Hardik Pandya, KL Rahul Dropped From 1st ODI Against Australia: Sources


खास बातें

  1. टीवी शो में दोनों खिलाड़ि‍यों को भाग लेना भारी पड़ा
  2. हार्दिक ने की थी महिलाओं को लेकर अनुचित टिप्‍पणी
  3. दोनों खिलाड़ियों को कारण बताओ नोटिस भेजा गया था

सिडनी:

हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya)और केएल राहुल (KL Rahul ) को एक टीवी शो के दौरान महिलाओं के खिलाफ की गई टिप्‍पणी का खामियाजा भुगतना पड़ा है. कमेटी ऑफ एडमिनिस्‍ट्रेटर्स प्रमुख विनोद राय ने शुक्रवार को इस बात की पुष्टि की है कि हार्दिक और राहुल को महिलाओं पर उनकी विवादास्पद टिप्पणियों के लिये जांच लंबित रहने तक निलंबित कर दिया गया है. गौरतलब है कि टीवी शो ‘कॉफी विद करण’ (Koffee With Karan) के दौरान हार्दिक पंड्या की टिप्पणी की काफी आलोचना हुई थी और इन्‍हें ‘सेक्सिस्ट’ करार किया गया. पंड्या ने बाद में अपने इन कमेंट्स के लिए माफी मांगी थी. उन्‍होंने कहा था कि वे शो के हिसाब से भावनाओं में बह गये थे, इस शो में केएल राहुल भी हार्दिक के साथ थे.शो पर पंड्या ने कई महिलाओं से अपने संबंधों को बढ़ा-चढ़ाकर बताया था और यह भी कहा था कि वह अपने माता-पिता से भी इसके बारे में काफी खुले हुए हैं.

महिलाओं के खिलाफ कमेंट्स को लेकर हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को कारण बताओ नोटिस..

बीसीसीआई का काम देख रही प्रशासकों की समिति (सीओए) की ओर से हार्दिक और राहुल को उनकी टिप्पणियों के लिए कारण बताओ नोटिस भेजा गया था और स्पष्टीकरण के लिये 24 घंटे का समय दिया था.टीवी शो महिलाओं के खिलाफ अनुचित टिप्‍पणी के बाद सीओए प्रमुख विनोद राय ने दोनों खिलाड़ि‍यों पर दो मैचों के प्रतिबंध की सिफारिश की थी. सीओए की एक अन्‍य सदस्‍य इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था लेकिन बाद में इस मामले को लीगल विभाग के पास भेज दिया था. प्रशासकों की समिति (COA) की सदस्य डायना इडुल्जी (Diana Edulji) ने भारतीय खिलाड़ियों हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) और लोकेश राहुल (KL Rahul) के खिलाफ शुक्रवार को ‘आगे की कार्रवाई तक निलंबन’ की सिफारिश की थी क्योंकि भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) की लीगल टीम ने महिलाओं पर इनकी विवादास्पद टिप्पणी को आचार संहिता का उल्लंघन घोषित करने से इनकार कर दिया है.

लीगल टीम से राय लेने के बाद इडुल्जी ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा था, ‘यह जरूरी है कि दुर्व्यवहार पर कार्रवाई का फैसला लिए जाने तक दोनों खिलाड़ियों को निलंबित रखा जाए जैसा कि (बीसीसीआई) सीईओ (राहुल जौहरी) के मामले में किया गया था जब यौन उत्पीड़न के मामले में उन्हें छुट्टी पर भेजा गया था.’ बोर्ड की विधि कंपनी सिरिल अमरचंद मंगलदास की सिफारिशों के जवाब में इडुल्जी ने लिखा, ‘कानूनी राय के आधार पर और इस मुद्दे से निपटने के लिए अंतिम प्रक्रिया तय होने तक, सिफारिश की जाती है कि संभावित खिलाड़ियों और टीम को तुरंत यह सूचना भेजी जाए.’विधि फर्म ने स्पष्ट किया है कि पंड्या की अनुचित टिप्पणियां आचार संहिता के दायरे में नहीं आती. विधिक राय की प्रति पीटीआई के पास है जिसके अनुसार, ‘हमारा मानना है कि मौजूदा मामला आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं आता और मौजूदा हालात में आचार संहिता की प्रक्रिया को लागू नहीं किया जा सकता.’ बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इडुल्जी के नजरिये का समर्थन करते हुए कहा था कि जांच लंबित रहने तक निलंबन होना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘यह आचार संहिता का मामला नहीं बल्कि संस्थान की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना है. जैसे कि आईसीसी ने गेंद से छेड़छाड़ के आरोपों में अपनी आचार संहिता के तहत स्टीव स्मिथ पर अधिकतम एक मैच का प्रतिबंध लगाया था.’ इस अधिकारी ने कहा था, ‘लेकिन खेल की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें एक साल के लिए प्रतिबंधित किया. (इनपुट: भाषा से भी)

वीडियो: ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज जीतने के बाद यह बोले विराट

टिप्पणियां

 

 



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *