Sapna Choudhary video wedding dance bhojpuri punjabi haryanvi bollywood


खास बातें

  1. सपना चौधरी का एक और वीडियो वायरल
  2. वीडियो अभी भी हो रहा वायरल
  3. शादी के घर में किया डांस

नई दिल्ली: भोजपुरी (Bhojpuri) के अलावा सपना चौधरी (Sapna Choudhary) ने पंजाबी (Punjabi), हरियाणवी (Haryanvi) और बॉलीवुड (Bollywood) समेत अन्य फिल्म इंडस्ट्री ऐसा धमाल मचाया है कि अब उनकी तस्वीरें और वीडियो आए दिन सोशल मीडिया पर वायरल होते रहते हैं. कभी-कभी सपना चौधरी के कुछ ऐसे वीडियो सामने आ जाते हैं, जिसे देखने के बाद आप भी हक्के-बक्के रह जाएंगे. फिलहाल सपना चौधरी का एक और वीडियो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें वह एक शादी के घर में हरियाणवी या बॉलीवुड नहीं बल्कि देसी डांस करती हुईं नजर आईं. सपना चौधरी (Sapna Choudhary) अपने ठुमके के लिए बेहद मशहूर हैं और इसी वजह से उनकी डिमांड पूरे देश में हैं और स्टेज परफॉर्मेंस के लिए अक्सर जाती रहती हैं.

सपना चौधरी को बुलंदियों पर पहुंचाने वाला Video आया सामने, आपने देखा क्या…


 

सपना चौधरी (Sapna Choudhary) का यह वीडियो किसी शादी वाले घर का है, जिसमें वह बेहद ही देसी अंदाज में डांस करती हुई दिखीं. सपना चौधरी अपने नैचुरल स्वभाव के लिए काफी जानी जाती हैं. सपना जमीन से जुड़ कर हर वर्ग के लोगों से साथ घुल-मिल कर रहना पसंद करती हैं. वहीं स्वभाव इस वीडियो में भी दिखाई दे रहा है. फिलहाल इस वीडियो में उनका देसी डांस हर किसी को पसंद आ रहा है. वैसे सपना चौधरी जल्द ही बॉलीवुड फिल्म ‘दोस्ती के साइड इफेक्ट्स’ से डेब्यू करने जा रही हैं और इस तरह वो बॉलीवुड हीरोइन बन रही हैं. 

 

सपना चौधरी खेल रही थीं बिल्ली से, तभी बातों-बातों में कह बैठीं दिल की बात और फिर…

टिप्पणियां


सपना चौधरी (Sapna Choudhary) लोकप्रियता के मामले में अब काफी आगे निकल चुकी हैं और अब वे सिर्फ उत्तर भारत तक ही सीमित नहीं रही हैं बल्कि देश भर में उनकी पहचान कायम हो गई है तभी तो अब लखनऊ से लेकर बिहार तक में शो कर रही हैं, और उनके शो में खूब भीड़ भी जुटती है. सपना चौधरी की लोकप्रियता में इजाफा करने का काम ‘बिग बॉस’ ने किया. सपना ने बिग बॉस-11 में आकर धूम मचा दी थी, और उसके बाद तो वे हरियाणवी से लेकर बॉलीवुड तक में अपना सिक्का जमा चुकी हैं.

…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…





Source link

Amritsar Train Accident dussehra 2018 tragedy Dalbir Singh who played Ravanas role in Ramlila among dead


नई दिल्ली: Amritsar Train Accident: अमृतसर में दशहरे के दिन बहुत बड़ा ट्रेन हादसा हुआ. इस दौरान रामलीला देखने आए कई लोगों को दो ट्रेनों ने अपनी चपेट में ले लिया. कोई अपने बच्चों के साथ इस मेले में पहुंचा था तो कोई अपने माता-पिता के साथ यहां रावण वध देखने आया था, लेकिन उन्हें नहीं पता था कि यह उनकी ज़िंदगी की आखिरी रामलीला होगी और रावण वध के साथ-साथ वह खुद भी अपनी जान गवां बैठेंगे. वहीं, इस हादसे की चपेट में सिर्फ दर्शक ही नहीं बल्कि खुद रावण का किरदार निभा रहे दलबीर सिंह भी आ गए. लोगों की जान बचाते-बचाते दलबीर सिंह खुद भी अपनी जान गवां बैठे. हादसे के कुछ मिनट पहले ही वो रामलीला खत्म कर अपने घर अपने 8 महीने के बेटे से मिलने निकल चुके थे. लेकिन पटरी तक पहुंचते ही उन्होंने ट्रेन के आने की आवाज़ सुनी और घर ना जाते हुए वहां मौजूद लोगों को हटाने लगे. लेकिन उन्हें नहीं मालूम था कि वो इस हादसे में अपने आपको भी नहीं बचा पाएंगे. 

Amritsar train accident: अमृतसर ट्रेन हादसे की वो 7 वजहें, जिसने खुशी के पल को मातम में बदल दिया​

 

es2as5mo

रावण का किरदार निभा रहे दलबीर सिंह अपने 8 महीने के बेटे के साथ

दलबीर की कहानी

24 साल के दलबीर सिंह इस साल अपने मोहल्ले की रामलीला में रावण का रोल निभा रहे थे. दशहरे के दिन जब हादसा हुआ उस वक्त वो रामलीला से निकल पटरी के पास से अपने घर जा रहे थे. तभी उन्होंने जालंधर से तेज़ रफ़्तार में आ रही ट्रेन को देख लिया वो दौड़ कर लोगों को हटने के लिए आवाज़ देते हुए पटरी के पास भागने लगे लेकिन वो ख़ुद ट्रेन की चपेट में आ गए. उनकी मां का कहना है कि उनके बेटे दलबीर ने बहुत बहादुरी वाला काम किया है.


बता दें दलबीर के पीछे उनकी विधवा मां, उनकी पत्नी और 8 महीने का बेटा ही बचे हैं. दलबीर के परिवार की मांग है कि दलबीर की पत्नी को सरकारी नौकरी मिले और हादसे के लिए ज़िम्मेदार लोगों को सज़ा दी जाए.

साढ़े चार साल और 2 रेल मंत्री, लेकिन नहीं सुधरा सिस्टम और विभाग, 10 बड़े हादसे​

 

ihl8rvig

दलबीर सिंह की पत्नी अपने 8 महीने के बेटे के साथ

अमृतसर ट्रेन हादसा

पंजाब के अमृतसर (Amritsar Train Accident) में जोड़ा फाटक के पास दशहरे के दिन रावण दहन के दौरान दो ट्रेनों की चपेट में आने से 59 लोगों की मौत हो गई. वहीं, 50 से अधिक लोग घायल बताए जा रहे हैं, जिनमें कुछ की हालत बहुत गंभीर बनी हुई है. बता दें अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार की शाम चल रहे दशहरा (Dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. भीड़ के चलते लोग खुद को बचाने में नाकामयाब रहे और ट्रेन की चपेट में आ गए.

टिप्पणियां

दलबीर सिंह का ‘रावण’ का किरदार निभाते हुए आखिरी वीडियो

 





Source link

Amritsar Train Accident: 10 Big Rail Accidents after 2014


साढ़े चार साल और 2 रेल मंत्री, लेकिन नहीं सुधरा सिस्टम और विभाग, 10 बड़े हादसे

Amritsar Train Accident: अमृतसर हादसे में अब तक 61 लोगों के मारे जाने की खबर.

नई दिल्ली : पंजाब के अमृतसर (Train accident in Amritsar) में शुक्रवार की शाम दर्दनाक रेल हादसा हुआ. अमृतसर के जोड़ा फाटक के पास शुक्रवार शाम दशहरा (dussehra 2018) के मौके पर रावण दहन देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ी थी. लोग रेल की पटरियों पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे, तभी अचानक तेज रफ्तार में ट्रेन आई और सैकड़ों लोगों को कुचलती हुई चली गई. रेल पटरियों पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से कम से कम 61 लोगों की मौत हो गई, जबकि 72 अन्य घायल हो गए. यह पहला मौका नहीं है जब रेल दुर्घटना में लोगों को जान गंवानी पड़ी है. अकेले मोदी सरकार के कार्यकाल में ही आधा दर्जन से ज्यादा रेल दुर्घटनाओं में सैकड़ों लोग असमय काल के गाल में समा गए. रेल दुर्घटना के चलते ही सुरेश प्रभु की कुर्सी गई और उनकी जगह पीयूष गोयल को लाया गया, लेकिन सिस्टम और रेलवे की लापरवाही से दुर्घटनाओं पर लगाम नहीं लग सकी.



Source link

Amritsar : Navjot Kaur Sidhu Denies leaving the spot After Accident


खास बातें

  1. रेलवे लाइन के किनारे हुए रावण दहन कार्यक्रम में मौजूद थीं नवजोत कौर
  2. प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक कांग्रेस ने यह कार्यक्रम आयोजित किया था
  3. सिद्धू की पत्नी ने कहा कि वे मदद के लिए अस्पताल पहुंचीं थीं

अमृतसर: पंजाब कांग्रेस की नेता नवजोत कौर सिद्धू ने इस आरोप से इनकार किया है कि वे अमृतसर में रेल लाइन पर हुए हादसे के बाद घटनास्थल से चली गई थीं. गुरुवार की शाम को रावण दहन के दौरान हुई इस दुर्घटना में 60 लोगों की मौत हो गई.

रावण दहन कार्यक्रम की मुख्य अतिथि नवजोत कौर ने कहा कि इस त्रासदीपूर्ण घटना को लेकर राजनीति की जाना शर्मनाक है. उन्होंने कहा कि  “मैंने घर लौटने के बाद ही मौतों के बारे में सुना. मैंने पुलिस आयुक्त को फोन किया और पूछा कि क्या मुझे वापस आना चाहिए? लेकिन उन्होंने कहा कि वहां बहुत अराजक माहौल है. इसलिए मैंने फैसला किया कि मुझे कम से कम उन लोगों को बचाना चाहिए जो घायल हो गए हैं और उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है.”

रेलवे ने अमृतसर हादसे के लिए स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया


घटना के एक प्रत्यक्षदर्शी के मुताबिक यह आयोजन प्रशासन से इजाजत के बिना किया गया. उन्होंने कहा कि जब दुर्घटना हो गई तो पंजब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर घटनास्थल से चली गईं. उन्होंने हम लोगों के प्रति बहुत बुरा रुख अपनाया. एक अन्य प्रत्यक्षदर्शी ने इस कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा कि यह शर्मनाक है कि जो लोग दशहरा को खुशी मनाने के लिए आए थे उन्हें भारी दुख का सामना करना पड़ा, अपने प्रियजनों को खोना पड़ा.

टिप्पणियां

VIDEO : लोगों को इस तरह कुचल दिया ट्रेन ने

स्थानीय मीडिया ने आयोजक के रूप में मिठू मदान नामक व्यक्ति की पहचान की है जो कि कांग्रेस पार्टी का है और स्थानीय पार्षद है.



Source link

Railways blamed local administration for Amritsar accident


खास बातें

  1. कार्यक्रम के लिए रेलवे से कोई इजाजत नहीं दी गई
  2. कहा- प्रशासन को कार्यक्रम का पता था, एक मंत्री की पत्नी भी पहुंचीं थीं
  3. काफी धुंआ होने की वजह से ट्रेन का चालक कुछ भी देखने में असमर्थ था

नई दिल्ली: दशहरे के मौके पर अमृतसर के पास हुए हादसे को लेकर रेलवे का कहना है कि पुतला दहन देखने के लिए लोगों का वहां पटरियों पर एकत्र होना स्पष्ट रूप से अतिक्रमण का मामला था. इस कार्यक्रम के लिए रेलवे द्वारा कोई मंजूरी नहीं दी गई थी.

अमृतसर प्रशासन पर इस हादसे की जिम्मेदारी डालते हुए आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि स्थानीय अधिकारियों को दशहरा कार्यक्रम की जानकारी थी और इसमें एक वरिष्ठ मंत्री की पत्नी ने भी शिरकत की. रेलवे अधिकारियों ने कहा, ‘‘हमें इस बारे में जानकारी नहीं दी गई थी और हमारी तरफ से कार्यक्रम के लिए कोई मंजूरी नहीं दी गई थी. यह अतिक्रमण का स्पष्ट मामला है और स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदारी लेनी चाहिए.”    

यह भी पढ़ें : अमृतसर हादसा : ट्रेन धड़धड़ाती हुई आ रही थी और लोग ट्रैक पर सेल्फी ले रहे थे


इतनी भीड़ होने के बावजूद रेल चालक द्वारा गाड़ी नहीं रोके जाने को लेकर सवाल उठने पर अधिकारी ने कहा, ‘‘वहां काफी धुंआ था जिसकी वजह से चालक कुछ भी देखने में असमर्थ था और गाड़ी घुमाव पर भी थी.”

टिप्पणियां

VIDEO : जश्न मना रहे लोगों के ऊपर से गुजर गई ट्रेन

(इनपुट भाषा से)



Source link

Punjabs CM Amarinder Singh orders for inquiry on amritsar rail accident


अमृतसर: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अमृतसर में हुए रेल हादसे की जांच का आदेश देने के साथ ही प्रदेश में शनिवार को एक दिन के शोक का ऐलान किया. इस हादसे में 60 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि मुख्यमंत्री को शुक्रवार शाम इस्राइल के लिये रवाना होना था लेकिन उन्होंने अपना विदेश दौरा स्थगित कर दिया है. वह अब शनिवार सुबह अमृतसर जाएंगे और राहत और बचाव कार्य पर नजर रखने के साथ ही इस हादसे के पीड़ितों के परिजनों से मिलेंगे. मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘अमृतसर रेल दुर्घटना के मद्देनजर प्रदेश में कल शोक रहेगा. सभी दफ्तर और शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे.”

यह भी पढ़ें: अमृतसर रेल हादसा : PM मोदी ने दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता को मंजूरी दी

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृतसर के पास रावण दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से मारे गए लोगों के परिजनों के लिये दो-दो लाख रूपये, जबकि घायलों के लिये 50 हजार रूपये की आर्थिक सहायता को मंजूरी दी है. एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी. अमृतसर के निकट जोड़ा फाटक पर शुक्रवार शाम रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरी पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से कम से कम 60 लोगों की मौत हो गई जबकि 72 अन्य घायल हो गए. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी. इससे पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर इस हादसे पर दुख व्यक्त किया था. 


यह भी पढ़ें: पंजाब : अमृतसर में रावण दहन देख रहे लोगों पर चढ़ी ट्रेन, कम से कम 60 लोगों की मौत, देखें तस्वीरें…

टिप्पणियां


मोदी ने ट्वीट में कहा, “अमृतसर में ट्रेन हादसे से बेहद दुखी हूं. यह दुख भरी घटना दिल दहलाने वाली है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को पंजाब के अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे पर दुख व्यक्त किया और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट करके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की. उन्होंने ट्वीट किया, “पंजाब के अमृतसर में रेल की पटरी पर हुए हादसे की खबर सुनकर दुखी हूं.मैं समझता हूं कि भारतीय रेलवे और स्थानीय अधिकारी प्रभावित लोगों को मदद पहुंचा रहे होंगे.” 

VIDEO: अमृतसर रेल हादसे पर पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने जताया शोक
  (इनपुट भाषा से)



Source link

PM Modi approves two lakh rupees financial assistance For Kin of deceased Amritsar rail accident


नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृतसर के पास रावण दहन के दौरान ट्रेन की चपेट में आने से मारे गए लोगों के परिजनों के लिये दो-दो लाख रूपये, जबकि घायलों के लिये 50 हजार रूपये की आर्थिक सहायता को मंजूरी दी है. एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी. अमृतसर के निकट जोड़ा फाटक पर शुक्रवार शाम रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरी पर खड़े लोगों के ट्रेन की चपेट में आने से कम से कम 58 लोगों की मौत हो गई जबकि 72 अन्य घायल हो गए. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी. इससे पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर इस हादसे पर दुख व्यक्त किया था. मोदी ने ट्वीट में कहा, “अमृतसर में ट्रेन हादसे से बेहद दुखी हूं. यह दुख भरी घटना दिल दहलाने वाली है. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को पंजाब के अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे पर दुख व्यक्त किया और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट की. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट करके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की. उन्होंने ट्वीट किया, “पंजाब के अमृतसर में रेल की पटरी पर हुए हादसे की खबर सुनकर दुखी हूं.मैं समझता हूं कि भारतीय रेलवे और स्थानीय अधिकारी प्रभावित लोगों को मदद पहुंचा रहे होंगे.” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे पर दुख व्यक्त किया और अधिकारियों को तत्काल पीड़ित लोगों को सहायता पहुंचाने का निर्देश दिया. 

यह भी पढ़ें: पंजाब : अमृतसर में रावण दहन देख रहे लोगों पर चढ़ी ट्रेन, कम से कम 50 लोगों की मौत, देखें तस्वीरें…


वहीं, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि उन्होंने स्थानीय कार्यकर्ताओं से राहत अभियान में शामिल होने को कहा है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘ मैं अमृतसर की इस घटना से बेहद दुखी हूं. मैंने स्थानीय भाजपा इकाई से बातचीत की है और स्थानीय कार्यकर्ताओं से राहत अभियान में शामिल होने को कहा है. मेरी संवेदनाएं उन लोगों के साथ हैं जिन्होंने अपने परिजन को खोया है. मैं घायल लोगों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं.” कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हादसे पर शोक जताते हुए कहा कि उन्होंने राज्य सरकार और पार्टी कार्यकर्ताओं से घटनास्थल पर तत्काल सहायता पहुंचाने को कहा है. गांधी ने कहा, “ पंजाब में ट्रेन हादसे में 50 लोगों की मौत स्तब्ध कर देने वाली है. मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ है. मैं घायल लोगों के तेजी से ठीक होने की कामना करता हूं.” 

यह भी पढ़ें: अमृतसर में बड़ा ट्रेन हादसा, ट्रेन ने कई लोगों को कुचला, कम से कम 50 लोगों की मौत

टिप्पणियां


पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह खुद राहत ए‍वं बचाव कार्य की निगरानी देखने के लिए अमृतसर जा रहे हैं. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि वह इस घटना के बारे में जानकर दुखी और स्तब्ध हैं. उन्होंने ट्वीट किया, “ मैं घायल लोगों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं. रेलवे तत्काल बचाव और राहत कार्य अभियान में जुटा है।” केंद्रीय मंत्री एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए अमेरिका में हैं. यह ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी और यह हादसा जोडा फाटक पर हुआ है. रेलवे पटरी के निकट स्थित मैदान में रावण दहन देखने के लिए कम से कम 300 लोग मौजूद थे. अधिकारियों ने बताया कि कम से कम 60 शव बरामद हुए हैं और कई घायलों को सरकारी अस्पताल में भर्ती किया गया है. उनका कहना है कि मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका है.

VIDEO: ट्रेन ने अमृतसर में इस तरह लोगों को कुचला
 



Source link

Amritsar Train Accident: How Train runs into crowds at Ravan burning: 10 Facts – अमृतसर में कैसे हुआ ट्रेन हादसा जिसने ले ली 50 लोगों की जान


ईमेल करें

अमृतसर में कैसे हुआ ट्रेन हादसा जिसने ले ली 50 लोगों की जान - 10 बातें

नई दिल्‍ली: पंजाब में अमृतसर के निकट शुक्रवार शाम रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरी पर खड़े लोगों के ऊपर ट्रेन चढ़ने से कम से कम 50 लोगों की मौत हो गई. ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ. मौके पर कम से कम 300 लोग मौजूद थे जो पटरियों के निकट एक मैदान में रावण दहन देख रहे थे. अमृतसर के प्रथम उपमंडलीय मजिस्ट्रेट राजेश शर्मा ने बताया कि 50 शवों को बरामद किया गया है और कम से कम 50 घायलों को एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. तो आखिर कैसे हुआ ये हादसा?

हादसे से जुड़ी 10 अहम बातें

  1. उत्तर रेलवे के जीएम ने एनडीटीवी को बताया के एक साथ दोनों ही ट्रैक पर ट्रेन आ जाने की वजह से ये हादसा हुआ. उन्‍होंने बताया कि पहले एक ट्रैक पर ट्रेन आई तो लोग दूसरे ट्रैक पर चले गए लेकिन उस पर भी दूसरी ओर से ट्रेन आ गई और लोगों को भागने का मौका भी नहीं मिला.
  2. कुछ चश्‍मदीदों ने बताया कि ट्रेन आने का पता ही नहीं चला क्‍योंकि रावण दहन के दौरान पटाखों का काफी शोर था, इसलिए ट्रेन के आने की आवाज ही सुनाई नहीं दी. कुछ लोगों ने यह भी कहा कि ट्रेन के ड्राइवर ने हॉर्न भी नहीं बजाया.
  3. अधिकारियों ने बताया कि रावण के पुतले को आग लगाने और पटाखे फूटने के बाद भीड़ में से कुछ लोग रेल की पटरियों की ओर बढ़ना शुरू हो गए जहां पहले से ही बड़ी संख्या में लोग खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे.
  4. उन्होंने बताया कि उसी वक्त दो विपरीत दिशाओं से एक साथ दो ट्रेनें आई और लोगों को बचने का बहुत कम समय मिला.
  5. उन्होंने बताया कि एक ट्रेन की चपेट में कई लोग आ गए. एक गमगीन महिला ने कहा कि हादसे में उसके बेटे की मौत हो गई है.
  6. इस बीच दिल्ली में अधिकारियों ने बताया कि रेलवे ने अपने शीर्ष अधिकारियों को अमृतसर रवाना किया है. वहीं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि राहत एवं बचाव अभियान चलाया जा रहा है.
  7. अधिकारियों ने बताया कि रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी और उत्तरी रेलवे के महाप्रबंधक विश्वेश चौबे घटना स्थल के लिए रवाना हो गए हैं.
  8. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने प्रत्येक मृतक के परिजन को पांच लाख रुपये देने और घायलों के निशुल्क उपचार का ऐलान किया है. अधिकारियों ने कहा कि रेलवे की ओर से मुआवजे पर अभी कोई फैसला नहीं किया गया है.
  9. अब सवाल उठ रहे हैं कि पटरियों के पास रावण दहन की इजाजत कैसे दे दी गई और आखिर लोगों को पटरियों पर खड़े होने की इजाजत कैसे मिल गई.
  10. हादसे में 50 लोगों की मौत हो गई जबकि 50 से अधिक लोग घायल हो गए हैं. मरने वालों की संख्‍या बढ़ भी सकती है.

VIDEO: पंजाब के अमृतसर में बड़ा रेल हादसा, कई लोग ट्रेन की चपेट में आए

Hindi News
से जुड़े अन्य अपडेट
लगातार हासिल करने के लिए हमें

फेसबुक

और

गूगल प्लस

पर ज्वॉइन करें,
ट्विटर

पर फॉलो करे…

पहली बार प्रकाशन:
अक्टूबर 19, 2018 10:14 PM IST





Source link

Passenger held for molesting female flight attendant On Plane 


खास बातें

  1. इंडियो फ्लाइट के अंदर एयरहोस्टेस से छेड़छाड़
  2. नशे में धुत यात्री ने एयरहोस्टेस से की गाली-गलौच
  3. बेंगलुरु के रहने वाले गंगप्पा को किया गया गिरफ्तार

मुंबई: मुंबई से बेंगलुरु जा रहे इंडिगो फ्लाइट (Indigo) में उस समय हंगामा मच गया, जब नशे से धुत एक यात्री ने विमान के अंदर एयरहोस्टेस के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ की. घटना के बाद आरोपी यात्री को गिरफ्तार कर लिया गया है. पुलिस के अधिकारी ने बताया कि मुंबई हवाई अड्डे से विमान के रवाना होने से पहले यात्री ने एयरहोस्टेस से छेड़छाड़ की.

यह भी पढ़ें : एयर विस्तारा की लखनऊ-दिल्ली फ्लाइट में एयर होस्टेस के साथ छेड़छाड़, आरोपी गिरफ्तार

पुलिस अधिकारी ने बताया कि बेंगलुरु के रहने वाले राजू गंगप्पा ने 20 वर्षीय एयरहोस्टेस की पीठ उस वक्त दबाई जब वह उसके पास से गुजर रही थी. एयहोस्टेस ने जब उसे डांटा तो उसने उससे गाली-गलौच की. घटना मंगलवार की है. उन्होंने बताया कि उसने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को इस बारे में सूचित किया जिसके बाद व्यक्ति को उसके सामान के साथ विमान से उतार लिया गया. अधिकारी ने बताया कि उसे सीआईएसएफ के अधिकारियों को सौंप दिया गया और बाद में हवाई अड्डा पुलिस ने उसे अपनी हिरासत में ले लिया.


यह भी पढ़ें : फ्लाइट के दौरान गुजरात के BJP नेता पर लगा 13 वर्षीय किशोरी से छेड़छाड़ का आरोप, गिरफ्तार



उन्होंने कहा कि गंगप्पा पर आईपीसी की धारा 354 (महिला पर हमला या शील भंग करने के उद्देश्य से उससे जबर्दस्ती करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है. अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद उसे बुधवार को मुंबई की एक अदालत में पेश किया गया, जिसने उसे एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया. अधिकारी ने कहा कि मामले में जांच चल रही है. इस मुद्दे पर इंडिगो ने सवालों के जवाब नहीं दिए.

टिप्पणियां

VIDEO : फ्लाइट में छेड़छाड़, आरोपी गिरफ्तार

(इनपुट: भाषा)



Source link

CBSE amends affiliation by laws for schools check details here


नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने स्कूलों को मान्यता देने संबंधी अपने नियमों में बदलाव किया है और अपनी भूमिका शैक्षणिक गुणवत्ता की निगरानी तक सीमित करते हुए आधारभूत ढांचे के ऑडिट की जिम्मेदारी राज्यों पर छोड़ दी है. केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने गुरुवार को घोषणा की कि मान्यता देने वाले सीबीएससी के उप कानूनों को पूरी तरह से बदल दिया गया है ताकि त्वरित ,पारदर्शी, परेशानी मुक्त प्रक्रियाओं और बोर्ड का आसानी से काम करना सुनिश्चित किया जा सके.

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘नए उप कानून पूर्व की बेहद जटिल प्रक्रियाओं से सरल तंत्र में आना दर्शाता है जो प्रक्रियाओं के दोहराव को रोकने पर आधारित है.” उन्होंने कहा, ‘‘वर्तमान में आरईटी कानून के तहत मान्यता तथा एनओसी देने के लिए राज्य शिक्षा प्रशासन स्थानीय निकायों,राजस्व तथा सहकारी विभागों से मिलने वाले अनेक प्रमाणपत्रों का सत्यापन करता है. आवेदन मिलने के बाद सीबीएसई उनका पुन: सत्यापन करता है और इस प्रकार से पूरी प्रक्रिया लंबी हो जाती है.” 

जावडेकर ने कहा कि बोर्ड अब उन पहलुओं को नहीं देखेगा जिनका निरीक्षण राज्य कर चुका है. अब सीबीएसई द्वारा स्कूलों का निरीक्षण परिणाम आधारित और शैक्षणिक तथा गुणवत्ता उन्मुख होगा.गौरतलब है कि देश भर में 20,783 स्कूल सीबीएसई से मान्यता प्राप्त हैं. इनमें कम से कम1.9 करोड़ छात्र और 10 लाख से अधिक शिक्षक हैं.  मान्यता देने से जुड़े उप कानून 1998 में बने थे और अंतिम बार 2012 में उनमें बदलाव किया गया था.


(इनपुट – भाषा)

अन्य खबरें
UP Police: यूपी पुलिस में 56 हजार से ज्यादा पदों पर निकली बंपर वैकेंसी, नवंबर में शुरू होंगे आवेदन
HSSC: हरियाणा पुलिस में 7110 पदों पर निकली वैकेंसी, जल्द करें आवेदन



Source link