महंगी बाइक को 500 रुपए में बेच देते थे डांसर गुरु चेले, चोरी का शतक लगा चुकी है डांसर जोड़ी


एक डांस अकादमी चलाने वाले डांस टीचर और उसके स्टूडेंट को दिल्ली पुलिस ने 100 से ज्यादा बाइक चोरी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है. इनका तीसरा साथी भी पकड़ा गया जो मेरठ का रहने वाला है.





Source link

PM Narendra Modi Targets Mamata Banerjees Kolkata Rally, Takes on Sharad Yadav over Rafale-Boforse – कोलकाता में विपक्ष की रैली पर PM मोदी के तीन प्रहार, शरद यादव की जुबान फिसलने पर बोले


नई दिल्ली:

ममता बनर्जी की कोलकाता में विपक्षी दलों की रैली में शरद यादव की जुबान फिसलने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतिक्रिया आई है. कोलकाता में शरद यादव द्वारा संबोधन के दौरान गलती से राफेल के बदले बोफोर्स का नाम लेने पर पीएम मोदी ने कहा कि आखिर सच्चाई कब तक छुपती, कभी न कभी तो सच बाहर आ ही जाता है. दरअसल, ममता की रैली में जनता को संबोधित करने आए शरद यादव बीजेपी को घेरने की कोशिश कर रहे थे, तभी उनकी जुबान फिसल गई और वह राफेल घोटाले की जगह बोफोर्स घोटाले पर ही बोलने लगे. हालांकि, तुरंत बाद उन्होंने इस सफाई दी और कहा कि माफ कीजिए मैं राफेल की बात कर रहा था. 

ममता के मंच पर ‘महागठबंधन की किरकिरी’, मोदी सरकार को घेरने आए शरद ‘राफेल’ की जगह बोल बैठे ‘बोफोर्स’

शरद यादव की ‘गलती’ पर पीएम मोदी:

शरद यादव की फिसली जुबान पर अब प्रधानमंत्री मोदी ने तंज कसा है और इसे अपना सियासी हथियार बनाते हुए कहा कि ‘जिस मंच से ये लोग देश और लोकतंत्र को बचाने की बात कह रहे थे, उसी मंच पर एक नेता ने बोफोर्स घोटाले की याद दिला दी. आखिर सच्चाई कब तक छुपती है. कभी न कभी तो सच बाहर आ ही जाता है, जो कल कोलकाता में हुआ.’ हालांकि, पीएम मोदी ने सीधे तौर पर शरद यादव का नाम नहीं लिया. बता दें कि पीएम मोदी ‘मोदी ऐप्प’ के जरिये महाराष्ट्र और गोवा के बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. 

हालांकि, शरद यादव ने पीएम मोदी के बयान पर कहा कि यहां सवाल यह है कि क्या वे इतने लाचार हो गए हैं कि जुबान से फिसली एक घटना को मुद्दा बना रहे हैं. यह हास्यप्रद है.

ममता बनर्जी की रैली के बाद कांग्रेस बैकफुट पर? पीएल पुनिया ने भी कहा- पीएम पद पर फैसला चुनाव के बाद होगा

ईवीएम को अभी से ही विलेन बनाया जा रहा: पीएम मोदी

पीएम मोदी ने इस दौरान कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा. पीएम मोदी ने कहा कि ‘2019 में हार के लिए वे अभी से ही बहाने बनाने शुरू कर दिए हैं. ईवीएम को विलेन बनाया जा रहा है. यह स्वाभाविक है क्योंकि सभी राजनीतिक पार्टियां चुनाव जीतना चाहती है, मगर यह चिंताजनक है जब कुछ पार्टियां जनता को फॉर ग्रांटेड ले लेते हैं. वे जनता को मूर्ख समझते हैं और अपना रंग बदलते रहते हैं.’

विपक्षी एकता- हकीक़त या फ़साना: ममता के मंच पर एकजुटता तो दिखी, मगर लोकसभा में कांग्रेस ‘किस-किस’ से लड़ेगी?

उनके पास धनशक्ति, हमारे पास जनशक्ति: पीएम मोदी

आगे उन्होंने कहा कि ‘एक दूसरे के साथ उन्होंने गठबंधन किया है. हमने देश की 125 करोड़ जनता के साथ गठबंधन किया है. आपको क्या लगता है कौन सा गठबंधन मजबूत है? कोलकाता रैली के मंच पर जितने भी नेता थे, उनमें से अधिकतर प्रभावशाली लोगों के थे या फिर वे अपने बच्चों को राजनीति में सेट करने की कोशिश कर रहे हैं. उनके पास धनशक्ति है, हमारे पास जनशक्ति है.’

लोकसभा चुनाव 2019 : ममता बनर्जी के मंच से संकेत, क्या पीएम पद के लिए राहुल गांधी की राह और कठिन

शरद यादव ने कोलकाता में क्या कहा था:

शनिवार को कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में ममता बनर्जी की विपक्षी एकता रैली में संबोधन के दौरान शरद यादव ने कहा कि ‘बोफोर्स की लूट, फौज का हथियार और फौज का जहाज यहां लाने का काम हुआ है. ये जो सरकार है, भारत के लोग सीमा पर शहादत दे रहे हैं और डकैती डालने का काम बोफोर्स में हुआ है, डकैती हो गई है.’ शरद यादव ने जैसे ही यह कहा, इसके बाद टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन को हस्तक्षेप करना पड़ा और उन्होंने पास जाकर शरद यादव को उनकी फिसली जुबान पर इशारा किया. और पोडियम के पास आकर बोले- आपने बोफोर्स बोला है. इसके तुरंत बाद शरद यादव ने जोर से कहा कि, ‘राफेल, माफ करना मैं गलती से बोफोर्स बोल गया था… राफेल… राफेल… राफेल’. इसके बाद फिर ममता आईं और बोली कि कभी-कभी जुबान फिसल जाती है. बोफोर्स नहीं राफेल ही था.”

VIDEO: ममता बनर्जी ने कहा- बीजेपी फिर आई तो ,समझो देश गया



Source link

Janhvi kapoor and kushi kapoor at punitd malhotra bash – जाह्नवी कपूर अपनी बहन खुशी संग कुछ यूं दिए पोज, Video में दिखा फैशनेबल अंदाज


खास बातें

  1. एक इवेंट में साथ नजर आईं जाह्ववी और खुशी
  2. फैशनेबल अंदाज में आईं नजर
  3. दोनों ने हाथ पकड़कर दिए पोज

नई दिल्ली:

दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी (Sridevi) की बेटियां अपने फैशन स्टेटमेंट की वजह से अक्सर सुर्खियों में बनी रहती हैं. एक इवेंट के दौरान फिल्म धड़क (Dhadhak) से अपना करियर की शुरुआत कर चुकी जाह्ववी कपूर (Janhvi Kapoor) और उनकी बहन खुशी कपूर (Khushi Kapoor) देखी गईं. दोनों ही बिल्कुल हॉट अंदाज में स्पॉट की गईं. वैसे तो जाह्ववी कई मौकों पर अपनी मां श्रीदेवी की तरह दिखाईं देती हैं. लेकिन यहां जाह्ववी की बहन खुशी लुक्स में सबको मात देती नजर आईं. जैसे ही जाह्ववी और खुशी कार से उतरी फोटोग्राफर्स ने उन्हें घेर लिया. दोनों बहनों ने बिंदास अंदाज में फोटो पोज दिए और फोटोग्राफर को निराश नहीं किया. 

टिप्पणियां

जाह्ववी (Janhvi Kapoor) ने इस मौके पर ब्लू डेनिम स्कर्ट और व्हाइट टॉप पहना था तो वहीं उनकी बहन खुशी कपूर (Khushi Kapoor) स्टाइलिश ड्रेस में नजर आईं.  दोनों ही बहनों एक दूसरे का हाथ पकड़कर फोटो खिंचवाई. इवेंट के वीडियो और तस्वीरों को विरल भयानी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है. जाह्ववी और खुशी (Janhvi And Khushi) की बॉन्डिंग जबरदस्त नजर आई. 

बता दें कि जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) की पहली फिल्म ईशान खट्टर (Ishan Khattar) के साथ आई थीं फिल्म ‘धड़क’ को लोगों ने खूब सराहा था. जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) जल्द ही अपनी दूसरी बॉलीवुड फिल्म ‘तख्त’ में नजर आएंगी. फिल्म ‘तख्त’ (Takht) में जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) के अलावा रणवीर सिंह (Ranveer Singh), विक्की कौशल (Vicky kaushal), आलिया भट्ट (Alia Bhatt), करीना कपूर खान (Kareena Kapoor Khan), भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) और अनिल कपूर (Anil Kapoor) भी होंगे. 





Source link

अलीगढ़: आलू प्लांट का कचरा खाने से 9 गायों की मौत, गुस्से में लोग


अलीगढ़: उत्तर प्रदेश सरकार गायों की देखभाल के लिए राज्य के लोगों से अतिरिक्त टैक्स ले रही है, लेकिन अलीगढ़ के थाना इगलास क्षेत्र में घटी घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं. यहां प्रशासन की लापरवाही के चलते गायों की मौत हुई है. थाना इगलास क्षेत्र के महुआ स्थित निशांत आलू प्लांट की फैक्ट्री से बाहर फेंके गए जहरीले कचरे को खाने से नौ गायों की मौत हो गई है. पशु चिकित्सकों के प्रयास से कई गायों को बचाया जा सका है. घटना से गुस्साए लोगों ने हंगामा किया. पुलिस ने गायों का पोस्टमार्टम कराकर दफना दिया है. 

लोगों के गुस्से को दिखते हुए पुलिस ने फैक्ट्री मालिक के खिलाफ इगलास कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की है. हालांकि अभी तक उसे गिफ्तार नहीं किया गया है. 

ये भी पढ़ें: यूपी के हमीरपुर में ट्रेन से कटकर 36 गायों की मौत, मचा हड़कंप

पिछले साल दिसंबर में इगलास थाना क्षेत्र में ही गायों को लेकर बवाल हुआ था. दरअसल, इलाके में आवारा गोवंश की बहुतायत होने के चलते फसलों की काफी बर्बादी हो रही थी. स्थानीय लोगों ने गायों को सरकारी भवनों में बंद करना शुरू कर दिया था, जिसके बाद प्रशासन ने कई लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें: गाय के नाम पर वोट मांगना और राजनीति करना ‘पाप’ है: अरविंद केजरीवाल

इसी बीच खबर आई थी कि इगलास क्षेत्र में ही किसी ने जिंदा गाय को दफना दिया था. स्थानीय लोगों ने गाय को बाहर निकाला और पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया था. छह थानों का फोर्स व पीएसी लेकर पहुंचे अफसरों ने बमुश्किल हालात संभाले थे. दफनाई गई 11 मृत गायों के पास बेसुध पड़ीं छह जिंदा गोवंश को अस्पताल भेजा गया, जिसमें एक की मौत हो गई. 

ये भी पढ़ें: राजस्थान: भूख, प्यास और सर्दी ने ली आधा दर्जन गायों की जान

पुलिस ने जाम-प्रदर्शन के इल्जाम में महिला समेत तीन को हिरासत में लिया, बाद में उन्हें छोड़ दिया गया. जिले के आधा दर्जन सरकारी स्कूलों व अस्पतालों में फिर पशु बंद कराए गए. पुलिस ने इनके खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज की है. अब फैक्ट्री का कचरा खाने गायों की हुई मौत पर इलाके के लोगों में काफी गुस्सा है.





Source link

विजय बहुगुणा की डिनर पार्टी से उत्तराखंड की राजनीति का पारा गर्म, क्या लोकसभा में ठोकेंगे ताल!


देहरादून : उत्तराखंड की राजनीति में पूर्व सीएम विजय बहुगुणा की सक्रियता ने एक बार फिर से राज्य की राजनीति को गर्मा दिया है. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद वह निष्क्रिय थे, लेकिन लोकसभा चुनावों से पहले उन्होंने फिर से  सक्रियता बढ़ा दी है. विजय बहुगुणा ने निकाय चुनाव में विजयी प्रत्याशियों के सम्मान में एक डिनर पार्टी का आयोजन किया. विधानसभा के पास एक होटल में पूर्व सीएम की पार्टी में सीएम त्रिवेन्द्र रावत के साथ ही कई कैबिनेट मंत्री, विधायक और निकाय चुनाव में विजयी नेता शामिल हुए.

लोकसभा चुनाव से पहले विजय बहुगुणा की डिनर डिप्लोमेसी को टिकट के दावेदार के रूप में देखा जा रहा है. इस डिनर में सीएम त्रिवेन्द्र रावत, कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, सुबोध उनियाल, स्पीकर प्रेमचन्द्र अग्रवाल, विधायक गणेश जोशी, मुन्ना सिंह चौहान, सहदेव पुंडीर, हरबंस कपूर, उमेश शर्मा काऊ, कुंवर प्रणव चैम्पियन, देहरादून नगर निगम के मेयर सुनील उनिलाय गामा और ऋषिकेश नगर निगम की मेयर अनीता मंमगाई मौजूद रहीं. इसके अलावा बहुगुणा खेमे के नेताओं का भी जमावडा रहा.

2017 के बाद से ज्यादातर समय दिल्ली में
विजय बहुगुणा 2017 के बाद से ज्यादातर समय उनका दिल्ली में बीता. उत्तराखंड में राज्यसभा की सीट जब खाली हुई तो उन्हें बीजेपी से राज्यसभा भेजने की चर्चाएं जोर पकड़ने लगीं. लेकिन अंत में बाजी अनिल बलूनी के हाथ लगी. इससे पहले भी हरीश रावत की सरकार में उन्होंने राज्य सभा की दावेदारी की थी, लेकिन कांग्रेस ने मनोरमा शर्मा डोबरियाल को राज्य सभा भेज दिया. हाल में सम्पन्न हुए निकाय चुनाव में भी विजय बहुगुणा ज्यादा सक्रिय नहीं दिखे.

2019 लोकसभा चुनाव से पहले सक्रिय हुए विजय बहुगुणा
डिनर पार्टी से विजय बहुगुणा ने टिहरी सीट पर अपनी दावेदारी ठोक दी है. हालांकि मीडिया से बात करते हुए उन्होंने इन सभी अटकलों पर विराम लगाया और कहा कि ये पार्टी केवल निकाय चुनाव में विजयी प्रत्याशियों के सम्मान में रखी हुई है. इसमें कई मुद्दों पर चर्चा होगी. विजय बहुगुणा ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बारे में वे मार्च में एलान करेंगे. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत भी इस पार्टी में पहुंचे. दरअसल विजय बहुगुणा लोकसभा चुनाव से पहले अपने समर्थकों और करीबी नेताओं को चुनाव से पहले तैयार रहने का संदेश देना चाहते है कि वे तैयार रहें. विजय बहुगुणा 2007 में टिहरी लोकसभा सीट से सांसद निर्वाचित हुए. उसके बाद 2009 में दोबारा टिहरी सीट से सासंद चुने गये. 2012 में कांग्रेस पार्टी ने उन्हें प्रदेश का मुख्यमंत्री नियुक्त किया और 2014 में उन्हें हटाकर कांग्रेस ने हरीश रावत को प्रदेश की कमान सौंप दी, लेकिन 2016 में कांग्रेस पार्टी में हुए बगावत के वे सूत्रधार रहे और उन्हीं की अगुवाई में कांग्रेस के 11 विधायकों ने बगावत कर दी थी.

डिनर पार्टी में नहीं पहुचीं टिहरी सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह
डिनर डिप्लोमेसी से सियासत में हलचल मची तो सभी की निगाहें इस बात पर थी कि क्या टिहरी सांसद भी इस डिनर पार्टी में पहुचेंगी. पूर्व सीएम बहुगुणा ने कहा कि उन्होंने टिहरी सांसद तो न्यौता भेजा था अब वो नहीं आईं तो क्या किया जा सकता है. हालांकि टिहरी सांसद देहरादून में ही थीं. इस डिनर पार्टी में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत भी नहीं दिखे. इसके अलावा कई नेताओं की गैरमौजूदगी कई सवाल खड़े कर रही थीं, लेकिन सीएम की मौजूदगी ने भी कई अटकलों को जन्म दे दिया है.





Source link

एशिया के वाटरहाउस कहे जाने वाले हिस्से में भी जलसंकट, दूर करने के लिए बनाया प्लान



नीति आयोग की रिपोर्ट में उत्तराखंड सहित देश भर में जल संकट की विस्तृत रिपोर्ट जारी की गई थी. नीति आयोग ने 9 जुलाई 2018 को स्प्रिंग रिवाईवल के संबंध में एक रिपोर्ट जारी की थी. रिपोर्ट के अनुसार उत्तराखंड सहित देश के लगभग सभी राज्य बड़े जल संकट से जूझ रहे हैं.



Source link

दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किए 3 संदिग्ध, केरल में RSS नेता की हत्या की थी साजिश


ऐसी भी जानकारी मिल रही है कि साजिश के पीछ पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ था.





Source link

अब ये दिन भी देखने को था, अमेरिका में खाने के पड़े लाले! विदेशी संस्था ने पहुंचाई राहत


वॉशिंगटन: अमेरिका में आंशिक संघीय कामबंदी से प्रभावित कर्मचारियों को स्पेन के एक प्रख्यात शेफ की मानवीय सहायता संस्था सूप और सैंडविच वितरित कर रही है. समाचार एजेंसी एफे के मुताबिक, शेफ जोस एंद्रेस का वर्ल्ड सेंट्रल किचन अमेरिका के संघीय कर्मचारियों को भोजन मुहैया कर रहा है, जिन्हें कामबंदी की वजह से वेतन नहीं मिला है. एंद्रेस का यह किचन 2010 में हैती में आए भूकंप के बाद और प्यूटरे रिको में 2017 में तूफान मारिया से प्रभावित लोगों को भोजन मुहैया करा चुका है. गौरतलब है कि बुधवार को अमेरिकी कामबंदी का 26वां दिन है.

मिशेलिन स्टार शेफ ने कहा कि वह सरकारी कामबंदी को एक अन्य तरह का आपातकाल मानते हैं. दीवार निर्माण को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और कांग्रेस के बीच गतिरोध के बाद से लगभग 800,000 संघीय कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा है.

अमेरिका बंद: ट्रंप अपनी जिद पर अड़े, तमाम जोड़-तोड़ के बाद भी नहीं निकल रहा कोई नतीजा
आंशिक सरकारी बंदी से जूझ रहे व्हाइट हाउस ने संघीय कर्मचारियों का वेतन देने की अगली अंतिम तारीख नजदीक आते हुए देख इस गतिरोध को खत्म करने का नया तरीका अपनाया है. वह अब सदन की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी को दरकिनार कर पार्टी के अन्य सदस्यों और सांसदों से सीधी बातचीत करने की कोशिश में लगा हुआ है. लेकिन मुद्दा अभी भी वही है, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने के लिए धन देने की अपनी मांग से पीछे हटने को तैयार नहीं हैं. वह कई सप्ताह से जारी आंशिक सरकार बंदी को लंबे वक्त तक चलने देना चाहते हैं.

राष्ट्रपति बंद के 25वें दिन भी दीवार के लिए 5.7 अरब डॉलर की मांग पर अड़े हुए हैं. वहीं डेमोक्रैट्स का कहना है कि सरकार का कामकाज पूरी तरह से बहाल होने पर पार्टी सीमा सुरक्षा पर चर्चा करेगी. लेकिन पेलोसी दीवार के लिए पैसे की मांग को अप्रभावी और अनैतिक बताकर उसे खारिज कर रही हैं.

ट्रंप ने समर्थकों के साथ एक कॉन्फ्रेंस कॉल पर अपनी जिद से पीछे हटने के कोई संकेत नहीं दिए. उन्होंने कहा, ‘‘अगर जरूरत पड़ी तो हम लंबे समय तक बाहर रखेंगे. हम लंबे समय तक बाहर रह सकते हैं.’’ सरकार के आंशिक रूप से ठप पड़े काम के दौरान करीब 8,00,000 सरकारी कर्मचारी बिना वेतन के काम कर रहे हैं या उन्हें लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया है.

ट्रंप ने कहा, ‘‘लोग इससे खुश हैं कि ऐसी स्थिति से सरकार कैसे निपट रही है.’’ वहीं प्रशासन को उम्मीद है कि वह अगले सप्ताह मंगलवार को अंतिम तारीख से पहले इस गतिरोध का हल निकाल लेंगे. व्हाइट हाउस की प्रवक्ता मर्सिडीज श्लैप ने कहा, ‘‘हम सबको समझ आ रहा है कि समय खत्म हो रहा है और हमें उससे पहले इसे सुलझाना है.

इसकी अंतिम तारीख अगले सप्ताह मंगलवार है.’’ व्हाइट हाउस ने मंगलवार को सांसदों को दोपहर के भोजन पर बुलाया था, पेलोसी ने वहां पहुंचने वाले सांसदों को अपनी शुभकामनाएं दी. दूसरी ओर आंतरिक राजस्व सेवा बंद के कारण छुट्टी पर भेजे गए लगभग 46,000 कर्मचारियों को वापस बुला रही है ताकि आयकर टैक्स रिटर्न और रिफंड (आईटीआर) का काम पूरा किया जा सके.इन कमर्चारियों को वेतन नहीं दिया जाएगा. लोगों को आयकर रिफंड का काम आधिकारिक तौर पर 28 जनवरी से शुरू होना है. ट्रंप प्रशासन ने लोगों से समय पर रिफंड देने का वादा किया है.

इनपुट आईएएनएस से भी 





Source link

ब्रेड के दाम बढ़ने पर गुस्से में सड़क पर उतरे लोग, एक मासूम की मौत


सूडान की राजधानी खरतूम में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के दौरान बृहस्पतिवार को एक चिकित्सक और एक बच्चे की मौत हो गई. सरकार द्वारा ब्रेड के दाम बढ़ाए जाने के बाद 19 दिसंबर से जारी विरोध प्रदर्शनों में अब तक कम से कम 26 लोगों की मौत हो चुकी है.

सूडान : ब्रेड के दाम बढ़ने पर गुस्से में सड़क पर उतरे लोग, एक मासूम की मौत

फोटो साभार : Reuters





Source link

लोकसभा चुनाव 2019ः AAP का दावा, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले चुनाव लड़ेगी पार्टी


नई दिल्लीः आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाओं पर विराम लगाते हुये आप ने दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा की है. आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने शुक्रवार को कहा ‘‘हम दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में अकेले ही चुनाव लड़ेंगे.’’ 

राय ने लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं होने के लिये कांग्रेस नेताओं के अहंकारी रुख को जिम्मेदार ठहराते हुये कहा ‘‘जिस प्रकार कांग्रेस के नेता केप्टन अमरिंदर सिंह और शीला दीक्षित के बयान आ रहे हैं, उनसे यह स्पष्ट है कि देशहित से कांग्रेस का कुछ लेना देना नहीं है और उसके लिए अपना अहंकार सर्वोपरि है.” 

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आप और कांग्रेस के गठबंधन की चर्चा चल रही थी. आप पहले दिन से कांग्रेस की विचारधारा से असहमत रही है और दिल्ली में उसके 15 साल के कुशासन को शून्य सीट पर लाकर खत्म किया.” 

राय ने दलील दी ‘‘वयोवृद्ध राजनीतिज्ञों के सुझाव पर देश को आगे रखते हुए, हम कांग्रेस नाम के जहर को पीने को तैयार थे. लेकिन कांग्रेस के लिए देश से आगे उसका अहंकार है.” उन्होंने कहा कि दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित कह रही हैं कि वह इस बात का परीक्षण करेंगी कि दिल्ली को आखिर बिजली पानी कैसे सस्ता मिल रहा है. इससे यह स्पष्ट है कि कांग्रेस अभी भी जनता के जनादेश को मानने को तैयार नहीं है. 

उल्लेखनीय है कि हाल ही में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनायी गई दीक्षित ने आप के साथ गठबंधन की संभावनाओं को सिरे से खारिज कर दिया था. उन्होंने इसके लिये दो मुख्य वजहें बताई थी, पहला आप संयोजक अरविंद केजरीवाल विश्वास करने लायक नहीं हैं और आप विधायकों द्वारा हाल ही में दिल्ली विधानसभा में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का भारत रत्न सम्मान वापस लेने का प्रस्ताव पारित करना दूसरी वजह बताई थी. 

(इनपुट भाषा से)





Source link