci.com वेबसाइट पर इन जूतों (Children’s Horsebit Gucci check slipper) की कीमत $290 (इंडियन करेंसी में 23,500 रुपए) है. विदेशी टॉप ब्रांड्स में शामिल gucci के आइटम्स हर देश में अलग-अलग कीमत पर बिकते हैं. 

http://zeenews.india.com/

ट्विटर यूजर्स ने साधा निशाना
@abhiyad02193054 ट्विटर हैंडल से कटाक्ष करते हुए लिखा गया है, “http://zeenews.india.com/”यानी की गरीब दलित नेता”http://zeenews.india.com/”

@Brijend76417735 ने लिखा, “http://zeenews.india.com/”यूपी की राजनीति में एक परिवार का और उदय. माया परिवार.”http://zeenews.india.com/”

@pkmdli ट्विटर अकाउंट ने रिप्लाई दिया है, “http://zeenews.india.com/”मतलब गांधी, लालू, मुलायम, करुणानिधि आदि की तरह यहां भी उत्तराधिकारी परिवार से आने वाला है.”http://zeenews.india.com/”

http://zeenews.india.com/

आकाश की लॉन्चिंग!
दो दिनों से मीडिया में सुर्खिया बनने वाले आकाश को लेकर आज बुआ मायावती ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा, “आकाश को मेरे साथ कुछ कार्यक्रमों में दिखने पर मीडिया ने जिस तरह से निशाना बनाया है, वो बेहद शर्मनाक है. कुछ मीडिया के लोग संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता पर उतर आए हैं. बीएसपी इसका मुंहतोड़ जवाब देगी.” मायावती ने अपने को कांशीराम की शिष्या बताते हुए कहा, “हम डरपोक नहीं हैं. हम मुंहतोड़ जवाब देना जानते हैं, मान्यवर कांशीराम की भी यही शैली रही है. जैसे को तैसा जवाब देने के लिए अब मैं आकाश को बीएसपी मूवमेंट से जोड़कर सीखने का मौका दूंगी.”

भतीजे आकाश को BSP आंदोलन से जोड़ूंगी, मीडिया के विरोध की परवाह नहीं: मायावती
दरअसल, आकाश आनंद मायावती के भाई आनंद कुमार के बेटे हैं और अपने माता-पिता के साथ दिल्ली में रहते हैं. लेकिन पिछले कुछ दिनों से वो मायावती के साथ दिखाई दे रहे थे. मायावती के जन्मदिन के मौके पर भतीजे आकाश प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उनके साथ हाल ही में मौजूद रहे. इसके बाद उनके साथ ही वह वहां से निकले. सपा मुखिया अखिलेश यादव जब मायावती के नौ मॉ एवेन्यू स्थित आवास पर मिलने पहुंचे, तब भी आकाश मौजूद रहे. मायावती और अखिलेश जब मीडिया को फोटो दे रहे, तब भी भतीजा साथ-साथ रहा. इसके अलावा तेजस्वी यादव भी जब मायावती से मिलने पहुंचे थे तब भी तस्वीरों में मायावती के साथ आकाश दिखाई दे रहे थे. अमूमन बहुत कम मौके पर मायावती अपने पारिवार के किसी सदस्य को सार्वजनिक कार्यक्रम में रखती हैं. बताया जा रहा है कि मायावती 10 जनवरी को भतीजे के साथ ही लखनऊ पहुंची थीं.





Source link

Mayawati’s Comeback On Nephew, Says Will Make Him Join BSP Movement


Akash Anand and Akhilesh at Mayawati’s birthday celebration.

Lucknow: 

As photos emerged of Akhilesh Yadav greeting Mayawati on her birthday and gifting her a shawl, a young man standing next to the Bahujan Samaj Party (BSP) drew media attention. Mayawati today confirmed that he is the son of her younger brother, and hit out at those “targeting her nephew”.

Akash Anand, 24, has been seen in several photos alongside Mayawati and other top BSP leaders. His father Anand Kumar, Mayawati’s brother, is a former BSP vice president. Akash has not just been seen at multiple BSP events but also has accompanied his aunt on the 2017 Uttar Pradesh state poll campaign.

There was speculation in the media that the MBA is being groomed for a bigger role. Mayawati today appeared to confirm that even as she hit out at nepotism accusations from her critics.

“I am a disciple of Kanshi Ram, so to give a ‘tit for tat’ answer I will make Akash join the BSP movement and make him learn. If some casteist and anti-Dalit section of the media has a problem with that, then let it be. Our party doesn’t care,” Mayawati said in her statement.

Mayawati has always denied promoting her family members in the party and in May, she had declared that no one in her family would be given a post. In 2007, she had also announced that her successor would not be from her family.

The former chief minister said her younger brother and his family had been struggling since 2003 to support her. “He has been selflessly supporting the party,” she said.

The buzz about her nephew was linked to nervousness among rival parties about her alliance with former enemy Samajwadi Party in Uttar Pradesh for the national election, Mayawati said.

“The rise in the popularity of BSP and its alliance with SP has created unrest among parties and leaders who are anti-Dalits. Instead of fighting us fair and square, they are making absurd remarks against us and conspiring with TV channels,” she said. “We know how to give it back to them.”





Source link

Bihar Mahagathbandhan may face problem after Tejashwi Yadav meet SP And BSP


नई दिल्लीः बिहार महागठबंधन में सीट शेयरिंग का फैसला अब तक नहीं हो पाया है. हालांकि महागठबंधन नेताओं द्वारा लगातार कहा जा रहा था कि खरमास के बाद सीट शेयरिंग की घोषणा की जाएगी. लेकिन ऐसा अब तक नहीं हो पाया है. वहीं, तेजस्वी यादव ने इन दिनों महागठबंधन के अन्य दलों की परेशानी बढ़ा दी है. जिसमें कांग्रेस को भी बड़ी दुविधा लग रही है.

दरअसल, आरजेडी नेता तजेस्वी यादव जब से लखनऊ से अखिलेश यादव और मायावती से मिलकर आए हैं. तब से ऐसा माना जा रहा है कि बिहार में महागठबंधन के दलों में परेशानी बढ़ गई है. क्यों कि एक ओर सभी दलों ने सपा-बसपा गठबंधन में कांग्रेस को शामिल नहीं करने को लेकर आलोचना कर रहे थे. वहीं, तेजस्वी यादव ने इसे सही मानते हुए दोनों दलों के प्रमुख से मुलाकात की और उन्हें धन्यवाद भी दिया.

तेजस्वी यादव ने मायावती का आर्शीवाद भी लिया है. जिसके बाद माना जा रहा है कि तजेस्वी यादव राहुल गांधी को पीएम के रूप में नहीं देखना चाहते हैं. हालांकि माना जा रहा था कि सपा-बसपा से मुलाकात कर कांग्रेस को शामिल करने की वकालत करेंगे, लेकिन कहा जा रहा है कि ऐसी कोई बात नहीं की गई. वहीं, मीडिया में भी उन्होंने कहा कि सपा-बसपा का गठबंधन पिता लालू यादव का सपना था, जो साकार हुआ है.

वहीं, तेजस्वी यादव ने पहले ही कहा था कि यूपी में बीजेपी को हराने के लिए सपा-बसपा ही काफी है. कांग्रेस के नहीं होने से गठबंधन कमजोर नहीं होगा. अब ऐसा माना जा रहा है कि यूपी और बिहार में अगर कांग्रेस के बिना अगर बाकी दलों की मेजोरिटी आती है तो ऐसे में राहुल गांधी के अलावा भी विकल्प सोचा जा सकता है.

तेजस्वी यादव के इस स्टैंड से कांग्रेस में जहां बड़ी दुविधा हो रही है. वहीं, बाकी दलों को भी शायद समझ नहीं आ रहा है कि महागठबंधन में उनका क्या होगा. हम पार्टी के अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने भी यूपी में कांग्रेस को गठबंधन में शामिल नहीं करने को लेकर आलोचना की थी. साथ ही वह राहुल गांधी को पीएम के तौर पर भी बता रहे थे. लेकिन आरजेडी की ओर से राहुल गांधी को पीएम के तौर पर नहीं माना जा रहा है.

तेजस्वी यादव से कई बार इस बारे में पूछा भी गया है कि क्या वह राहुल गांधी को पीएम के तौर पर देखते हैं, लेकिन उन्होंने कभी भी इस बारे में नहीं कहा है कि लोकसभा चुनाव में अगर महागठबंधन की जीत होगी तो राहुल गांधी पीएम बनेंगे. वहीं, अब उन्होंने मायावती से हाथ मिला लिया है. ऐसे में पीएम के दौर में शामिल मायावती का पक्ष आरजेडी की वजह से मजबूत हो सकता है. ऐसे में कांग्रेस के लिए यह परेशानी का सबब बना हुआ है.

कांग्रेस की ओर से बिहार में महागठबंधन बनाने और सीट शेयरिंग का फॉर्मूला दिया गया है. जिसमें सीट का बंटवारा कांग्रेस और आरजेडी के बीच होने के बारे में कहा गया है. जिसमें बाकी दलों को कांग्रेस और आरजेडी सीट बांटेगी. हालांकि इस फॉर्मूले पर आरजेडी और अन्य दल मुहर लगाएंगे की नहीं यह साफ नहीं है.





Source link

BSP leaders present Mayawati as prime minister on social media


लखनऊ:

लोकसभा चुनाव के लिए बसपा-सपा गठबंधन का उत्साह मायावती के 63वें जन्मदिन पर मंगलवार को सोशल मीडिया पर डाले जा रहे पोस्टरों में दिखने लगा है, जिनमें उन्हें भावी प्रधानमंत्री के रूप में पेश किया गया है.

बसपा नेता सुधीन्द्र भदौरिया ने एक पोस्टर ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने मायावती को जन्मदिन की बधाई दी है . साथ ही भदौरिया ने यह सुनिश्चित करने की भी अपील की है कि मायावती ही देश की अगली प्रधानमंत्री बनें.”

भदौरिया ने अपने ट्वीट में कहा कि उनका सपना है कि बसपा सुप्रीमो मायावती प्रधानमंत्री बनें.

मायावती ने अपने जन्मदिन के मौके पर कहा, ”हाल ही में 12 जनवरी को हमारी पार्टी ने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करके लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया है . इससे भाजपा की नींद उड़ी हुई है . देश का सबसे बड़ा राज्य होने के लिहाज से उत्तर प्रदेश काफी मायने रखता है. उत्तर प्रदेश ही तय करता है कि केंद्र में किसकी सरकार बनेगी और अगला प्रधानमंत्री कौन होगा.”  इस मौके पर बसपा और सपा के लोगों से उन्होंने अपील की कि वे इस चुनाव में अपनी पार्टी और देशहित में पुराने गिले शिकवे और स्वार्थ की राजनीति को भुलाकर एक साथ काम करें तथा उत्तर प्रदेश एवं बाकी अन्य राज्यों में गठबंधन को वोट देकर जिताएं और यही उनके लिए जन्मदिन का तोहफा होगा.

LJP प्रमुख रामविलास पासवान बोले- नरेंद्र मोदी फिर बनेंगे प्रधानमंत्री, मायावती पर कसा तंज, कही यह बात…

सपा मुखिया अखिलेश यादव से जब शनिवार को सवाल किया गया था, कि क्या नए गठबंधन में प्रधानमंत्री का चेहरा मायावती होंगी, तो उन्होंने कहा, ”आपको पता है कि मेरी पसंद क्या है. उत्तर प्रदेश ने पूर्व में भी प्रधानमंत्री दिए हैं और यह आगे भी होगा.”

VIDEO : जन्मदिन पर मांगा वोट का तोहफा

टिप्पणियां

उल्लेखनीय है कि शनिवार को अखिलेश और मायावती ने संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की थी. इसमें मायावती ने ऐलान किया था कि आगामी लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

(इनपुट भाषा से)



Source link

SP- BSP गठबंधन पर बोले योगी, कहा- ये भयवश का गठबंधन है, जनता इसे स्वीकार नहीं करेगी


गोरखपुर (उप्र): उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि सपा-बसपा गठबंधन अराजकता और असुरक्षा को बढ़ावा देगा. गोरखनाथ मंदिर में बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने के बाद संवाददाताओं से कहा कि ये गठबंधन भय वश किया गया है और जनता इसे स्वीकार नहीं करेगी. योगी ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘मुझे यकीन है कि यह गठबंधन लंबा नहीं चलेगा. 1993 में सपा की ज्यादा सीटें थीं, बसपा की कम और मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव थे. बसपा ने समर्थन जारी रखा लेकिन गठबंधन लंबा नहीं चला.’’

उन्होंने कहा, ‘‘उत्तर प्रदेश की 23 करोड़ जनता इस गठबंधन को स्वीकार नहीं करेगी क्योंकि यह आत्म सम्मान को परे रखकर बनाया गया है.’’ सपा बसपा के पूर्व मुख्यमंत्रियों को कुंभ में आमंत्रित करने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ सब के लिए है और हमने सभी को आमंत्रित किया है .  उन्होंने कहा कि सपा और बसपा के लोग कुंभ समिति में हैं और यह उन पर है कि वह कुंभ मेले में आएं.

आपको बता दें कि इससे पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा के गठबंधन का राज्य की राजनीति पर कोई असर नहीं होने का दावा करते हुए रविवार को कहा कि अच्छा है कि दोनों दल एक हो गये हैं. अब भाजपा को इन्हें कायदे से ‘निपटाने‘ में मदद मिलेगी. योगी ने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘सपा-बसपा के गठबंधन का मतलब, भ्रष्टाचारी, जातिवादी मानसिकता वाले अराजक और गुंडों को सीधे-सीधे सत्ता देकर जनता को उसके भाग्य पर छोड़ देने जैसा है.

मैं कह सकता हूं कि इस गठबंधन का प्रदेश की राजनीति पर कोई असर नहीं होने वाला है.  अच्छा हुआ दोनों एक हो गये हैं.  हमें मदद मिलेगी कायदे से इनको निपटाने के लिये.’’दिल्ली में आयोजित भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में महागठबंधन का बार-बार जिक्र किये जाने के औचित्य के बारे में योगी ने कहा ‘‘गठबंधन कोई चुनौती नहीं है. मैं सपा मुखिया अखिलेश यादव से पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री के रूप में पिछली बार वह (सपा संस्थापक) मुलायम सिंह यादव को आगे कर रहे थे.

इनपुट भाषा से भी 

 





Source link

Congress Leader RPN Singh On Akhilesh Yadav-Mayawati SP BSP Tie-Up- Just What BJP Wanted


नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) को लेकर यूपी में हुए बहुजन समाज पार्टी (BSP)और समाजवादी पार्टी (SP) के गठबंधन पर कांग्रेस (Congress)ने कहा कि ये दोनों पार्टियां भाजपा (BJP)के जाल में फंस गई हैं. गठबंधन से खुद को अलग रखे जाने की संदर्भ में कांग्रेस ने कहा कि इन्होंने वही किया जो भाजपा चाहती थी. कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने कहा कि भाजपा चाहती थी कि उत्तर प्रदेश में धर्मनिरपेक्ष दल एकजुट नहीं हों ताकि वोटों का बंटवारा होने का फायदा उसे मिले तथा वह अपने इस प्रयास में सफल रही. बता दें, अखिलेश यादव और मायावती ने लोकसभा चुनाव के लिए हालही गठबंधन का ऐलान किया था.

कांग्रेस प्रवक्ता सिंह ने कहा, ‘सपा-बसपा ने कांग्रेस को अलग रखकर वही किया जो भाजपा चाहती थी. ऐसा लगता है कि ये दोनों पार्टियां भाजपा के जाल में फंस गई.’ उन्होंने कहा कि हर जगह यही प्रयास हो रहा है कि भाजपा विरोधी दल एकजुट हों और यह सुनिश्चित किया जाए कि वोटों का बंटवारा नहीं हो तथा उत्तर प्रदेश में भी यही होना चाहिए था.

जन्मदिन पर बोलीं BSP प्रमुख मायावती- हमारे गठबंधन ने उड़ाई BJP की नींद, जीत ही होगी मेरे लिए तोहफा

गौरतलब है कि सपा और बसपा ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने गठबंधन से कांग्रेस को अलग रखा है, हालांकि दोनों ने रायबरेली और अमेठी की सीटें उसके लिए छोड़ दी हैं. सपा और बसपा ने यूपी की 80 लोकसभा सीटों में 38-38 पर चुनाव लड़ेने का फैसला किया है. इसके अलावा उन्होंने दो सीटें छोटे दलों के लिए छोड़ दी हैं.

उत्तर प्रदेश: शिवपाल को चुनाव लड़ने के लिए मिली ‘चाबी’, कांग्रेस से दोस्ती के लिए तैयार

सपा-बसपा के गठबंधन के बाद कांग्रेस ने यूपी में सभी 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया. हालांकि, कांग्रेस ने कहा कि वह उन सभी दलों का सम्मान और स्वागत करती है जो भाजपा को हराने के लिए उनके साथ आना चाहते हैं.

अखिलेश और मायावती से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- यूपी और बिहार तय करेंगे केंद्र में किसकी होगी सत्ता

बता दें, बसपा प्रमुख मायावती ने मंगलवार को अपने जन्मदिन पर प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि सपा-बसपा के गठबंधन से भाजपा और अन्य पार्टियों की नींद उड़ गई है. यूपी ही तय करता है कि देश में किसकी सरकार बनेगी. इस गठबंधन को जनहित में कामयाब बनाने के लिए बसपा और सपा के लोगों से अपील करती हूं कि आप अपने पुराने गिले-शिकवे किनारे करके अपने इस गठबंधन के सभी उम्मीदवारों को ऐतिहासिक जीत दिलाएं. यह मेरे जन्मदिन के लिए बड़ा तोहफा भी होगा.

सपा में उठी BSP के साथ गठबंधन के खिलाफ आवाज, MLA बोले- हमारे अध्यक्ष जब तक घुटने टेकते रहेंगे, तब तक चलेगा गठबंधन

साथ ही मायावती ने कहा, ‘देश की आजादी के बाद बीजेपी और कांग्रेस की सरकार के राज में जमकर भ्रष्टाचार हुआ. किसान, गरीब, दलित व अन्य पिछड़े वर्ग का सही से विकास नहीं हुआ, जिससे दुखी होकर ही हमें इनके हितों के लिए पार्टी बनानी पड़ी थी. आज देश में किसान, दलित और पिछड़ा वर्ग के लोग सबसे ज्यादा दुखी है. इसकी एक वजह केंद्र सरकार है. यही वजह है कि अब आम जनता बीजेपी को सत्ता से हटाने का मन बना चुकी है. इसकी एक बानगी एमपी, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में देखने को मिली. बीजेपी को समझ लेना चाहिए कि झूठे वादे और जुमलेबाजी से किसान व दलित विरोधी सरकार की दाल ज्यादा दिन तक गलने वाली नहीं है.

(इनपुट- भाषा)

यूपी में सपा-बसपा गठबंधन के बाद शिवपाल यादव ने कांग्रेस को दिया यह ऑफर, कहा- मैं तैयार हूं

VIDEO- सपा-बसपा का गठबंधन देशहित में: तेजस्वी यादव

 



Source link